एन.वी.एन.सीनियर सैकण्डरी स्कूल एण्ड हॉस्टल

एन.वी.एन.सीनियर सैकण्डरी स्कूल एण्ड हॉस्टल

Wed 28 Jun 17  4:17 pm

भीलवाड़ा के आजाद नगर बी सेक्टर स्थित एन.वी.एन. (नवज्योति विद्यालय निकेतन) सीनियर सैकण्डरी स्कूल सन् 2001 से शिक्षा जगत् में अपनी अमिट छाप छोड़ रहा है। हिन्दी व इंगलिश दोनों मीडियम में संचालित यह विद्यालय कक्षा नर्सरी से 12वीं तक आटर््स, कॉमर्स एवं साइंस तीनों ही संकायों में संचालित है।
विद्यालय में बॉयज् हॉस्टल भी संचालित है जहां घर जैसे शुद्ध भोजन व स्वच्छ वातावरण के साथ विद्यालय के संस्कारमयी वातावरण में अध्ययन कर बच्चे हर वर्ष ऊंचाईयों को छू रहे है तथा विद्यालय में अध्ययन कर निकले छात्र आज विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत है तथा उच्च पदों पर आसीन है। विद्यालय संस्था प्रधान एन.आर.चौधरी के अनुसार विद्यालय में कम्प्यूटर लेब, साइंस लेब, लाईबे्ररी, गेम्स रूम तथा अन्य सभी सुविधाएं उपलब्ध है। विद्यालय के उच्च प्रशिक्षित स्टाफ द्वारा उत्तम रिजल्ट के साथ बच्चों को संस्कारवान बनाकर आज के प्रतिस्पर्धात्मक युग में सफलता की मंजिल तक पहुंचाने हेतु सदैव प्रयासरत है। 
विद्यालय प्रशासन का मुख्य ध्येय Better Education, Better performance & Better Result के साथ संस्कारमय वातावरण बनाकर अभिभावकों के विश्वास व आशाओं पर खरा उतरना है। विद्यालय में वर्तमान में कला, इतिहास, राजनीति विज्ञान एवं विशेष हिन्दी व विज्ञान वर्ग में जीव विज्ञान, रसायन विज्ञान,भौतिक विज्ञान एवं गणित व कॉमर्स की कक्षाएं संचालित है।
विद्यालय परिवार का मुख्य ध्येय न्यूनतम फीस में अभिभावकों के विश्वास पर अटल रहते हुए बच्चों में अनुशासन बनाये रखते हुए कठोर परिश्रम व कड़ा अनुशासन की कसौटी पर वर्षों से खरा उतरते हुए विद्यालय से बच्चों को मैरिट स्टेण्ड करवाया। इन्सपार अवार्ड से नवाजा गया, साथ ही गार्गी पुरस्कार एवं नवोदय विद्यालय में छात्रों का चयन करवाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की। आज विद्यालय विज्ञान वर्ग में अपने श्रेष्ठ परीक्षा परिणाम के सहारे नामचीन विद्यालयों में शुमार है।
विद्यालय में संचालित हॉस्टल के छात्रों का परीक्षा परिणाम सदैव उत्तम रहा है जिससे एन.वी.एन. अभिभावकों के आंखों का तारा बन गया है। संस्था प्रधान एन.आर.चौधरी के परिश्रम एवं स्टाफ की मेहनत, लगन का ही परिणाम है कि विद्यालय ने शिक्षा जगत में कई उपलब्धियां हांसिल कर जिले में ही नहीं अपितु सम्पूर्ण प्रदेश में अपनी पहचान बनाई। आज विद्यालय के हॉस्टल में पूरे जिले एवं जिले से बाहर के कई छात्र रहकर अपने भविष्य की मंजिल को तय करने में लगे है। अत: विद्यालय के परीक्षा परिणाम ने एन.वी.एन. को अलग ही पहचान दी है।