लोगों को चकमा देने के लिए वह अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल पर भी आईपीएस लिखे हुए है। इसके साथ ही विभिन्न लोगों के फोन नंबर अपने मोबाइल में कलेक्टर के नाम से सेव किए हुए है। जब भी इससे होटल संचालक पैसे की डिमांड करते, तो उन्हीं नंबरों से इसके फोन पर फोन आता था। उन लोगों से वह होटल संचालकों को बात करवाता था।

उज्जैन में दर्ज है रेप केस

लंकेश की गिरफ्तारी के बाद चला कि यह एक फर्जी अधिकारी है। होटल में पुलिसकर्मियों को देख वह घबरा गया था। गिरफ्तारी के बाद यह जानकारी सामने आई है कि लंकेश के ऊपर उज्जैन में रेप और धोखाधड़ी के केस दर्ज हैं। इसकी पुष्टि उज्जैन के चिमनगंज और नीलगंगा थाने की पुलिस ने की है। गिरफ्तारी से बचने के लिए वह विभिन्न होटलों में जाकर रुकता था।

दिल्ली के व्यवसायी के नाम पर बुक कराया था कमरा

फर्जी आईपीएस आयुष शर्मा उर्फ लंकेश ने खुद को दिल्ली का बड़ा कारोबारी बता कर कमरा बुक कराया था। टीआई तहजीब काजी ने बताया कि होटल संचालक ने जब उससे पैसे की मांग की तो वह रौब झाड़ने लगा और खुद को आईपीएस माथुर बताया। डीएसपी क्राइम ब्रांच दिल्ली, डीएसपी उज्जैन, कलेक्टर उज्जैन सहित अन्य अफसरों के नाम से सेव दोस्तों को मिस्ड लगाए और होटल मैनेजर और कर्मचारियों को दिखा कर रौब झाड़ने लगा। लंकेश ने होटल मैनेजर को समझाने के लिए बीजेपी विधायक रमेश मेंदोला, मालिनी गौड़ और शहर अध्यक्ष गौरव रणदीवे को भी कई बार फोन लगाए।

" />

लोगों को चकमा देने के लिए वह अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल पर भी आईपीएस लिखे हुए है। इसके साथ ही विभिन्न लोगों के फोन नंबर अपने मोबाइल में कलेक्टर के नाम से सेव किए हुए है। जब भी इससे होटल संचालक पैसे की डिमांड करते, तो उन्हीं नंबरों से इसके फोन पर फोन आता था। उन लोगों से वह होटल संचालकों को बात करवाता था।

उज्जैन में दर्ज है रेप केस

लंकेश की गिरफ्तारी के बाद चला कि यह एक फर्जी अधिकारी है। होटल में पुलिसकर्मियों को देख वह घबरा गया था। गिरफ्तारी के बाद यह जानकारी सामने आई है कि लंकेश के ऊपर उज्जैन में रेप और धोखाधड़ी के केस दर्ज हैं। इसकी पुष्टि उज्जैन के चिमनगंज और नीलगंगा थाने की पुलिस ने की है। गिरफ्तारी से बचने के लिए वह विभिन्न होटलों में जाकर रुकता था।

दिल्ली के व्यवसायी के नाम पर बुक कराया था कमरा

फर्जी आईपीएस आयुष शर्मा उर्फ लंकेश ने खुद को दिल्ली का बड़ा कारोबारी बता कर कमरा बुक कराया था। टीआई तहजीब काजी ने बताया कि होटल संचालक ने जब उससे पैसे की मांग की तो वह रौब झाड़ने लगा और खुद को आईपीएस माथुर बताया। डीएसपी क्राइम ब्रांच दिल्ली, डीएसपी उज्जैन, कलेक्टर उज्जैन सहित अन्य अफसरों के नाम से सेव दोस्तों को मिस्ड लगाए और होटल मैनेजर और कर्मचारियों को दिखा कर रौब झाड़ने लगा। लंकेश ने होटल मैनेजर को समझाने के लिए बीजेपी विधायक रमेश मेंदोला, मालिनी गौड़ और शहर अध्यक्ष गौरव रणदीवे को भी कई बार फोन लगाए।

">
फर्जी IPS लंकेश गिरफ्तार,  पैसे मांगने पर कहा- मैं IPS माथुर हूं

फर्जी IPS लंकेश गिरफ्तार, पैसे मांगने पर कहा- मैं IPS माथुर हूं

  2020-09-17 03:36 pm

उज्जैन के रहने वाले फर्जा आईपीएस आयुष शर्मा को इंदौर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। फर्जी आईपीएस के खिलाफ उज्जैन के कई थानों में मामले दर्ज हैं। वह फरारी काटने के लिए होटलों का सहारा लेता है। होटलों में आईपीएस के नाम पर रुकता था। साथ ही जब होटल के बिल भुगतान की बारी आती थी, तब आयुष रौब झाड़ने लगता था। होटल संचालकों को वह अपने फोन पर दिखाता था कि देखो जिले के कलेक्टर और एसपी के फोन आ रहे हैं। मैं यहां सरकारी कार्य से आया हूं।

होटल संचालक ने की शिकायत

इंदौर के विजय नगर इलाके स्थित एक होटल में फर्जी आईपीएस आयुष शर्मा रुका हुआ था। वह बिल मांगने पर होटल संचालकों को धमका रहा था। आयुष की धमकियों से अजीज आकर एक होटल संचालक ने विजय नगर पुलिस को इसकी शिकायत की थी। पुलिस अधिकारी ने आश्वासन दिया था कि बिल न भुगतान करने पर मेरे पास शिकायत करना। बुधवार को फिर से वह इसी तरह से आनाकानी कर रहा था, उसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

आयुष शर्मा उर्फ लंकेश है नाम

बीते कई दिनों से इंदौर के होटल वाओ में उज्जैन के सेठी नगर में रहने वाला आयुष शर्मा फरारी काट रहा था। उसे लोग लंकेश के नाम से भी जानते हैं। फर्जी आईपीएस लंकेश ज्यादातर काले कपड़े में ही रहता था। इसके साथ ही इसने गले में सोने का मोटा चेन भी पहन रखा है।

फेसबुक पर लिखा आईपीएस

लोगों को चकमा देने के लिए वह अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल पर भी आईपीएस लिखे हुए है। इसके साथ ही विभिन्न लोगों के फोन नंबर अपने मोबाइल में कलेक्टर के नाम से सेव किए हुए है। जब भी इससे होटल संचालक पैसे की डिमांड करते, तो उन्हीं नंबरों से इसके फोन पर फोन आता था। उन लोगों से वह होटल संचालकों को बात करवाता था।

उज्जैन में दर्ज है रेप केस

लंकेश की गिरफ्तारी के बाद चला कि यह एक फर्जी अधिकारी है। होटल में पुलिसकर्मियों को देख वह घबरा गया था। गिरफ्तारी के बाद यह जानकारी सामने आई है कि लंकेश के ऊपर उज्जैन में रेप और धोखाधड़ी के केस दर्ज हैं। इसकी पुष्टि उज्जैन के चिमनगंज और नीलगंगा थाने की पुलिस ने की है। गिरफ्तारी से बचने के लिए वह विभिन्न होटलों में जाकर रुकता था।

दिल्ली के व्यवसायी के नाम पर बुक कराया था कमरा

फर्जी आईपीएस आयुष शर्मा उर्फ लंकेश ने खुद को दिल्ली का बड़ा कारोबारी बता कर कमरा बुक कराया था। टीआई तहजीब काजी ने बताया कि होटल संचालक ने जब उससे पैसे की मांग की तो वह रौब झाड़ने लगा और खुद को आईपीएस माथुर बताया। डीएसपी क्राइम ब्रांच दिल्ली, डीएसपी उज्जैन, कलेक्टर उज्जैन सहित अन्य अफसरों के नाम से सेव दोस्तों को मिस्ड लगाए और होटल मैनेजर और कर्मचारियों को दिखा कर रौब झाड़ने लगा। लंकेश ने होटल मैनेजर को समझाने के लिए बीजेपी विधायक रमेश मेंदोला, मालिनी गौड़ और शहर अध्यक्ष गौरव रणदीवे को भी कई बार फोन लगाए।

news news news news news news news news