श्रीनाथ मार्ग कांवाखेड़ा में गणगौर की पूजा कर रही महिलाओं ने मुंह पर मास्क बांध एक-एक मीटर दूर बैठकर पूजा की। उन्होंने भीलवाड़ा के लोगों को संदेश दिया कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सभी को प्रशासन की ओर से जारी दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए। उन्होंने भी प्रशासन की ओर से जारी गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए पूजा की। महिलाओं ने गणगौर की पूजा में भी प्रार्थना की कि कोरोना जैसी महामारी से सबकी रक्षा करें। इससे साबित होता है कि भीलवाड़ा के लोगों में अब कोरोना के प्रति सजगता आई है और सुरक्षित रहकर ही इस महामारी से चल रही जंग को जीता जा सकता है।  आरसी व्यास कॉलोनी में भी महिलाओं ने कोरोना संक्रमण  को देखते हुए मुंह पर मास्क बांधकर गणगौर की पूजा की।

जहाजपुर से देवेंद्र सिंह के अनुसार, उपखंड क्षेत्र में कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए महिलाओं द्वारा घरों में ही मास्क लगाकर दूरी बनाते हुए गणगौर की पूजा की गई। इस बार लॉक डाउन में भीड़ तो नहीं है लेकिन घरों में ही ईसर-गणगौर प्रतिमाओं की पूजा कर परंपरा निभाई गई। इस बार महिलाएं घरों में ही गणगौर के रूप में शिव-शक्ति स्वरूप ईसर-पार्वती का माटी के स्वरूप बनाकर आराधना कि गई है महिलाओं ने परिवार, समाज, शहर और देश में खुशहाली की कामना की गई है।

आकोला (रमेश चन्द्र ड़ाड) आकोला व आस-पास के गांव में गणगौर पर्व धूमधाम से मनाया गया। महिलाओं ने गणगौर की पूजा अर्चना की व्रत रखा।

मांडल से चन्द्रशेखर तिवाड़ी के अनुसार, लाँकडाऊन के दौरान महिलाओं ने पूर्ण सतर्कता बरतते हुए गणगौर का त्यौहार मनाया। ईसर गणगौर का पूजन करने गई महिलाओं ने न सिर्फ  अपने मुंह पर मास्क बांधे बल्कि पूजास्थल पर भी वांछित दूरी रखकर पूजन किया।

सवाईपुर से सांवर वैष्णव के अनुसार,  सवाईपुर सहित सोपुरा, सालरिया, ढ़ेलाणा, बड़ला, बनकाखेड़ा, चांवडिय़ा, खजीना, ककरोलिया माफ ी, लसाडिय़ा, रेड़वास आदि गांवों में आज गणगौर माता का पर्व मनाया गया। सुमन कंवर व सरिता कंवर ने बताया कि महिलाओं ने ईश्वर जी व माता गणगौर के विधि विधान पूर्ण पूजा-अर्चना कर कर परिवार में सुख समृद्धि व देश में फैल रहे कोरोना वायरस जैसी महामारी के बचाव की कामना की ।  महिलाओं ने कोरोना वायरस के संक्रमण ना फैले को लेकर अपने-अपने घरों में माता गणगौर की पूजा-अर्चना की। 

  मेघरास से हेमराज तेली के अनुसार, मेघरास  में शुक्रवार को गणगौर पर्व मनाया गया। सभी महिलाओं ने घरों में ही पूजा कर कोरोना वायरस से बचाव की कामना की।  
 

" /> श्रीनाथ मार्ग कांवाखेड़ा में गणगौर की पूजा कर रही महिलाओं ने मुंह पर मास्क बांध एक-एक मीटर दूर बैठकर पूजा की। उन्होंने भीलवाड़ा के लोगों को संदेश दिया कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सभी को प्रशासन की ओर से जारी दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए। उन्होंने भी प्रशासन की ओर से जारी गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए पूजा की। महिलाओं ने गणगौर की पूजा में भी प्रार्थना की कि कोरोना जैसी महामारी से सबकी रक्षा करें। इससे साबित होता है कि भीलवाड़ा के लोगों में अब कोरोना के प्रति सजगता आई है और सुरक्षित रहकर ही इस महामारी से चल रही जंग को जीता जा सकता है।  आरसी व्यास कॉलोनी में भी महिलाओं ने कोरोना संक्रमण  को देखते हुए मुंह पर मास्क बांधकर गणगौर की पूजा की।

जहाजपुर से देवेंद्र सिंह के अनुसार, उपखंड क्षेत्र में कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए महिलाओं द्वारा घरों में ही मास्क लगाकर दूरी बनाते हुए गणगौर की पूजा की गई। इस बार लॉक डाउन में भीड़ तो नहीं है लेकिन घरों में ही ईसर-गणगौर प्रतिमाओं की पूजा कर परंपरा निभाई गई। इस बार महिलाएं घरों में ही गणगौर के रूप में शिव-शक्ति स्वरूप ईसर-पार्वती का माटी के स्वरूप बनाकर आराधना कि गई है महिलाओं ने परिवार, समाज, शहर और देश में खुशहाली की कामना की गई है।

आकोला (रमेश चन्द्र ड़ाड) आकोला व आस-पास के गांव में गणगौर पर्व धूमधाम से मनाया गया। महिलाओं ने गणगौर की पूजा अर्चना की व्रत रखा।

मांडल से चन्द्रशेखर तिवाड़ी के अनुसार, लाँकडाऊन के दौरान महिलाओं ने पूर्ण सतर्कता बरतते हुए गणगौर का त्यौहार मनाया। ईसर गणगौर का पूजन करने गई महिलाओं ने न सिर्फ  अपने मुंह पर मास्क बांधे बल्कि पूजास्थल पर भी वांछित दूरी रखकर पूजन किया।

सवाईपुर से सांवर वैष्णव के अनुसार,  सवाईपुर सहित सोपुरा, सालरिया, ढ़ेलाणा, बड़ला, बनकाखेड़ा, चांवडिय़ा, खजीना, ककरोलिया माफ ी, लसाडिय़ा, रेड़वास आदि गांवों में आज गणगौर माता का पर्व मनाया गया। सुमन कंवर व सरिता कंवर ने बताया कि महिलाओं ने ईश्वर जी व माता गणगौर के विधि विधान पूर्ण पूजा-अर्चना कर कर परिवार में सुख समृद्धि व देश में फैल रहे कोरोना वायरस जैसी महामारी के बचाव की कामना की ।  महिलाओं ने कोरोना वायरस के संक्रमण ना फैले को लेकर अपने-अपने घरों में माता गणगौर की पूजा-अर्चना की। 

  मेघरास से हेमराज तेली के अनुसार, मेघरास  में शुक्रवार को गणगौर पर्व मनाया गया। सभी महिलाओं ने घरों में ही पूजा कर कोरोना वायरस से बचाव की कामना की।  
 

">
Video  घरों में ही की गणगौर पूजा, बरती सतर्कता, कोरोना से बचाव की दुआ मांगी

Video  घरों में ही की गणगौर पूजा, बरती सतर्कता, कोरोना से बचाव की दुआ मांगी

  2020-03-27 12:16 pm

भीलवाड़ा हलचल। कोरोना वायरस संक्रमण फैलने से रोकने के लिए कफ्र्यू लगा है। ऐसे में महिलाओं ने समझदारी दिखाते हुये अपने घरों में ही गणगौर पूजा की। महिलाओं ने सरकार की ओर से जारी गाइड लाइन का पालन करते हुये एक-दूसरे से न केवल दूरी बनाकर रखी, बल्कि मास्क भी पहने। जिले में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए लोग अब सजग होने लगे हैं। इसका नजारा आज गणगौर की पूजा करने वाली महिलाओं में दिखा। महिलाओं ने गणगौर की पूजा कर अखंड सुहाग मांगा और प्रार्थना की कि जिलेभर में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण से दुनिया की रक्षा करें। पूजा के समय महिलाओं ने मुंह पर मास्क बांधे और सोशल डिस्टेंस का भी ध्यान रखते हुए एक-एक मीटर दूर बैठकर पूजा की।
श्रीनाथ मार्ग कांवाखेड़ा में गणगौर की पूजा कर रही महिलाओं ने मुंह पर मास्क बांध एक-एक मीटर दूर बैठकर पूजा की। उन्होंने भीलवाड़ा के लोगों को संदेश दिया कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सभी को प्रशासन की ओर से जारी दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए। उन्होंने भी प्रशासन की ओर से जारी गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए पूजा की। महिलाओं ने गणगौर की पूजा में भी प्रार्थना की कि कोरोना जैसी महामारी से सबकी रक्षा करें। इससे साबित होता है कि भीलवाड़ा के लोगों में अब कोरोना के प्रति सजगता आई है और सुरक्षित रहकर ही इस महामारी से चल रही जंग को जीता जा सकता है।  आरसी व्यास कॉलोनी में भी महिलाओं ने कोरोना संक्रमण  को देखते हुए मुंह पर मास्क बांधकर गणगौर की पूजा की।

जहाजपुर से देवेंद्र सिंह के अनुसार, उपखंड क्षेत्र में कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए महिलाओं द्वारा घरों में ही मास्क लगाकर दूरी बनाते हुए गणगौर की पूजा की गई। इस बार लॉक डाउन में भीड़ तो नहीं है लेकिन घरों में ही ईसर-गणगौर प्रतिमाओं की पूजा कर परंपरा निभाई गई। इस बार महिलाएं घरों में ही गणगौर के रूप में शिव-शक्ति स्वरूप ईसर-पार्वती का माटी के स्वरूप बनाकर आराधना कि गई है महिलाओं ने परिवार, समाज, शहर और देश में खुशहाली की कामना की गई है।

आकोला (रमेश चन्द्र ड़ाड) आकोला व आस-पास के गांव में गणगौर पर्व धूमधाम से मनाया गया। महिलाओं ने गणगौर की पूजा अर्चना की व्रत रखा।

मांडल से चन्द्रशेखर तिवाड़ी के अनुसार, लाँकडाऊन के दौरान महिलाओं ने पूर्ण सतर्कता बरतते हुए गणगौर का त्यौहार मनाया। ईसर गणगौर का पूजन करने गई महिलाओं ने न सिर्फ  अपने मुंह पर मास्क बांधे बल्कि पूजास्थल पर भी वांछित दूरी रखकर पूजन किया।

सवाईपुर से सांवर वैष्णव के अनुसार,  सवाईपुर सहित सोपुरा, सालरिया, ढ़ेलाणा, बड़ला, बनकाखेड़ा, चांवडिय़ा, खजीना, ककरोलिया माफ ी, लसाडिय़ा, रेड़वास आदि गांवों में आज गणगौर माता का पर्व मनाया गया। सुमन कंवर व सरिता कंवर ने बताया कि महिलाओं ने ईश्वर जी व माता गणगौर के विधि विधान पूर्ण पूजा-अर्चना कर कर परिवार में सुख समृद्धि व देश में फैल रहे कोरोना वायरस जैसी महामारी के बचाव की कामना की ।  महिलाओं ने कोरोना वायरस के संक्रमण ना फैले को लेकर अपने-अपने घरों में माता गणगौर की पूजा-अर्चना की। 

  मेघरास से हेमराज तेली के अनुसार, मेघरास  में शुक्रवार को गणगौर पर्व मनाया गया। सभी महिलाओं ने घरों में ही पूजा कर कोरोना वायरस से बचाव की कामना की।  
 

news news news news news news news news