सालवी समाज की 200 प्रतिभाओं का सम्मान

सालवी समाज की 200 प्रतिभाओं का सम्मान

Fri 01 Nov 19  12:24 pm


चित्तौडग़ढ़ (हलचल)। सालवी समाज का प्रतिभावान सम्मान समारोह मेघऋषी मेघवंशी युवा संस्था द्वारा भीलवाड़ा जिले के ज्ञानगढ़ करेड़ा अंंतर्गत गोराणा धूणी पर जगदीश चौहान की अध्यक्षता में संपन्न हुआ। जिला प्रमुख परेश कुमार सालवी, पूर्व जिला प्रमुख सुशीला सालवी, जेठाराम कतिरिया, धनराज, जोगचन्द, दाउराम मोमत, जगदीश बलाई, जयराम महाराज, पार्वती सालवी चित्तौडग़ढ, गोपीलाल सालवी, कानाराम सालवी, डालूराम सालवी, राजकुमार बादल, अर्जुनलाल गोठवाल, मदन ओजस्वी, जगरूप गुर्जर, जयनारायण आर्य, उदयराम चणिया, लालाराम सालवी, प्रकाश नागर, डॉ. मुकेश, धनराज चणिया व बंशीलाल चणिया आदि के मुख्य आतिथ्य में 200 प्रतिभाओं का सम्मान किया गया।
समारोह में सर्वप्रथम भारतीय बहुजन साहित्य परिषद के संरक्षक, अध्यक्ष, स्वतंत्र लेखक एवं प्रशासनिक अधिकारी श्रम विभाग चित्तौडग़ढ़ मदन सालवी ओजस्वी ने कहा कि बाबा साहेब अम्बेडकर के त्याग एवं बलिदान तथा उनके कष्ट सहने से हम आज यहां तक पहुंचे हैं। अब हमें वोट की कीमत को पहचानना होगा।
ओजस्वी ने बताया कि अब लोकतंत्र में कोई राजा रानी के पेट से पैदा नहीं होता, अब लोकतंत्र में कोई भी राजा बनता है तो वह हमारे वोट के हक से बनता है। ओजस्वी ने समाज के बुजुर्गो से आह्वान किया कि वे अब आराम करें तथा समाज सुधार एवं विकास का जिम्मा युवाओं ो सौंप दें। राजसमंद जिले में हो रहे लगातार सम्मान समारोह तथा जाग्रति के आयोजनों पर सभी आयोजकों को धन्यवाद देते हुए कहा कि अब कथा कीर्तनों की आवश्यकता नहीं है। समाज मे जाग्रति एवं प्रतिभाओं को आगे लाने से समाज का विकास होगा।
परेश कुमार सालवी ने कहा कि शिक्षित होकर जीवन को समझने तथा समाजहित में युवाओं को आज आगे आने की आवश्यकता है। पूर्व जिला प्रमुख सुशीला सालवी ने कहा कि पढऩे के साथ गुणवान व संस्कारवान भी बनें तथा समाज हित के लिए आज के युवा आगे आएं। उन्होंने कहा कि आज हम जो कुछ भी हैं वह बाबा साहब अंबेडकर की बदौलत है। हम समाज में बच्चों को पढ़ा-लिखाकर विशेष प्रतिभा तैयार करें। पढ़ाई के क्षेत्र में कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।
विशिष्ट अतिथि शिक्षाविद् डाउराम मोमत ने संबोधित करते हुए बताया कि शिक्षा से ही सर्वांगीण विकास संभव है। उन्होंने कहा कि हम समाज में शिक्षा के क्षेत्र मे किसी भी प्रकार की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। विशिष्ट अतिथि बंशीलाल चणिया ने कहा कि समय की धारा के साथ जिस तरह का बदलाव चाहिए उस तरह का बदलाव लाने के लिए हर ओर से युवा तथा सामाजिक कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी उसके लिए तैयार हों।
चित्तौडग़ढ़ से समाज से प्रथम देहदान करने वाले दंपती मदन सालवी ओजस्वी एवं पार्वती सालवी को विशेष सम्मान से सम्मानित किया गया।

news news news