इन्सान अगर इन्द्रियों के वशीभूत होना बंद कर दे तो इधर उधर भटकने की जरूरत नहीं पड़ेगी - जितेश मुनि

Tue 19 Mar 19  4:21 pm


भीलवाड़ा (हलचल) शांति भवन  आयोजित धर्म सभा मे सम्बोधित करतें हुयें जितेश मुनि ने कहां कि वह अगर मानव इन्द्रियों के वशीभूत होना बंद करदें तो मानव को दुख का अहसास नहीं होगा सुख मिल जायेगा और व्यक्ति को  सुख की तलाश में कही भी भटकते की आवश्यकता नहीं रहेगी  ,वो तब ही संभव जब मनुष्य विवेक रहित होकर  इन्द्रियों के वशीभूत न बनें तब उसे   मुकेश मुनि ने फरमाया कि कौई भी प्राणी हो संसार सागर मे जीवन का  लक्ष्य होना चाहिये तबही आत्मा का उध्दार हो सकता है ! शांति भवन के अध्यक्ष राजेन्द्र चीपड़ ने बताया की धर्म सभा विराजित संतों की उदयपुर व ब्यावर श्री संघ ने पधारने की विनती रखी !

       शांति जैन महिला मण्डल की अध्यक्षा नेहा चौरड़िया ने बताया कि   20 व 21 तारिख को दोपहर 1 बजें से 3 बजें तक  पंडित रत्न प्रेम मुनि महाराज व साध्वी  ताराकंवर एवं साध्वी स्वर्ण प्रभा  के पावन सानिध्य में दो.दिवसीय शिविर  रखा गया है   बच्चों की परवरिश कैसे करे और नारी का अस्तित्व व.व्यक्तिव पर शांति भवन मे  शिविर रखा गया है 

news news news