मातृकुण्डिया बांध के हिस्से का पानी बनास नदी में छोड़ने की मांग

  2020-10-16 01:10 pm
<p style="text-align:justify"><strong>भीलवाडा (हलचल) ।</strong>&nbsp; &nbsp; बनास बचाओ आदंोलन समिति ने राज्य सरकार से मातृकुण्डिया बांध का पानी मेजा बांध में छोडने के पश्चात बनास नदी के हिस्से का पानी नदी में छोडने की मांग को लेकर आंदोलन समिति के प्रदेश संयोजक दयाराम &rsquo;दिव्य&rsquo; ने मुख्यमंत्री से अविलम्ब बनास नदी में पानी छोडने की मांग की है।<br /> &nbsp; &nbsp; &nbsp; &nbsp; आंदोलन समिति ने मेजा बांध में मातृकुण्डिया बांध में पानी के छोडने को लेकर बनास नदी के हिस्से का पानी नदी में छोडने की पूर्ववत मांग को लेकर राज्य सरकार को अवगत कराते हुए ज्ञापन भेज कहा कि बनास नदी के गिरते जल स्तर एवं खेतो की सिंचाई के मद्वेनजर जलसंसाधन विभाग को आवश्यक निर्देश दें भीलवाड़ा एवं चित्तौडगढ के सैकडो गांव के किसानो को राहत प्रदान करें ।<br /> &nbsp; &nbsp; &nbsp; &nbsp; राशमी, उपखण्ड क्षैत्र के स्थानीय गांवो के किसानो की मेजा बांध में पानी छोडने के बजाय बनास नदी में छोडने की मांग की जाती रही है, वही जल संसाधन विभाग चित्तौडगढ एवं जल संसाधन के अधीक्षण अभियन्ता भीलवाडा के दोनो के मध्य इस पर पूर्व में समझौता हो रखा है तथा नियमानुसार सिंचाई हेतु &nbsp;बनास नदी के जल स्तर को बढाने के लिए नदी के हिस्से का पानी छोडा जाता रहा है। वर्तमान में अच्छी बरसात नहीं होने से भीलवाडा, चित्तौडगढ, जिलो के पेटाक्षेैत्र के विभिन्न गांव पेयजल के साथ ही कुओं के गिरते जल स्तर से खासे प्रभावित है तथा बनास नदी में अवैध बजरी दोहन से नदी का सेजा बिगडा है जिससे दोनो जिलो में खेतीहर किसानो को रेलणी में परेशानी आ रही है। आंदोलन समिति ने जल संसाधन विभाग के अधीक्षण अभियन्ता एवं भीलवाडा-चित्तौडगढ कलेक्टरो को ज्ञापन के जरिये अवगत कराया।</p>
news news news news news news news news
कोरोना अपडेट
More Textile News