मानव का जीवन ही परमात्मा की पहचान ..संत गर्ग

मानव का जीवन ही परमात्मा की पहचान ..संत गर्ग

Mon 27 May 19  12:52 pm


भीलवाड़ा (हलचल)।  सन्त निरंकारी मंडल द्वारा चलाये जा रहे मानव कल्याण यात्रा के तहत दिल्ली से आये ब्रह्यम ज्ञानी संत ने अपने दो दिवसीय यात्रा के तहत विभिन्न स्थानो पर मानव एकता का संदेश  दिया ।
स्थानीय संयोजक जगपाल सिंह ने बताया कि रविवार को सिन्धुनगर स्थित साप्ताहिक सत्संग सभा को  सम्बोधित करते हुए संत अविनाश गर्ग ने कहा कि सदगुरू की कृपा से हमें निरंकार का ज्ञान प्रदान किया है । हमें ब्रह्यम ज्ञान देकर निरंकार से सदैव जुडे रहने की प्रेरणा दी । हमें इसे अपनी नियमित दिनचर्या में लाना चाहिए और हर पल निरंकार प्रभु का सुमिरण करना चाहिए । रविवार रात्रि को गंगापुर के मैला ग्राउण्ड में  आध्यात्मिक संत समागम में हजारो श्रद्वालुओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि मनुष्य जीवन का असली मकसद परम पिता परमात्मा की पहचान करना है । कहा भी गया है कि -’’बडे भाग से मानुष्य तन पावा, सुर दुर्लभ ग्रन्थन गावा’’ , ’’भाई प्राप्त मनुष्य सुख देहरिया, गोविन्द मिलन की एहो तेरी बरिया’’ इसलिए जरूरी है कि इस जीवन में प्रभु परमात्मा की पहचान हो जाये । आज निरंकारी मिशन सद्गुरू की कृपा से इस परम सत्ता का ज्ञान देकर वसुदेव कुटुम्बक का सन्देश दे रहा है।
मीडि‍या प्रभारी लादूलाल ने बताया कि गंगापुर में अध्यात्मिक प्रर्दशनी का शुभारम्भ सहाडा विधायक कैलाश त्रिवेदी, चिकित्सा अधिकारी छैल बिहारी व धीरज चंदेल द्वारा किया गया । प्रर्दशनी का अवलोकन करते हुए विघायक ने कहा कि आज निरंकारी मिशन विश्व को सुखशान्ति प्रदान कर रहा है । आत्मा से परमात्मा का मिलन कराकर सभी के मनो में शांति स्थापित कर रहा है। इस दौरान संत समागम में गंगापुर व महेन्द्रगढ के ब्रांच मुखी मांगीलाल, नानालाल, बदरीलाल, शिवकुमार व भीम के पृथ्वीसिंह, जिला संयोजक जगपाल सिंह
राणावत ने दिल्ली से आये संत अविनाश गर्ग को दुपट्टा पहनाकर स्वागत किया।

news news news