‘’भारत कर सकता है चाईना से मुकाबला - रामपाल सोनी’’

‘’भारत कर सकता है चाईना से मुकाबला - रामपाल सोनी’’

Mon 31 Jul 17  5:33 pm


भीलवाड़ा (ओम कसारा) । ‘’बुनियादी सुविधाओं को सुदृढ़ बनाकर, योजनाबद्ध तरीके से बंदरगाह के पास ही उद्योग लगाकर और ट्रांसपोर्टेशन की लागत कम करके भारत बड़ी आसानी से औद्योगिक जगत में चाईना का मुकाबला कर सकता है।‘’ यह बात संगम ग्रुप के चैयरमेन रामपाल सोनी ने ‘’रूबरू’’ कार्यक्रम के दौरान कही।

                उन्‍होंनें कहा कि भीलवाड़ा के वस्‍त्र व्‍यवसायी बहुत अनुभवी हैं और भविष्‍य को दृष्‍टीगत रखते हुए व्‍यापार करते हैं ऐसे में यदि सरकार विद्युत की दरें वाजिब कर देवे तो यहां की टेक्‍सटाईल इण्‍डस्‍ट्रीज का भविष्‍य उज्‍जवल है। एक सवाल के जवाब में सोनी ने बताया कि देश में अभी भी करोड़ों लोग ऐसे हैं जिनके पास स्‍वंय के मकान नहीं है इसलिए वर्तमान में रियल स्‍टेट में भले ही मंदी का दौर हो ले‍किन वर्ष 2018 के मध्‍य तक प्रोपर्टी में पुन: उठाव आ जाएगा। उन्‍होंनें कहा कि नोटबंदी एवं जीएसटी से व्‍यापारियों को शुरूआत में भले ही परेशानियां हो सकती है लेकिन आगे जाकर इसके बेहद सकारात्‍मक परिणाम आऐंगें और देश की अर्थव्‍यवस्‍था में जोरदार तेजी आएगी।

                 राजस्‍थान में प्रचण्‍ड गर्मी पड़ने के बावजूद सौरऊर्जा के क्षैत्र में कोई उल्‍लेखनीय कार्य नहीं हो पाने सम्‍बन्धी प्रश्‍न के उत्‍तर में रामपाल सोनी ने कहा कि यदि सरकार आसानी से बडी़ मात्रा में जमीन उपलब्‍ध करवा देवे तो हमारा राज्‍य भी ‘’सोलर एनर्जी हब’’ बन सकता हैं। उन्‍होने कहा कि उद्योगों की वजह से पर्यावरण को खूब नुकसान पहुंचता है लेकिन यह बात भी सही है कि उद्योगों के बिना विकास  संभव नहीं है। इसलिए विकास एवं विनाश में सन्‍तुलन बनाए रखने के लिए सोनी ने भीलवाडा के उद्योगपतियों से आव्‍हान किया कि वो स्‍वंय की जेब से भी नियमित रूप से थोडा़ पैसा पौधे लगाने ओर पेड़ों का संरक्षण करने के लिए खर्च करे ताकि पर्यावरण की रक्षा की जा सके। यदि ऐसा नहीं किया तो इण्‍डस्‍ट्री का लम्‍बे समय तक टिक पाना असंभव है। 

news news news