नाबालिग से दुष्कर्म, बाल अपचारी को मिली सात साल की सजा 

नाबालिग से दुष्कर्म, बाल अपचारी को मिली सात साल की सजा 

  2020-02-14 04:49 pm

 भीलवाड़ा हलचल। विशिष्ट न्यायाधीश (पोक्सो एक) बन्नालाल जाट ने शुक्रवार को एक बाल अपचारी को सात साल की सजा और 6 हजार रुपये जुर्माने से दंडित किया है। मामला एक नाबालिग लड़की को अगवा कर दुष्कर्म करने से जुड़ा है। 
विशिष्ट लोक अभियोजक हर्षरांंका ने बताया कि जिले के जहाजपुर थाने में एक नाबालिग ने 15 नवंबर 2017 को रिपोर्ट दर्ज करवाई। इसमें परिवादिया का कहना था कि वह 8 नवंबर को अपने पिता के घर में सो रही थी। इसी दौरान बाल अपचारी उसके घर आया और उसका मुहं कपड़े से बांध दिया। वह, उसे पूलिया के पास ले गया। जहां बाल अपचारी के माता-पिता और जीजा मौजूद थे। सभी ने परिवादिया को बाल अपचारी के जीजा की बाइक पर बैठा दिया और पीछे अपचारी बैठा, जिसने उसका मुहं दबाये रखा। ये लोग उसे सथुर ले गये, जहां बाल अपचारी ने उसके साथ दुष्कर्म किया। दूसरे दिन उसे पहाड़ी टपरी वाले इलाके में ले गये, जहां से परिवादिया बचकर निकली और माता-पिता के पास पहुंची, जहां उसने आपबीती उन्हें बताई। जहाजपुर पुलिस ने इस रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर बाल अपचारी को डिटेन कर न्यायालय में चार्जशीट पेश की। न्यायालय ने मामले में सुनवाई पूरी होने पर आज बाल अपचारी को सजा और जुर्माने से दंडित किया। न्यायालय ने आदेश दिया कि जुर्माना राशि वसूल होने पर पीडि़ता को उसके संरक्षक के जरिये अदा की जाये। आपकों बता दें कि बाल अपचारी 25 जुलाई 21 को 21 वर्ष की आयू पूर्ण करेगा। 
  

news news news news news news news news