अक्सर छोटी-छोटी बातों पर चिड़चिड़ा हो जाना, बिना वजह गुस्सा होना या रोने लगना, तेजी से गाड़ी चलाना आदि मेंटल हेल्थ ठीक न होने की एक निशानी है। आज बड़े शहरों में मेंटल हेल्थ से जुड़े मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इस बार व‌र्ल्ड मेंटल हेल्थ डे का फोकस \'सुसाइड प्रिवेंशन\' पर है। मानसिक स्थिति ठीक हो तो ऐसी चीजों से बचा जा सकता है। आज मेंटल हेल्थ से संबंधित बहुत सारे एप्लिकेशंस और डिवाइस आ गए हैं, जो मूड को ट्रैक करने के साथ-साथ डिप्रेशन, एंग्जाइटी, स्ट्रेस आदि से निपटने में आपकी मदद कर सकते हैं।

मेडिटेशन: अगर मेडिटेशन के लिए एप को ट्राई करना चाहते हैं, तो \'हेडस्पेस\' एक ऑप्शन हो सकता है। इसका इस्तेमाल एंड्रॉयड और आइओएस दोनों ही प्लेटफॉर्म पर किया जा सकता है। यहां पर मेडिटेशन के लिए अलग-अलग उपाय बताए गए हैं। अगर इसका फ्री वर्जन डाउनलोड करते हैं, तो इसमें आपको डेली मेडिटेशन के दिशा-निर्देश के साथ कैसे खुश रह सकते हैं, इससे जुड़े टिप्स मिलेंगे, लेकिन जब सब्सक्राइब कर लेते हैं, तो स्ट्रेस, एंग्जाइटी और फोकस से जुड़े सैकड़ों मेडिटेशंस गाइड मिलेंगे। हेडस्पेस किसी भी परिस्थिति में शांत रहने में मदद कर सकता है।

 

स्ट्रेस:  इससे बचना है, तो फिर \'स्टाप ब्रीद ऐंड थिंक\' एप एक ऑप्शन हो सकता है। इसमें सांस लेने के कुछ ऐसे तरीके बताए गए हैं, जो तनाव की स्थिति में उपयोगी हो सकता है। साथ ही, यहां फीलिंग्स और इमोशंस के हिसाब से मेडिटेशन गाइड भी दिए गए हैं। इसे सेल्फ हीलिंग, सेल्फ मोटिवेशन, स्ट्रेस-डिप्रेशन आदि को ध्यान में रखकर डेवलप किया गया है। यह एप न सिर्फ मेडिटेशन प्रॉसेस को रिकॉर्ड करता रहेगा, बल्कि मूड के हिसाब से मेडिटेशन उपाय भी सुझाएगा। इसे एंड्रॉयड और आइओएस के लिए डाउनलोड कर सकते हैं।

 

माइंडफुलनेस: इसके लिए बड्डीफाई एप आपके लिए उपयोगी हो सकता है। इसमें स्ट्रेस लेवल को कम करने के लिए 200 से अधिक तरह के मेडिटेशंस दिए गए हैं, जो स्ट्रेस को दूर करने के साथ अच्छी नींद लाने और इमोशंस को संतुलित करने में मदद करता है। अगर किसी तरह का तनाव महसूस कर रहे हैं, तो इसके लिए यहां कुछ मिनट्स के माइंडफुलनेस एक्सरसाइज भी हैं। इसे एंड्रॉयड और आइओएस डिवाइस के लिए डाउनलोड किया जा सकता है।

 

डिप्रेशन: पैसिफिका एक ऐसा एप है, जिसे डिप्रेशन को ध्यान में रखकर ही डेवलप किया गया है। इसकी खासियत है कि इसमें आपको साइकोलॉजिस्ट द्वारा तैयार टूल्स मिलते हैं, जो डिप्रेशन व एंग्जाइटी से निजात दिलाने में उपयोगी हो सकते हैं। यह नकारात्मक विचारों से उबरने में भी मदद करता है। यहां पर मूड ट्रैकर एक अच्छा फीचर है, जो पूरे दिन आपकी फीलिंग्स और मूड का आकलन करता है, जिससे आपको अपने मूड को बेहतर करने में मदद मिलेगी। इसे एंड्रॉयड और आइओएस डिवाइस के लिए डाउनलोड कर सकते हैं।

 

एंग्जाइटी: एंग्जाइटी और स्ट्रेस रिलीफ के लिए पैनिक रिलीफ एप को ट्राई किया जा सकता है। इसे डेनमार्क के साइकियाट्रिस्ट मेरिएने बी. जिओफरोय ने डेवलप किया है। यह एंग्जाइटी को दूर करने में तत्काल मदद करता है। एनिमेशन की मदद से एंग्जाइटी और स्ट्रेस को कैसे कंट्रोल किया जा सकता है, इसके बारे में इसमें अच्छी जानकारी दी गई है। इसका इस्तेमाल साइकोथेरेपी के तौर पर भी किया जा सकता है। आपको यह समझने में भी मदद करता है कि एंग्जाइटी यानी पैनिक अटैक के दौरान शरीर में किस तरह के बदलाव आते हैं। इसमें इससे रिलैक्स होने के उपाय भी बताए गए हैं, जैसे- ब्रीदिंग व रिलैक्सेशन एक्सरसाइज, पॉजिटिव विजुअलाइजेशन आदि। यह एप्लिकेशन एंड्रॉयड और आइओएस के लिए अवेलेबल है।

" />

मेंटल हेल्थ ठीक न होने की एक निशानी

Thu 10 Oct 19  8:25 am


अक्सर छोटी-छोटी बातों पर चिड़चिड़ा हो जाना, बिना वजह गुस्सा होना या रोने लगना, तेजी से गाड़ी चलाना आदि मेंटल हेल्थ ठीक न होने की एक निशानी है। आज बड़े शहरों में मेंटल हेल्थ से जुड़े मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इस बार व‌र्ल्ड मेंटल हेल्थ डे का फोकस \'सुसाइड प्रिवेंशन\' पर है। मानसिक स्थिति ठीक हो तो ऐसी चीजों से बचा जा सकता है। आज मेंटल हेल्थ से संबंधित बहुत सारे एप्लिकेशंस और डिवाइस आ गए हैं, जो मूड को ट्रैक करने के साथ-साथ डिप्रेशन, एंग्जाइटी, स्ट्रेस आदि से निपटने में आपकी मदद कर सकते हैं।

मेडिटेशन: अगर मेडिटेशन के लिए एप को ट्राई करना चाहते हैं, तो \'हेडस्पेस\' एक ऑप्शन हो सकता है। इसका इस्तेमाल एंड्रॉयड और आइओएस दोनों ही प्लेटफॉर्म पर किया जा सकता है। यहां पर मेडिटेशन के लिए अलग-अलग उपाय बताए गए हैं। अगर इसका फ्री वर्जन डाउनलोड करते हैं, तो इसमें आपको डेली मेडिटेशन के दिशा-निर्देश के साथ कैसे खुश रह सकते हैं, इससे जुड़े टिप्स मिलेंगे, लेकिन जब सब्सक्राइब कर लेते हैं, तो स्ट्रेस, एंग्जाइटी और फोकस से जुड़े सैकड़ों मेडिटेशंस गाइड मिलेंगे। हेडस्पेस किसी भी परिस्थिति में शांत रहने में मदद कर सकता है।

 

स्ट्रेस:  इससे बचना है, तो फिर \'स्टाप ब्रीद ऐंड थिंक\' एप एक ऑप्शन हो सकता है। इसमें सांस लेने के कुछ ऐसे तरीके बताए गए हैं, जो तनाव की स्थिति में उपयोगी हो सकता है। साथ ही, यहां फीलिंग्स और इमोशंस के हिसाब से मेडिटेशन गाइड भी दिए गए हैं। इसे सेल्फ हीलिंग, सेल्फ मोटिवेशन, स्ट्रेस-डिप्रेशन आदि को ध्यान में रखकर डेवलप किया गया है। यह एप न सिर्फ मेडिटेशन प्रॉसेस को रिकॉर्ड करता रहेगा, बल्कि मूड के हिसाब से मेडिटेशन उपाय भी सुझाएगा। इसे एंड्रॉयड और आइओएस के लिए डाउनलोड कर सकते हैं।

 

माइंडफुलनेस: इसके लिए बड्डीफाई एप आपके लिए उपयोगी हो सकता है। इसमें स्ट्रेस लेवल को कम करने के लिए 200 से अधिक तरह के मेडिटेशंस दिए गए हैं, जो स्ट्रेस को दूर करने के साथ अच्छी नींद लाने और इमोशंस को संतुलित करने में मदद करता है। अगर किसी तरह का तनाव महसूस कर रहे हैं, तो इसके लिए यहां कुछ मिनट्स के माइंडफुलनेस एक्सरसाइज भी हैं। इसे एंड्रॉयड और आइओएस डिवाइस के लिए डाउनलोड किया जा सकता है।

 

डिप्रेशन: पैसिफिका एक ऐसा एप है, जिसे डिप्रेशन को ध्यान में रखकर ही डेवलप किया गया है। इसकी खासियत है कि इसमें आपको साइकोलॉजिस्ट द्वारा तैयार टूल्स मिलते हैं, जो डिप्रेशन व एंग्जाइटी से निजात दिलाने में उपयोगी हो सकते हैं। यह नकारात्मक विचारों से उबरने में भी मदद करता है। यहां पर मूड ट्रैकर एक अच्छा फीचर है, जो पूरे दिन आपकी फीलिंग्स और मूड का आकलन करता है, जिससे आपको अपने मूड को बेहतर करने में मदद मिलेगी। इसे एंड्रॉयड और आइओएस डिवाइस के लिए डाउनलोड कर सकते हैं।

 

एंग्जाइटी: एंग्जाइटी और स्ट्रेस रिलीफ के लिए पैनिक रिलीफ एप को ट्राई किया जा सकता है। इसे डेनमार्क के साइकियाट्रिस्ट मेरिएने बी. जिओफरोय ने डेवलप किया है। यह एंग्जाइटी को दूर करने में तत्काल मदद करता है। एनिमेशन की मदद से एंग्जाइटी और स्ट्रेस को कैसे कंट्रोल किया जा सकता है, इसके बारे में इसमें अच्छी जानकारी दी गई है। इसका इस्तेमाल साइकोथेरेपी के तौर पर भी किया जा सकता है। आपको यह समझने में भी मदद करता है कि एंग्जाइटी यानी पैनिक अटैक के दौरान शरीर में किस तरह के बदलाव आते हैं। इसमें इससे रिलैक्स होने के उपाय भी बताए गए हैं, जैसे- ब्रीदिंग व रिलैक्सेशन एक्सरसाइज, पॉजिटिव विजुअलाइजेशन आदि। यह एप्लिकेशन एंड्रॉयड और आइओएस के लिए अवेलेबल है।

news news news