ऐसे होती है पुलिस के पद की पहचान - भुवन भुषण यादव

Thu 07 Feb 19  7:15 pm

राजसमंद (राव दिलीप सिंह) सेव द चिल्ड्रेन बाल रक्षा भारत, जतन संस्थान व शिक्षा परिषद राजस्थान के संयुक्त  तत्वाधान में संचालित गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के माध्यम से वंचित वर्ग की बालिकाओं को सशक्तिकरण परियोजना तहत देवतलाई केजीबीवी की किशोरियों को शैक्षणिक भ्रमण करवाया गया | सपोर्ट फेलो लक्ष्मी शर्मा ने बताया कि भ्रमण का प्रमुख उद्देश्य किशोरियां पाठ्य पुस्तको की जानकारी को अपने आसपास के परिवेश से समझ बढ़ाते हुए अपने ज्ञान में वृद्धि करें व किशोरियों को जिला मुख्यालय पर बने विभागों से अवगत करवाने हेतु | आज के भ्रमण आयोजिन किया गया | किशोरियों को सर्वप्रथम न्यायालय भ्रमण करवाए व जिला विधिक सेवा प्राधिकरण हॉल में सचिव नरेन्द्र कुमार द्वारा प्राधिकरण द्वारा संचालित सेवाओं व बाल अधिकारों से अवगत करवाया | बच्चों द्वारा कलेक्ट्रेट में अतिरिक्त जिला कलेक्टर राकेश कुमार, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी युगल बिहारी दाधीच व भानु कुमार जी द्वारा बच्चो को शिक्षा विभाग एंव की विस्तृत जानकारी से अवगत करवाया | इसके बाद पुलिस अधीक्षक भुवन भूषण यादव द्वारा बच्चों को पुलिस की कार्यप्रणाली समझाई व पुलिस के पद की पहचान कैसे होती है सवाल पर एसपी साहब ने पुलिस पद में कांस्टेबल, हेड़ कांस्टेबल, व एसआई, सीआई, व एएसपी की पहचान के बारे में बताया | कांस्टेबल पियुष पालीवाल ने एसपी ऑफिस में बने कण्ट्रोल रूम सहित पूरा परिसर किशोरियों को विजिट करवा उनके जिज्ञासाओं को शांत किया | इसके पश्चात किशोरियों ने को टीम द्वारा नौ चौकी पाल पर बने हुए राजा राज सिंह पेरोनमा, राज प्रशस्ति,घेवर माता मंदिर विजिट की | शिक्षिका रेखा,पूनम व वार्डन भाग्यवन्ति द्वारा राजसमन्द जिले के इतिहास से जुडी महत्वपूर्ण जानकारियों से अवगत करवाया | प्रधानाध्यापिका प्रिया राव ने बताया कि इस तरह के भ्रमण किशोरियों के सर्वांगीण विकास में मददगार होगें व किशोरियों को नया नजरियाँ मिलेगा | इस दौरान परियोजना समन्वयक मरुधर सिंह देवड़ा चाइल्ड लाइन से रोशन सिंह, निलोफर डायर, महावीर सिंह सहित केजीबीवी केलवा की समस्त किशोरियां उपस्थित थी |