boltBREAKING NEWS
  • भीलवाड़ा हलचल पर समाचार या जानकारी भेजे [email protected]
  • सबसे ज्यादा पाठकों तक पहुँच और सबसे सस्ता विज्ञापन सम्पर्क करें  6377 364 129
  • रहें हर खबर से अपडेट भीलवाड़ा हलचल के साथ

जी-20 शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी बोले- टेक्‍नोलॉजी के मूल्‍य को मानवता के पैमाने पर मापा जाए

जी-20 शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी बोले- टेक्‍नोलॉजी के मूल्‍य को मानवता के पैमाने पर मापा जाए

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को जी-20 के 15वें शिखर सम्मेलन में शामिल हुए। सम्‍मेलन में पहली बार दुनिया के 20 ताकतवर देश एक वर्चुअल मंच पर जमा हुए। पीएम मोदी ने इस शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए कोरोना के खिलाफ एकजुटता के साथ लड़ने की अपील की। उन्‍होंने कहा कि दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं की ओर से किए गए साझा प्रयासों से निश्चित तौर पर महामारी से निपटने में मदद मिलेगी।  

प्रधानमंत्री ने इस बैठक के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि जी-20 नेताओं के साथ बहुत ही उपयोगी चर्चा हुई। दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं की ओर से किए गए समन्वित प्रयासों से निश्चित तौर पर महामारी से निजात मिलेगी। प्रधानमंत्री ने यह भी बताया कि उन्‍होंने इस शिखर सम्मेलन में प्रतिभा, प्रौद्योगिकी, पारदर्शिता और भरोसे के आधार पर एक नया वैश्विक सूचकांक विकसित करने की जरूरत को सामने रखा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि काम करने वाले लोगों की गरिमा को मजबूती देने के साथ टैलेंट पूल बनाया जाना चाहिए। यही नहीं नई प्रौद्योगिकियों के मूल्य की माप मानवता में इसके योगदान के आधार पर किया जाना चाहिए। हमारी प्रक्रियाओं में पारदर्शिता समाज को सामूहिक रूप से और आत्मविश्वास के साथ संकट से लड़ने के लिए प्रेरित करने में मदद करती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि धरती के प्रति भरोसे की भावना हमें स्वस्थ और समग्र जीवन शैली के लिए प्रेरित करेगी। प्रधानमंत्री ने कोरोना जैसी महामारी के बीच इस शिखर सम्‍मेलन को वर्चुअल तरीके से आयोजित कराने को लेकर सऊदी अरब को धन्‍यवाद दिया। प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी बताया कि उन्‍होंने इस सम्‍मेलन में जी-20 के कुशल कामकाज के लिए डिजिटल सुविधाओं को और विकसित करने में योगदान के लिए भारत की आईटी ताकत की पेशकश की।

सम्‍मेलन में हिस्‍सा लेने के लिए सऊदी अरब के शाह सलमान बिन अब्दुलअजीज अल सऊद ने प्रधानमंत्री मोदी को न्‍यौता दिया था। सऊदी अरब के किंग सलमान ने भी अपनी शुरुआती भाषण में महामारी से एकजुटता के साथ मुकाबला करने की बात कही। उन्‍होंने कहा कि हमारा कर्तव्य है कि हम इस शिखर सम्मेलन के दौरान एक मजबूत संदेश दें। महामारी से दुनिया को एक बड़ा झटका लगा है। इससे वैश्विक स्तर पर आर्थिक और सामाजिक नुकसान हुआ है

इस शिखर सम्मेलन की थीम सभी के लिए '21वीं सदी के अवसरों का अनुभव' है। सऊदी अरब विश्व की प्रमुख 20 अर्थव्यवस्थाओं के समूह जी-20 का मौजूदा अध्यक्ष है। बीते दिनों सऊदी अरब ने कहा था कि यह शिखर सम्मेलन मील का पत्थर साबित होगा। शिखर सम्मेलन मेंं कोरोनो महामारी के प्रभावों, भविष्य की स्वास्थ्य सुरक्षा योजनाओं और वैश्विक अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के मसलों पर चर्चा हो रही है। 

इस बार वचुअल माध्‍यम से आयोजित हो रहे सम्‍मेलन में विभिन्न देशों के राष्ट्रपतियों और प्रधानमंत्रियों के बीच बंद कमरों में होने वाली बैठकें भी नहीं हो रही हैं। हाल ही में डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस एडहानॉम घेब्रेयस ने कहा था कि जी-20 शिखर सम्मेलन के नेताओं के पास कोरोना के इलाज और टीकों की समान पहुंच सुनिश्चित करने का सुनहरा मौका है। सम्‍मेलन में क्‍लाइमेट चेंज के मसले पर भी चर्चा की उम्‍मीद है। 

जी-20 के सदस्‍यों में अर्जेंटीना, आस्‍ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की, ब्रिटेन, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मैक्सिको, रिपब्लिक ऑफ कोरिया, रूस, सऊदी अरब, अमेरिका और यूरोपीय संघ शामिल हैं। सऊदी अरब पहली बार इस सम्‍मेलन की मेजबानी कर रहा है। यह भी माना जा रहा है कि कोरोना महामारी के चलते ध्वस्त अर्थव्यवस्था में जान फूंकने के लिए जी-20 सम्मेलन मील का पत्थर साबित होगा।

ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम

cu