ऑनलाइन ठगी करने वाला ठग गिरोह गिरफ्त में

Wed 14 Aug 19  12:17 am


बीकानेर.शहर की काेटगेट थाना पुलिस ने फर्जी काॅल सेंटर बना अाॅनलाइन ठगी करने वाले गिराेह के छह लाेगाें दिल्ली निवासी माे.राजा, माेहम्मद आलम, धीरज साेनी, समीर, माे. नाजिम व यूपी के बागपत जिला निवासी प्रिंस चाैहान काे दिल्ली एयरपोर्ट से दबाेच लिया। आरोपियों ने बीकानेर में रहने वाले युवक के क्रेडिट कार्ड से 1.40 लाख रुपए निकाले थे, पुलिस साइबर तकनीक से पता लगाकर उन तक पहुंच गई। बीकानेर के खजांची माेहल्ले में रहने वाले देवांश अग्रवाल के क्रेडिट कार्ड का बिल ज्यादा जिसका सेटलमेंट करवाने के लिए उसने शिकायत कर रखी थी। ठगाें ने इसकी जानकारी जुटा उसे सेटलमेंट करवाने का झांसा देकर अाेटीपी नंबर हासिल कर क्रेडिट कार्ड से दाे बार 80 हजार अाैर 60 हजार रुपए निकाल लिए थे। काेटगेट थाने के एसएचअाे धरम पूनिया ने बताया कि छानबीन की गई ताे सामने अाया कि दिल्ली के लाेगाें का एक गिराेह है जिसने चलता-फिरता फर्जी काॅल सेंटर बना रखा है अाैर कंपनियाें, बैंकाें से जानकारी हासिल कर उपभाेक्ताअाें से अाॅनलाइन ठगी करते हैं। अभियुक्ताें की गिरफ्तारी के लिए एक टीम काे दिल्ली भेजा गया। रविवार काे गिराेह के छह सदस्य गाेवा जाने के लिए दिल्ली एयरपाेर्ट पहुंचे। वहां की पुलिस अाैर सीअाईएसएफ के सहयाेग से एयरपाेर्ट पर दिल्ली निवासी माे.राजा, माेहम्मद अालम, धीरज साेनी, समीर, माे. नाजिम अाैर यूपी में बागपत जिला निवासी प्रिंस चाैहान काे दबाेच लिया। इन अभियुक्ताें काे मंगलवार काे काेर्ट में पेश किया जाएगा। डेढ़ माह में 50 लाख से की ठगी ठगों के करीब 20 खाते हैं जिनमें डेढ़ माह की अवधि में 50 लाख रुपए से ज्यादा का ट्रांजेक्शन हुआ है। ये तरीका था ठगी का ठग कस्टमर केयर काॅल सेंटराें के डाटा के आधार पर क्रेडिट कार्ड वेरिफिकेशन व सटलमेंट के नाम पर उपभाेक्ताओ काे फाेन कर झांसे में लेते हैं। इसके लिए वे आईवीआरएस सेवा का उपयाेग करते हैं जिससे लगे कि टाेल फ्री नंबर से काॅल आया है। इसके बाद झांसे में लेकर वे पेयू, पीटीएम, फाेनपे जैसी साइटाें पर फर्जी मर्चेंट आईडी बना उपभाेक्ता से अाेटीपी नंबर हासिल कर रुपए निकाल लेते हैं।
news news news