बरसाती पानी की निकासी के लिए बनाए जा रहे नाले के बंद पड़े निर्माण को वापस शुरू करवाने की मांग

बरसाती पानी की निकासी के लिए बनाए जा रहे नाले के बंद पड़े निर्माण को वापस शुरू करवाने की मांग

  2020-05-22 10:39 pm

बिजौलियां (जगदीश सोनी)। कस्बे के बूंदी रोड पर बरसाती पानी की निकासी के लिए ग्राम पंचायत द्वारा बनाए जा रहे नाले के बंद पड़े निर्माण को वापस शुरू करने की मांग को लेकर ब्लॉक कांग्रेस संगठन महामंत्री शक्तिनारायण शर्मा ने जिला कलक्टर के नाम एक ज्ञापन उपखंड अधिकारी महेश चंद्र मान को सौंपा। शक्तिनारायण शर्मा ने बताया कि बूंदी से बिजौलियां के बीच हाल ही में स्टेट हाईवे बना है। जहां भी आबादी क्षेत्र है वहां सड़क के दोनों तरफ  3 फीट चौड़ा एवं 4 फीट गहरा नाला सड़क निर्माण कंपनी द्वारा बनाया गया था। वहीं दूसरी तरफ बिजौलिया के मेवाड़ा गेस्ट हाउस से छाई बाई की नदी की तक गौरव पथ का निर्माण अन्य सड़क निर्माण कंपनी द्वारा किया गया था। गौरव पथ का निर्माण करने वाली सड़क निर्माण कंपनी द्वारा घटिया सामग्री का इस्तेमाल किए जाने के कारण कंपनी के ठेकेदार को ब्लैक लिस्ट करके जेल भेज दिया गया था। गौरव पथ का निर्माण करने वाली कंपनी द्वारा सड़क निर्माण तो किया गया किंतु नाला नहीं बनाया गया। वर्तमान में ग्राम पंचायत द्वारा इस सड़क के किनारे नाला निर्माण का कार्य किया जा रहा है किंतु तेजाजी चौक में नाला निर्माण की दिशा को लेकर विवाद पैदा हो गया और दो पक्ष बन गए। इसके चलते नाले का निर्माण फिलहाल बंद है। एक पक्ष का कहना है कि नाले का पानी गोविंद सागर तालाब में डाला जाए वही दूसरे पक्ष का मत है कि नाले को पुराने रिकार्डेड नाले में डाला जाए। गौरतलब है कि पूर्व का रिकार्डेड नाला करीब 60 साल पूर्व दर्ज हुआ था। उस समय बिजौलियां की आबादी परकोटे के अंदर तक सीमित थी, बाहर कोई बस्ती नहीं थी। रिकॉर्ड में दर्ज नाले से केवल बरसाती पानी की ही निकासी होती थी परंतु आज हालात बदल चुके हैं। उस समय बिजौलिया की आबादी करीब तीन हजार थी जबकि आज आबादी 30 हजार के लगभग है। ऐसे में हर स्थिति को देखते हुए पानी की निकासी सुचारू रूप से बिना रुकावट के हो सके, ऐसा रास्ता निकाला जाना चाहिए। जरूरत पडऩे पर इसके लिए दक्ष इंजीनियर्स की मदद भी ली जानी चाहिए जिससे समस्या का स्थायी समाधान हो सके।

news news news news news news news news