भारत की जनता धर्मप्रेमी एवं धर्मभीरु है - सुधासागर महाराज

भारत की जनता धर्मप्रेमी एवं धर्मभीरु है - सुधासागर महाराज

Tue 18 Jun 19  4:16 pm


भीलवाडा (हलचल) । भारतीय न्याय एवं कानून व्यवस्था की कितनी पवित्र एवं महान है कि यहां पर अपराधी एवं डाकू भी सत्य बोलते है तो उन पर दया की जाती है, जैसे चम्बल के डाकू को आत्मसमर्पण करने पर माफ किया गया। साथ ही इसे विश्वास है कि भारत की जनता धर्मप्रेमी एवं धर्मभीरु है, जो कि भगवान, गीता, शास्त्र, बाइबल आदि की शपथ लेकर कभी झूठ नही बोलेगे, तभी तो आपका बयान सत्य रुप में स्वीकार किया जाता है। देव शास्त्र गुरु की शपथ लेकर अगर कोई झूठ बोलता है तो उसका पतन निश्चित है। मेरा तो कहना है कि गुरु, माता-पिता आदि के सामने कभी झूठ मत बोलना, चाहे फांसी पर लटकना होतो लटक जाना। धर्म एवं गुरु तुम्हारे पाप को पुण्य में बदलने के माध्यम है। यह बात जगत पुज्य मुनि पुंगव 108 श्री सुधासागर जी महाराज ने मंगलवार प्रातः आर के कॉलोनी दिगम्बर जैन मंदिर में मंगल प्रवचन के दौरान कही। उन्होंने कहाकि अगर अपने जीवन में शक्ति चाहिए तो इस बात का आंकलन करे कि तुम्हारी संगत या दोस्ती अच्छे आदमियों से है या बुरे आदमियों से। तुम्हारा गुरु अच्छा है, तुम स्वयं भी अच्छे हो, तो फिर भी तुम्हारा भला क्यों नही हो रहा है। यह तुम्हारी बुरी संगत का असर है। आज के समय में तुम्हारे मोबाइल में किस का फोटो है, क्या टोन है, यह तुम्हारे चरित्र को प्रदर्शित करती है। यह वैज्ञानिक सत्य है कि तुम्हारा पालने में पडा हुआ बालक भी अगर तुम मोबाइल पर गन्दे चित्र देखते हो या बुरा सुनते हो तो उस बालक का भविष्य भी अंधकारमय होना निश्चित है।  अपने उत्थान के लिए अपने चारों ओर सकारात्मक ऊर्जा को एकत्रित करो, जो कि गुरु, अच्छे व्यक्तियों की संगत से प्राप्त होगी।
प्रवचन के बाद सुधासागर महाराज ससंघ सानिध्य में आदिनाथ दिगम्बर जैन मंदिर प्रांगण में नवनिर्मित औषधालय (फिजियोथिरेपी) एवं तीन मंजिले सुधासन्त निवास का लोकार्पण प्रेमचन्द अंजनादेवी, जम्बू कुमार, दिलसुख राय, ललितकुमार, मनोजकुमार भैंसा परिवार ने किया। इस अवसर पर ट्रस्ट की ओर से भैंसा परिवार का सम्मान किया गया। 
प्रातः शांतिधारा के समय सुधासागर महाराज ने कहाकि आरके कॉलोनी मंदिर को ओर भव्य रुप देने एवं अकृत्रिम चैत्यालय बनाने के लिए ऊपर में दो मंजिल ओर उठाकर विशाल जिन प्रतिमा एवं चौबिसी की स्थ्ज्ञापना की जानी चाहिए। उन्होंने कहाकि इस मंदिर के कार्यकर्ता काम करने में कभी थकते नही है एवं यह जिम्मेदारी उठाने में सक्षम है। सुधासागर के सानिध्य में सतपाल विकास पाटनी ने 108 रिद्धी मंत्रों से अभिषेक एवं मूलनायक पर शांतिधारा की, इसके साथ महेन्द्र विपिन सेठी, आत्मप्रकाश लुहाडिया, राजेन्द्र अमन जैन, बालचन्द सुशील शाह, नेमीचन्द जैन् मानपुरा, राजकुमार अजित अग्रवाल, अशोक प्रतीक गंगवाल, अजय बाकलीवाल ने अन्य प्रतिमाओं पर शांतिधारा एवं अभिषेक किया।
सायं आयोजित शंका समाधान के बाद सुधासागर महाराज ने भक्तामर आरती रिद्धी मंत्रों का वाचन किया। महेन्द्र समुन, विपिन मृदुला, रागांश सेठी एवं सुरेश मीना, नितिन अजमेरा परिवार ने 48 दीपक जलाकर भक्तामर की आरती की।  
शास्त्रीनगर में मंगल प्रवेश बुधवार को
आरके कॉलोनी स्थिति जैन मंदिर से बुधवार सुबह शांतिधारा एवं अभिषेक के बाद शास्त्रीनगर के लिए विहार करेगे। मुनि ससघं यहां से कृषि ऊपज मण्डी चौराहे से होते हुए सूचना केन्द्र होते हुए जुलुस के साथ शास्त्रीनगर स्थित पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मंदिर में मंगल प्रवेश होगा।

news news news