प्रदेश के पहले मॉडल न्यायालय परिसर का लोकार्पण

Sun 03 Nov 19  5:11 pm


चित्तौडग़ढ़ (हलचल)। राजस्थान उच्च न्यायालय जोधपुर के विशाल भवन के बाद अब चित्तौडग़ढ़ में भी विशाल भवन वाला न्यायालय तैयार हो गया है, जिसका लोकार्पण आज देश व प्रदेश के न्यायाधिपति एवं न्यायाधीशों के सानिध्य में किया गया।
नवीन न्यायालय भवन का लोकार्पण कल्लाजी वेदपीठ एवं शोध संस्थान द्वारा संचालित वेद विद्यालय के 21 बटुकों द्वारा किये जाने वाले मंत्रोच्चार के साथ किया गया। आगंतुक अतिथियों का स्वागत भी वामनरूपी बटुकों के स्वस्तिवाचन से हुआ। मौली बंधन खोलकर मुख्य अतिथि ने मंत्रोच्चारण के बीच न्यायालय का लोकार्पण किया। लोकार्पण के बाद न्यायाधीशों ने नवीन कोर्ट परिसर का अवलोकन किया और डीजे 1 कोर्ट का निरीक्षण कर परिसर में बने आधुनिक शौचालयों को देखा। इस दौरान अधिवक्ता कक्ष का भी मौली बंधन खोलकर लोकार्पण किया गया। भारतीय सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश दिनेश माहेश्वरी ने कोर्ट परिसर में पौधारोपण भी किया।
मुख्य अतिथि उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश दिनेश माहेश्वरी व विशिष्ट अतिथि उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश एस रविन्द्र भट्ट ने दीप प्रज्ज्वलित किया। सभी अतिथियों का स्वागत मेवाड़ी परम्परानुसार साफा व उपरणा पहनाकर किया गया।
राजस्थान उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश इंद्रजीत महंती, राजस्थान उच्च न्यायालय के प्रशासनिक जज मोहम्मद रफीक, राजस्थान उच्च न्यायालय के चित्तौडग़ढ़ जजशिप इंस्पेक्टिंग जज डॉ. पुष्पेंद्रसिंह भाटी तथा राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायाधीश विनीत कुमार माथुर का स्वागत मेवाड़ी परम्परानुसार किया गया। जिला कलेक्टर चेतन देवड़ा का स्वागत भी इसी तरह किया गया।
जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री हेमंत कुमार जैन ने बताया कि लगभग 24 करोड़ रूपए की लागत से नवनिर्मित न्यायालय भवन में जिला मुख्यालय स्थित 13 न्यायालयों के न्यायाधिकारी एवं उनके स्टाफ के लिए पर्याप्त आधुनिक सुविधाओं युक्त व्यवस्थाएं उपलब्ध कराई गई हैं। इस भवन में पार्किंग, गैराज, गार्डन, कैन्टीन, पोस्ट ऑफिस, डिस्पेन्सरी, एटीएम आदि सुविधाएं उपलब्ध हैं।

news news news