सफाई कर्मचारियों पर हो रहे शोषण से मुक्ति दिलाने को लेकर दि‍या ज्ञापन

सफाई कर्मचारियों पर हो रहे शोषण से मुक्ति दिलाने को लेकर दि‍या ज्ञापन

  2020-06-30 02:49 pm

भीलवाड़ा (हलचल)। वाल्मीकि महासपंचायत के प्रदेश अध्यक्ष प्रकाशचन्द्र नकवाल के नेतृत्व में वाल्मीकि महापंचायत के कार्यकर्ताआंे द्वारा बीगोद ग्राम पंचायत में सफाई कर्मचारियों पर हो रहे शोषण के खिलाफ कार्यवाही की मांग को लेकर जिला कलेक्टर को ज्ञापन दिया गया।

प्रदेश अध्यक्ष प्रकाशचन्द्र नकवाल ने बताया कि बीगोद ग्राम पंचायत स्तर पर 29 सफाई कर्मचारी कई वर्षों से गांव में साफ - सफाई का कार्य सुचारू रूप से कर रहे है, जिन्हें पुर्व सरपंच के कार्यकाल में 1500 (पन्द्रह सौ) रुपये प्रति माह के हिसाब से दिया जा रहा था, जिसे पुर्व सरपंच ने बढ़ाकर 1800 (अट्ठारह सौ) रुपये प्रतिमाह व 07 ओर कर्मचारी नियुक्त करना, कोरम की बैठक में तय किया हुआ था लेकिन वर्तमान सरपंच के कार्यकाल मे 1500 (पन्द्रह सौ) रुपये ही दिऐ जा रहे है ओर नये 07 कर्मचारी भी नियुक्त नहीं किए गए हैं। वर्तमान सरपंच के कार्यकाल मे ग्राम पंचायत की कोरम बैठक दिनांक 05.03.2020 को हुई जिसमें सर्वसम्मति से 29 सफाई कर्मचारियों का वेतन 3000 (तीन हजार) रुपये प्रति माह देने का व 07 सफाई कर्मचारी को ओर नियुक्त करने का प्रस्ताव पास किया गया लेकिन सचिव व सरपंच ने कोरम की बैठक खत्म होने के बाद रजिस्टर मे छेड़छाड़ कर प्रस्ताव के अंत में षडयंत्र रचकर परन्तु शब्द का इस्तेमाल कर पुनः 1500 (पन्द्रह सौ) रुपये कर दिया।

कोरोना महामारी में भी सफाई कर्मचारियों को किसी भी तरह की साधन सुविधा जैसे सेनेटाइजर, मास्क, ग्लब्स, गमबूट, कचरा ढ़ोने के लिए कचरा गाड़ी आदि कुछ भी उपलब्ध नहीं करवाई गई तो भी सफाई कर्मचारियों ने अपनी व अपने परिवार की जान को जोखिम में डालकर आम जनता को संक्रमित होने से बचाने के लिए साफ - सफाई का कार्य निरन्तर जारी रखा है जिसका पिछले 04 महीने से नाम मात्र का मिलने वाला वेतन भी नही दिया जा रहा है, जिससे सभी कर्मचारियों को भयंकर आर्थिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पुरे देश व दुनिया मे सफाई कर्मचारियों का अलग अलग संस्थाओं द्वारा राशि, पुष्पाहार, मिठाई, मास्क, सैनेर्टाइजर आदि से सम्मान किया जा रहा है और सरकार द्वारा भी कोरोना यौद्धा का नाम दिया जा रहा है लेकिन ग्राम पंचायत बीगोद द्वारा लगातार 04 महीनों से नाम मात्र का जो वेतन दिया जाता है वो भी नही देना सफाई कर्मचारियों के साथ भयंकर कुठाराघात है। अतः भयंकर महंगाई को ध्यान में रखते हुए सफाई कर्मचारियों को न्यूनतम मजदूरी के हिसाब से वेतन न दिला सकें तो कम से कम 100 (सौ रुपये) प्रतिदिन के हिसाब से वेतन दिलवाने व 29 सफाई कर्मचारियों के साथ 07 ओर नये सफाई कर्मचारी नियुक्त करने का आदेश प्रदान करने एवं सफाई कर्मचारियों को शोषण से मुक्ति दिलवाकर मददगार बनने तथा वर्तमान सरपंच मेहरून बानू के खिलाफ जांच करवाकर सख्त से सख्त कार्यवाही के आदेश प्रदान करवाने का आग्रह किया गया।

news news news news news news news news