कलाकार दीपक पारीक पेशे से अधिवक्ता होकर वर्तमान में नगर पालिका शाहपुरा में पार्षद भी है।
शाहपुरा जैसे छोटे शहर से अपना कैरियर व रंगकर्म की शुरुआत कर एक बड़ा सफर तय करने वाली द होली वार में उसके द्वारा किये गये अभिनय को मिले नेशनल अवार्ड की सूचना पर शाहपुरा में हर्ष व्याप्त हो गया है। शाहपुरा के कलाकार द्वारा शहर का नाम फिर रोशन करने पर बधाई दी जा रही है।
तीसरे इंटरनेशनल पिगी बैंक शॉर्ट फिल्म अवॉर्ड में इस फिल्म का चयन नेशनल अवॉर्ड के लिए किया गया है। दीपक पारीक द्वारा भूमिका निभाई गई फिल्म द होली वार को बेस्ट फिल्म का नेशनल अवॉर्ड मिलने पर शाहपुरा में खुशी का माहौल है।
मयूर प्रोडक्शन सेट इंटरटेनमेंट व स्नेह फोटो गैलरी के सौजन्य से बनी द होली वार शार्ट फिल्म जयपुर में हुए तीसरे इंटरनेशनल पिग्गीबैंक शॉर्ट फिल्म समारोह में समारोह में फिल्म सर्वश्रेष्ठ फिल्म से पुरस्कृत हुई।
समारोह में केंद्रीय राज्य मंत्री कैलाश चैधरी, राजस्थान के कला एवं संस्कृति मंत्री बीडी कल्ला, भाजपा संगठन महामंत्री चंद्रशेखर व सांसद रामचरण बोहरा के हाथों से फिल्म निदेशक सतीश वर्मा को पुरस्कृत किया गया। इस दौरान कलाकार दीपक पारीक सहित अन्य सभी कलाकार भी मौजूद रहे।
दीपक पारीक ने बताया कि यह फिल्म सामाजिक विषय को लेकर बनाई गई है। जम्मू कश्मीर के घटनाक्रम पर बनाई गई है। आतंकवाद जैसे गंभीर विषय को अलग नजरिए से प्रस्तुत करने की कोशिश इस फिल्म के माध्यम से की गई। यह फिल्म संपूर्ण रूप से से भीलवाड़ा जिला क्षेत्र में ही फिल्मायी गयी है। इसमें स्थानीय कलाकारों ने ही भाग लिया। युवा निर्देशक सतीश वर्मा ने पूर्व में भी दो फिल्मों का निर्माण किया। जिसमें उनको राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत किया गया।
दीपक पारीक की बाल्यकाल से ही रंगकर्म के प्रति रुचि रही है। संचिना कला संस्थान के कलाकार पारीक, जिन्होंने रंग कर्म में राजस्थान में नाम किया है। उनके पिता रामप्रसाद पारीक भी जिले के वरिष्ठ रंगकर्मी है। पारीक वर्तमान में अधिवक्ता होकर पार्षद के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। शाहपुरा जैसे छोटे से शहर से नेशनल अवार्ड जीतने वाली फिल्म मैं अपनी अदाकारी करना शहर को गौरवान्वित महसूस करा रहा है।
पारीक ने कहा कि मैं बहुत खुश हूं अपनी पहली फिल्म को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली। यह मेरे लिए एक सपना है। शाहपुरा कस्बा कला जगत में हमेशा धनाढ्य रहा है। बस सही मार्गदर्शन की आवश्यकता है यह सब मेरी पूरी टीम के द्वारा संभव हो पाया। फिल्म के कलाकारों में भीलवाड़ा जिले के जुड़े हुए रंगमंच के कलाकारों ने ही पात्रता निभाई जिनमें वरिष्ठ रंगकर्मी कुलदीप टाक, युवा रंगकर्मी एडवोकेट दीपक पारीक, सुनील टेलर, करण सिंह,रामेंद्र राणावत ,पवन जांगिड़,आशीष शर्मा, हिमांशु सेन,हरिशंकर शर्मा,विवेक शर्मा, रचना मेहता,सहयोगी के रूप में लाइन प्रोड्यूसर आदित्यन्द्र शर्मा, सिनेमेटोग्राफर मुकेश कोली रहे।

" />
कलाकार दीपक पारीक पेशे से अधिवक्ता होकर वर्तमान में नगर पालिका शाहपुरा में पार्षद भी है।
शाहपुरा जैसे छोटे शहर से अपना कैरियर व रंगकर्म की शुरुआत कर एक बड़ा सफर तय करने वाली द होली वार में उसके द्वारा किये गये अभिनय को मिले नेशनल अवार्ड की सूचना पर शाहपुरा में हर्ष व्याप्त हो गया है। शाहपुरा के कलाकार द्वारा शहर का नाम फिर रोशन करने पर बधाई दी जा रही है।
तीसरे इंटरनेशनल पिगी बैंक शॉर्ट फिल्म अवॉर्ड में इस फिल्म का चयन नेशनल अवॉर्ड के लिए किया गया है। दीपक पारीक द्वारा भूमिका निभाई गई फिल्म द होली वार को बेस्ट फिल्म का नेशनल अवॉर्ड मिलने पर शाहपुरा में खुशी का माहौल है।
मयूर प्रोडक्शन सेट इंटरटेनमेंट व स्नेह फोटो गैलरी के सौजन्य से बनी द होली वार शार्ट फिल्म जयपुर में हुए तीसरे इंटरनेशनल पिग्गीबैंक शॉर्ट फिल्म समारोह में समारोह में फिल्म सर्वश्रेष्ठ फिल्म से पुरस्कृत हुई।
समारोह में केंद्रीय राज्य मंत्री कैलाश चैधरी, राजस्थान के कला एवं संस्कृति मंत्री बीडी कल्ला, भाजपा संगठन महामंत्री चंद्रशेखर व सांसद रामचरण बोहरा के हाथों से फिल्म निदेशक सतीश वर्मा को पुरस्कृत किया गया। इस दौरान कलाकार दीपक पारीक सहित अन्य सभी कलाकार भी मौजूद रहे।
दीपक पारीक ने बताया कि यह फिल्म सामाजिक विषय को लेकर बनाई गई है। जम्मू कश्मीर के घटनाक्रम पर बनाई गई है। आतंकवाद जैसे गंभीर विषय को अलग नजरिए से प्रस्तुत करने की कोशिश इस फिल्म के माध्यम से की गई। यह फिल्म संपूर्ण रूप से से भीलवाड़ा जिला क्षेत्र में ही फिल्मायी गयी है। इसमें स्थानीय कलाकारों ने ही भाग लिया। युवा निर्देशक सतीश वर्मा ने पूर्व में भी दो फिल्मों का निर्माण किया। जिसमें उनको राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत किया गया।
दीपक पारीक की बाल्यकाल से ही रंगकर्म के प्रति रुचि रही है। संचिना कला संस्थान के कलाकार पारीक, जिन्होंने रंग कर्म में राजस्थान में नाम किया है। उनके पिता रामप्रसाद पारीक भी जिले के वरिष्ठ रंगकर्मी है। पारीक वर्तमान में अधिवक्ता होकर पार्षद के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। शाहपुरा जैसे छोटे से शहर से नेशनल अवार्ड जीतने वाली फिल्म मैं अपनी अदाकारी करना शहर को गौरवान्वित महसूस करा रहा है।
पारीक ने कहा कि मैं बहुत खुश हूं अपनी पहली फिल्म को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली। यह मेरे लिए एक सपना है। शाहपुरा कस्बा कला जगत में हमेशा धनाढ्य रहा है। बस सही मार्गदर्शन की आवश्यकता है यह सब मेरी पूरी टीम के द्वारा संभव हो पाया। फिल्म के कलाकारों में भीलवाड़ा जिले के जुड़े हुए रंगमंच के कलाकारों ने ही पात्रता निभाई जिनमें वरिष्ठ रंगकर्मी कुलदीप टाक, युवा रंगकर्मी एडवोकेट दीपक पारीक, सुनील टेलर, करण सिंह,रामेंद्र राणावत ,पवन जांगिड़,आशीष शर्मा, हिमांशु सेन,हरिशंकर शर्मा,विवेक शर्मा, रचना मेहता,सहयोगी के रूप में लाइन प्रोड्यूसर आदित्यन्द्र शर्मा, सिनेमेटोग्राफर मुकेश कोली रहे।

">
शाहपुरा के रंगकर्मी दीपक पारीक को राष्ट्रीय अवार्ड

शाहपुरा के रंगकर्मी दीपक पारीक को राष्ट्रीय अवार्ड

  2019-12-28 06:24 pm

भीलवाड़ा(bhilwara halchal) जिले के शाहपुरा के युवा रंगकर्मी दीपक पारीक द्वारा अभिनीत शार्ट फिल्म द होली वार को तीसरे इंटरनेशनल पिगी बैंक शॉर्ट फिल्म अवॉर्ड कार्यक्रम में बेस्ट फिल्म अवार्ड से नवाजा गया है। इस फिल्म का निर्देशन युवा निर्देशक सतीश वर्मा ने किया है।


कलाकार दीपक पारीक पेशे से अधिवक्ता होकर वर्तमान में नगर पालिका शाहपुरा में पार्षद भी है।
शाहपुरा जैसे छोटे शहर से अपना कैरियर व रंगकर्म की शुरुआत कर एक बड़ा सफर तय करने वाली द होली वार में उसके द्वारा किये गये अभिनय को मिले नेशनल अवार्ड की सूचना पर शाहपुरा में हर्ष व्याप्त हो गया है। शाहपुरा के कलाकार द्वारा शहर का नाम फिर रोशन करने पर बधाई दी जा रही है।
तीसरे इंटरनेशनल पिगी बैंक शॉर्ट फिल्म अवॉर्ड में इस फिल्म का चयन नेशनल अवॉर्ड के लिए किया गया है। दीपक पारीक द्वारा भूमिका निभाई गई फिल्म द होली वार को बेस्ट फिल्म का नेशनल अवॉर्ड मिलने पर शाहपुरा में खुशी का माहौल है।
मयूर प्रोडक्शन सेट इंटरटेनमेंट व स्नेह फोटो गैलरी के सौजन्य से बनी द होली वार शार्ट फिल्म जयपुर में हुए तीसरे इंटरनेशनल पिग्गीबैंक शॉर्ट फिल्म समारोह में समारोह में फिल्म सर्वश्रेष्ठ फिल्म से पुरस्कृत हुई।
समारोह में केंद्रीय राज्य मंत्री कैलाश चैधरी, राजस्थान के कला एवं संस्कृति मंत्री बीडी कल्ला, भाजपा संगठन महामंत्री चंद्रशेखर व सांसद रामचरण बोहरा के हाथों से फिल्म निदेशक सतीश वर्मा को पुरस्कृत किया गया। इस दौरान कलाकार दीपक पारीक सहित अन्य सभी कलाकार भी मौजूद रहे।
दीपक पारीक ने बताया कि यह फिल्म सामाजिक विषय को लेकर बनाई गई है। जम्मू कश्मीर के घटनाक्रम पर बनाई गई है। आतंकवाद जैसे गंभीर विषय को अलग नजरिए से प्रस्तुत करने की कोशिश इस फिल्म के माध्यम से की गई। यह फिल्म संपूर्ण रूप से से भीलवाड़ा जिला क्षेत्र में ही फिल्मायी गयी है। इसमें स्थानीय कलाकारों ने ही भाग लिया। युवा निर्देशक सतीश वर्मा ने पूर्व में भी दो फिल्मों का निर्माण किया। जिसमें उनको राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत किया गया।
दीपक पारीक की बाल्यकाल से ही रंगकर्म के प्रति रुचि रही है। संचिना कला संस्थान के कलाकार पारीक, जिन्होंने रंग कर्म में राजस्थान में नाम किया है। उनके पिता रामप्रसाद पारीक भी जिले के वरिष्ठ रंगकर्मी है। पारीक वर्तमान में अधिवक्ता होकर पार्षद के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। शाहपुरा जैसे छोटे से शहर से नेशनल अवार्ड जीतने वाली फिल्म मैं अपनी अदाकारी करना शहर को गौरवान्वित महसूस करा रहा है।
पारीक ने कहा कि मैं बहुत खुश हूं अपनी पहली फिल्म को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली। यह मेरे लिए एक सपना है। शाहपुरा कस्बा कला जगत में हमेशा धनाढ्य रहा है। बस सही मार्गदर्शन की आवश्यकता है यह सब मेरी पूरी टीम के द्वारा संभव हो पाया। फिल्म के कलाकारों में भीलवाड़ा जिले के जुड़े हुए रंगमंच के कलाकारों ने ही पात्रता निभाई जिनमें वरिष्ठ रंगकर्मी कुलदीप टाक, युवा रंगकर्मी एडवोकेट दीपक पारीक, सुनील टेलर, करण सिंह,रामेंद्र राणावत ,पवन जांगिड़,आशीष शर्मा, हिमांशु सेन,हरिशंकर शर्मा,विवेक शर्मा, रचना मेहता,सहयोगी के रूप में लाइन प्रोड्यूसर आदित्यन्द्र शर्मा, सिनेमेटोग्राफर मुकेश कोली रहे।

news news news news news news news news