अजमेर में नही दिखा बंद का असर

Tue 05 Mar 19  8:43 pm

अजमेर, हलचल ।। कॠद्र सरकार द्वारा स्वर्ण जाति के गरीब वर्ग को दिया जाने वाले १० प्रतिशत आरक्षण का विरोध अजमेर में किया जा रहा था और इसी विरोध के चलते संविधान बचाओ संघर्ष समिति द्वारा १ दिन के लिए भारत बंद का आव्हान किया गया था, लेकिन इस आव्हान का अजमेर पर कोई असर नजर नहीं आया, वहीं पुलिस द्वारा भी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे।
स्वर्ण को दिए जा रहे आरक्षण को लेकर संविधान बचाओ संघर्ष समिति द्वारा विरोध जताया जा रहा है, जिसे लेकर आज पूरे भारत को बंद करने का आव्हान किया गया, लेकिन इस बंद के आव्हान का असर अजमेर में नहीं देखने को मिला।
 अजमेर में यथावत दुकानें खुली है ओर सभी काम काज यथावत चल रहे हैं। संविधान बचाओ संघर्ष समिति द्वारा सोमवार को शहर भर में पम्पलेट बाटे गए थे और कई संगठनों से संपर्क भी किया गया था, लेकिन किसी संगठन द्वारा समर्थन नही मिलने पर समिति द्वारा अजमेर बन्द को इस्तगीत कर दिया गया। 
समिति के पदाधिकरी गुलाबचंद चित्तोडिया ने कहा की अजमेर में ९० प्रतिशत  व्यापारी स्वर्ण है, इसलिए उन्होंने हमारा समर्थन नही किया और उनका कहना है की स्वर्णो को जो आरक्षण दिया गया है जो गलत है क्यों कि संविधान में कोई संशोधन नही किया गया है, उसके बाबजूद यह आरक्षण दे रहे है जिसका हम विरोध करते है। समिति के लोगो द्वारा जीसीए चौराहे पर एक सभा का आयोजन किया और हडताल को इस्तगीस कर दिया गया।
वही पुलिस प्रशासन द्वारा भी बंद को लेकर पूरी सख्ती की गई थी, जिला पुलिस कप्तान के आदेशो के बाद समिति के सदस्यों को पाबन्द कर दिया गया था ओर पूरे दिन उन पर निगाहे रखी गयी और सुबह से ही शहर में अतिरिक्त जाब्ता तैनात कर दिया गया। जिससे आमजन को किसी तरह की कोई परेशानी न हो सके।