नई दिल्‍ली। ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी भीषण आग ने इस ओर किसी का ध्‍यान नहीं आकृष्‍ट किया। एक सप्‍ताह से सीडनी तिल-तिल कर जल रहा है। देश-दुनिया ने आग से होने वाली क्षति पर तो चिंता व्‍यक्‍त की, लेकिन एक बड़े नुकसान की ओर किसी का ध्‍यान नहीं गया। जैव विविधता के विशेषज्ञों इस ओर ध्‍यान आकृष्‍ट किया। विशेषज्ञों ने आग से नुकसान की जो तस्‍वीर पेश वह चौंकाने वाली ही नहीं बल्कि बहुत भयावह है। आइए जानते हैं कि आखिर वह कौन सी चीज है जिस पर किसी का ध्‍यान नहीं गया। क्‍या सच में यह बड़ा नुकसान है ?  

600,000 से 700,000 ऐसी प्रजातियां समूल नष्‍ट 

दरअसल, ऑस्ट्रेलिया के जिन जंगलों में आग लगी है, वह जैव विविधता के लिहाज से बेहद उपयोगी इलाका है। यहां लाख या करोड़ नहीं बल्कि अरबों प्रजाति के जीव-जंतु पाए जाते हैं। किसी ने भी अपने आंकलन में इस ओर ध्‍यान नहीं दिया। जाहिर है इस आग की लपटों ने इन प्रजातियों का समूल नाश कर दिया। जैव विविधता के विशेषज्ञों ने कहा है कि यह कई प्रजातियों के लिए खतरे की घंटी है।

 

उनका कहना है कि 600,000 से 700,000 ऐसी प्रजातियां है जो पूरी दुनिया में कहीं नहीं पाई जाती। कई प्रजातियां केवल इसी जंगल में पाई जाती हैं। ऐसे में इन प्रजातियों का समूल नाश हो गया। यानी यह प्रजाति नष्‍ट हो गई या नष्‍ट होने के कगार पर हैं। भीषण आग के कारण वह आज खतरे में है।

 

250,000 कीट की प्रजातियों पर बड़ा संकट

इस बड़े जंगली इलाके में करीब 250,000 कीट की प्रजातियों पर बड़ा संकट उत्‍पन्‍न हो गया है। खास बात यह है कि यह कीटों की यह प्रजाति केवल इसी जंगल में पाए जाते थे। कई दिनों तक लगी आग से इसमें कई प्रजाति या तो खत्‍म हो गई हैं या खत्‍म होने के कगार पर हैं। आग से इन प्रजातियां के खत्‍म होने का खतरा उत्‍पन्‍न हो गया है। लेकिन इन प्रजातियों पर किसी का ध्‍यान नहीं गया। कीटों की यह प्रजाति जंगलों की जैव विविधता के लिए बेहद उपयोगी है।

 

5 लाख एकड़ के क्षेत्र में फैली आग 

फॉक्स न्यूज के मुताबिक दक्षिणी पूर्वी ऑस्ट्रेलिया में दो जंगली क्षेत्र में आग शुरू हुई थी, जो देखते ही देखते 15 लाख एकड़ के क्षेत्र में फैल गई है। इससे अब तक तीन हजार से ज्यादा घर ध्वस्त हो गए हैं और 26 लोगों की जान गई है। एक अरब से ज्यादा जानवर मर गए हैं या उनकी जान खतरे में है। सिडनी यूनिवर्सिटी के ताजा आकलन में यह जानकारी सामने आई है। यूनिवर्सिटी की तरफ से जारी बयान में प्रोफेसर क्रिस डिकमैन ने कहा है कि आग से जो नुकसान हुआ है, उसकी तुलना करना संभव नहीं है। इस अग्निकांड से जानवरों पर बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ा है

जल के प्राकृतिक स्रोतों अौर जंगलों के जलने से खड़ा हुआ बड़ा सकंट

इसका एक असर और भी पड़ा है। कई दिनों तक लगी इस आग के कारण पानी के कई प्राकृतिक स्रोत खूख गए हैं। आग के कारण कई हरे भरे जंगल खत्‍म हो गए हैं। इससे जीव जंतुओं के समक्ष उनके भोजन एवं प्‍यास बुझाने की समस्‍या खड़ी हो गई है। एेसे में सबसे बड़ा संकट ऊंटों के समक्ष खड़ा हो गया है। इस क्रम में 10,000 जंगली ऊंटों को पालने की योजना बनाई है। दक्षिण ऑस्ट्रेलिया के सुदूर उत्तर पश्चिम में रहने वाले आदिवासी समुदाय, जिन्हें एपीवाई भी कहा जाता है बड़ा सकंट उत्‍पन्‍न हो गया है। इन आदिवासियों के लिए ऊंट (और कुछ जंगली घोड़े) इनकी व्‍यवस्‍था की बुनियाद हैं। अब इन जंगली घोड़ों पर सकंट खड़ा हाे गया है। यहां ऊंटों की संख्‍या दस लाख से अधिक है।

" /> नई दिल्‍ली। ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी भीषण आग ने इस ओर किसी का ध्‍यान नहीं आकृष्‍ट किया। एक सप्‍ताह से सीडनी तिल-तिल कर जल रहा है। देश-दुनिया ने आग से होने वाली क्षति पर तो चिंता व्‍यक्‍त की, लेकिन एक बड़े नुकसान की ओर किसी का ध्‍यान नहीं गया। जैव विविधता के विशेषज्ञों इस ओर ध्‍यान आकृष्‍ट किया। विशेषज्ञों ने आग से नुकसान की जो तस्‍वीर पेश वह चौंकाने वाली ही नहीं बल्कि बहुत भयावह है। आइए जानते हैं कि आखिर वह कौन सी चीज है जिस पर किसी का ध्‍यान नहीं गया। क्‍या सच में यह बड़ा नुकसान है ?  

600,000 से 700,000 ऐसी प्रजातियां समूल नष्‍ट 

दरअसल, ऑस्ट्रेलिया के जिन जंगलों में आग लगी है, वह जैव विविधता के लिहाज से बेहद उपयोगी इलाका है। यहां लाख या करोड़ नहीं बल्कि अरबों प्रजाति के जीव-जंतु पाए जाते हैं। किसी ने भी अपने आंकलन में इस ओर ध्‍यान नहीं दिया। जाहिर है इस आग की लपटों ने इन प्रजातियों का समूल नाश कर दिया। जैव विविधता के विशेषज्ञों ने कहा है कि यह कई प्रजातियों के लिए खतरे की घंटी है।

 

उनका कहना है कि 600,000 से 700,000 ऐसी प्रजातियां है जो पूरी दुनिया में कहीं नहीं पाई जाती। कई प्रजातियां केवल इसी जंगल में पाई जाती हैं। ऐसे में इन प्रजातियों का समूल नाश हो गया। यानी यह प्रजाति नष्‍ट हो गई या नष्‍ट होने के कगार पर हैं। भीषण आग के कारण वह आज खतरे में है।

 

250,000 कीट की प्रजातियों पर बड़ा संकट

इस बड़े जंगली इलाके में करीब 250,000 कीट की प्रजातियों पर बड़ा संकट उत्‍पन्‍न हो गया है। खास बात यह है कि यह कीटों की यह प्रजाति केवल इसी जंगल में पाए जाते थे। कई दिनों तक लगी आग से इसमें कई प्रजाति या तो खत्‍म हो गई हैं या खत्‍म होने के कगार पर हैं। आग से इन प्रजातियां के खत्‍म होने का खतरा उत्‍पन्‍न हो गया है। लेकिन इन प्रजातियों पर किसी का ध्‍यान नहीं गया। कीटों की यह प्रजाति जंगलों की जैव विविधता के लिए बेहद उपयोगी है।

 

5 लाख एकड़ के क्षेत्र में फैली आग 

फॉक्स न्यूज के मुताबिक दक्षिणी पूर्वी ऑस्ट्रेलिया में दो जंगली क्षेत्र में आग शुरू हुई थी, जो देखते ही देखते 15 लाख एकड़ के क्षेत्र में फैल गई है। इससे अब तक तीन हजार से ज्यादा घर ध्वस्त हो गए हैं और 26 लोगों की जान गई है। एक अरब से ज्यादा जानवर मर गए हैं या उनकी जान खतरे में है। सिडनी यूनिवर्सिटी के ताजा आकलन में यह जानकारी सामने आई है। यूनिवर्सिटी की तरफ से जारी बयान में प्रोफेसर क्रिस डिकमैन ने कहा है कि आग से जो नुकसान हुआ है, उसकी तुलना करना संभव नहीं है। इस अग्निकांड से जानवरों पर बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ा है

जल के प्राकृतिक स्रोतों अौर जंगलों के जलने से खड़ा हुआ बड़ा सकंट

इसका एक असर और भी पड़ा है। कई दिनों तक लगी इस आग के कारण पानी के कई प्राकृतिक स्रोत खूख गए हैं। आग के कारण कई हरे भरे जंगल खत्‍म हो गए हैं। इससे जीव जंतुओं के समक्ष उनके भोजन एवं प्‍यास बुझाने की समस्‍या खड़ी हो गई है। एेसे में सबसे बड़ा संकट ऊंटों के समक्ष खड़ा हो गया है। इस क्रम में 10,000 जंगली ऊंटों को पालने की योजना बनाई है। दक्षिण ऑस्ट्रेलिया के सुदूर उत्तर पश्चिम में रहने वाले आदिवासी समुदाय, जिन्हें एपीवाई भी कहा जाता है बड़ा सकंट उत्‍पन्‍न हो गया है। इन आदिवासियों के लिए ऊंट (और कुछ जंगली घोड़े) इनकी व्‍यवस्‍था की बुनियाद हैं। अब इन जंगली घोड़ों पर सकंट खड़ा हाे गया है। यहां ऊंटों की संख्‍या दस लाख से अधिक है।

">
तिल‍-तिल कर जलता ऑस्ट्रेलिया, एक अरब जानवरों का अस्तित्‍व संकट में

तिल‍-तिल कर जलता ऑस्ट्रेलिया, एक अरब जानवरों का अस्तित्‍व संकट में

  2020-01-13 02:55 pm


नई दिल्‍ली। ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी भीषण आग ने इस ओर किसी का ध्‍यान नहीं आकृष्‍ट किया। एक सप्‍ताह से सीडनी तिल-तिल कर जल रहा है। देश-दुनिया ने आग से होने वाली क्षति पर तो चिंता व्‍यक्‍त की, लेकिन एक बड़े नुकसान की ओर किसी का ध्‍यान नहीं गया। जैव विविधता के विशेषज्ञों इस ओर ध्‍यान आकृष्‍ट किया। विशेषज्ञों ने आग से नुकसान की जो तस्‍वीर पेश वह चौंकाने वाली ही नहीं बल्कि बहुत भयावह है। आइए जानते हैं कि आखिर वह कौन सी चीज है जिस पर किसी का ध्‍यान नहीं गया। क्‍या सच में यह बड़ा नुकसान है ?  

600,000 से 700,000 ऐसी प्रजातियां समूल नष्‍ट 

दरअसल, ऑस्ट्रेलिया के जिन जंगलों में आग लगी है, वह जैव विविधता के लिहाज से बेहद उपयोगी इलाका है। यहां लाख या करोड़ नहीं बल्कि अरबों प्रजाति के जीव-जंतु पाए जाते हैं। किसी ने भी अपने आंकलन में इस ओर ध्‍यान नहीं दिया। जाहिर है इस आग की लपटों ने इन प्रजातियों का समूल नाश कर दिया। जैव विविधता के विशेषज्ञों ने कहा है कि यह कई प्रजातियों के लिए खतरे की घंटी है।

 

उनका कहना है कि 600,000 से 700,000 ऐसी प्रजातियां है जो पूरी दुनिया में कहीं नहीं पाई जाती। कई प्रजातियां केवल इसी जंगल में पाई जाती हैं। ऐसे में इन प्रजातियों का समूल नाश हो गया। यानी यह प्रजाति नष्‍ट हो गई या नष्‍ट होने के कगार पर हैं। भीषण आग के कारण वह आज खतरे में है।

 

250,000 कीट की प्रजातियों पर बड़ा संकट

इस बड़े जंगली इलाके में करीब 250,000 कीट की प्रजातियों पर बड़ा संकट उत्‍पन्‍न हो गया है। खास बात यह है कि यह कीटों की यह प्रजाति केवल इसी जंगल में पाए जाते थे। कई दिनों तक लगी आग से इसमें कई प्रजाति या तो खत्‍म हो गई हैं या खत्‍म होने के कगार पर हैं। आग से इन प्रजातियां के खत्‍म होने का खतरा उत्‍पन्‍न हो गया है। लेकिन इन प्रजातियों पर किसी का ध्‍यान नहीं गया। कीटों की यह प्रजाति जंगलों की जैव विविधता के लिए बेहद उपयोगी है।

 

5 लाख एकड़ के क्षेत्र में फैली आग 

फॉक्स न्यूज के मुताबिक दक्षिणी पूर्वी ऑस्ट्रेलिया में दो जंगली क्षेत्र में आग शुरू हुई थी, जो देखते ही देखते 15 लाख एकड़ के क्षेत्र में फैल गई है। इससे अब तक तीन हजार से ज्यादा घर ध्वस्त हो गए हैं और 26 लोगों की जान गई है। एक अरब से ज्यादा जानवर मर गए हैं या उनकी जान खतरे में है। सिडनी यूनिवर्सिटी के ताजा आकलन में यह जानकारी सामने आई है। यूनिवर्सिटी की तरफ से जारी बयान में प्रोफेसर क्रिस डिकमैन ने कहा है कि आग से जो नुकसान हुआ है, उसकी तुलना करना संभव नहीं है। इस अग्निकांड से जानवरों पर बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ा है

जल के प्राकृतिक स्रोतों अौर जंगलों के जलने से खड़ा हुआ बड़ा सकंट

इसका एक असर और भी पड़ा है। कई दिनों तक लगी इस आग के कारण पानी के कई प्राकृतिक स्रोत खूख गए हैं। आग के कारण कई हरे भरे जंगल खत्‍म हो गए हैं। इससे जीव जंतुओं के समक्ष उनके भोजन एवं प्‍यास बुझाने की समस्‍या खड़ी हो गई है। एेसे में सबसे बड़ा संकट ऊंटों के समक्ष खड़ा हो गया है। इस क्रम में 10,000 जंगली ऊंटों को पालने की योजना बनाई है। दक्षिण ऑस्ट्रेलिया के सुदूर उत्तर पश्चिम में रहने वाले आदिवासी समुदाय, जिन्हें एपीवाई भी कहा जाता है बड़ा सकंट उत्‍पन्‍न हो गया है। इन आदिवासियों के लिए ऊंट (और कुछ जंगली घोड़े) इनकी व्‍यवस्‍था की बुनियाद हैं। अब इन जंगली घोड़ों पर सकंट खड़ा हाे गया है। यहां ऊंटों की संख्‍या दस लाख से अधिक है।

news news news news news news news news