साक्षात्कार के दौरान शारीरिक भाषाओं पर रखें ध्यान-शर्मा

  2020-09-16 08:12 pm

 राजसमन्द (राव दिलीप सिंह) जिला परिषद राजसमन्द के अति. मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. दिनेश राय सापेला द्वारा शुरू की गई विजयी भवः योजना के दूसरे दिन भूतपूर्व डीन कोटा विश्वविद्यालय एवं भूतपूर्व अध्यक्ष आरपीएएसी प्रोफेसर बीएम शर्मा द्वारा आरएएस के साक्षात्कार की तैयारी कर रहे युवाओं को ऑनलाइन मार्गदर्शन प्रदान किया गया।

    प्रोफेसर शर्मा ने बुधवार को ऑनलाईन सहभागियों को संबोधित करते हुए आरएएस साक्षात्कार प्रक्रिया देते हुए विस्तृत व्याख्या की एवं प्रत्येक बिन्दु पर जानकारी देते हुए एक अच्छे प्रशासक के गुण, आत्मविश्वास, नेतृत्व क्षमता, निर्णय लेने की क्षमता, व्यवहार में सादगी एवं अपने पुराने अनुभवों को बताते हुए अभ्यर्थियों का मार्गदर्शन किया।

तकियाकलाम पर नियंत्रण

    आमतौर पर बार-बार बेवहज के शब्द या तकियाकलाम का प्रयोग किया जाता है जो कि साक्षात्कार के दौरान प्रयोग नहीं किए जाने चाहिए जैसे कि सर-सर-सर, मेरा मतलब है कि, मैं कहना चाह रहा था कि , ऎसा है कि, वैसा है कि, यूं कह रहा था इत्यादि। यह जानकारी अथ्यर्थियों को प्रोफेसर द्वारा दी गई।

शारीरिक हावभाव पर नियंत्रण

    शर्मा ने ने बताया कि साक्षात्कार के दौरान शारीरिक हावभाव पर नियंतर््ण बहुत आवश्यक है, जिसमें सर खुजाना, माथे पर हाथ फेरना, दांतों को अंगुली को लगाना, अंगुठा चूसना, पीठ खुजाना, दांतों से होंठ काटना आदि गतिविधियां नहीं की जानी चाहिए एवं अपने इस तरह के हावभावों को नियंत्रित कर अपने आप को निखारने का प्रयास करें। शारीरिक हावभावों पर नियंत्रण के सीसे के सामने अपने आप से बाते करें एवं अपने हावभावों को देंखे, स्वयं से प्रश्न करें, जवाब दें और अपने हावभावों को नोटिस कर उसमें सुधार करने का प्रयास करें।

अकेडमिक सब्जेक्ट पर फोकस कर उन्हें पढ़ें

    शर्मा ने अभ्यर्थियों को जानकारी देते हुए कहा अपने ज्ञानवर्द्धन हेतु अकेडमिक सब्जेक्ट पढ़े। आपको अपने अकेडमिक सब्जेक्ट की पूरी जानकारी होनी चाहिए, इनसे जुड़ा आपसे कोइ भी प्रश्न पूछा जा सकता है।

    उन्होंने बताया कि साक्षात्कार के दौरान राष्ट्रीय आंदोलनों की जानकारी, भारत की विदेश नीति, राष्ट्रीय नीति, मानवाधिकार, महिला सशक्तिकरण आदि की जानकारी होनी आवश्यक है।

आपस में समूह चर्चा करें

    अथ्यर्थियों को साक्षात्कार की टिप्स देते हुए शर्मा ने बताया कि आप अपने दोस्तों के साथ आपस में गु्रप बनाकर किसी विषय पर समूह चर्चा करें। जिससे आपके ज्ञान में वृद्धि होगी तथा जो जानकारी सामने वाले के पास होगी वह हम तक पहुंच सकेगी।

ऑनलाइन क्लास में दिए सवालों के जवाब

    शर्मा ने अथ्यर्थियों द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब दिए एवं उनकी जिज्ञासा शांत की। जिसमें नीलेश टोंगिया, चित्तौडगढ़ ने पूछा कि मेरी उम्र 44 साल है और मैंने पहली बार यदि पूछा जाए कि आपने पहले आरएएस का एग्जाम क्यों नहीं दिया। तो मेरा क्या जवाब होना चाहिए। इस पर बीएम शर्मा ने कहा कि आप बिना कोई कहानी बनाए पूरी ईमानदारी के साथ अपना जवाब दें।

    इस अवसर पर अभ्यर्थी राकेश गॉयल ने पूछा कि इंटरव्यू बोर्ड के पास हमारी क्या जानकारी रहती है। इस पर शर्मा ने जवाब देते हुए कहा कि आप अपनी तैयारी पूर्ण रखे एवं आपके द्वारा बायोडेटा में भरी हुई जानकारी ही उनके पास रहती है।

    अभ्यर्थी अजित कुमार ने पूछा कि अपनी कमजोरियां इंटरव्यू बोर्ड को बतानी चाहिए या नहीं। बिमार होने पर चिड़चिड़ा हो जाता हूं एवं भूख लगने पर गुस्सा करता हूं। इस पर शर्मा ने बताया कि अपनी कमजोरी को पहचान कर उन्हें दूर करने का प्रयास करें एवं जब आपको कारण पता है तो उस कारण को इग्नोर करें।

news news news news news news news news
कोरोना अपडेट