boltBREAKING NEWS
  • भीलवाड़ा हलचल के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करें
  •  
  •  

आचार्य महाश्रमण द्वारा डेमोक्रेसी, रिस्पॉन्सबिलिटी और ड्यूटी पर दिया उपदेश वास्तव में हम लोगों को अपने जीवन में उतारना चाहिए राज्यपाल वीपी सिंह

आचार्य महाश्रमण द्वारा डेमोक्रेसी, रिस्पॉन्सबिलिटी और ड्यूटी पर दिया उपदेश वास्तव में हम लोगों को अपने जीवन में उतारना चाहिए राज्यपाल वीपी सिंह

 भीलवाड़ा।
पंजाब के राज्यपाल वीपी सिंह बदनोर ने कहा कि त्याग, तपस्या और बलिदान की धरती में आचार्य महाश्रमण के चातुर्मास से पूरे देश में धर्म की ज्योति जलेगी। सिंह ने आचार्य महाश्रमण के मंगल प्रवेश के बाद पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि मेरा सौभाग्य है कि आचार्य महाश्रमण के चातुर्मास जो भीलवाड़ा में हो रहा है उनके मंगल प्रवेश के मौके पर उपस्थित हुआ हूं। चातुर्मास  से भीलवाड़ा जिले ही नहीं पूरे मेवाड़ क्षेत्र में लोगों को धर्म के बारे में उपदेश मिलेगा। आज मुझे आपका स्वागत करने का अवसर प्राप्त हो रहा है। आपके प्रवचन हम सभी का मार्गदर्शन करने वाले हैं। उन्होंने आचार्य से विनती करते हुए कहा कि वे पंजाब की धरा पर भी पधारे। इस चातुर्मास जहां आचार्य महाश्रमण ने डेमोक्रेसी, रेस्पॉन्सब्लिटी और ड्यूटी पर जो उपदेश दिया है वह वास्तव में हम लोगों को अपने जीवन में उतारना चाहिए। आचार्य महाश्रमण चेन्नई में चातुर्मास कर रहे थे उस दौरान मैं भी पंजाब के लोगों के साथ चेन्नई में इनके दर्शन करने गया। और पंजाब में चातुर्मास करने के लिए विनती कि थी। आज भी मैंने आचार्य महाश्रमण को पंजाब में चातुर्मास करने के लिए निवेदन किया कि वह वहां पधारें। मंगल प्रवेश में पंजाब से भी काफी संख्या में लोग आते, लेकिन कोरोना महामारी के चलते भक्तजन उपस्थित नहीं हो सके। राज्यपाल सिंह ने कहा कि मैं आचार्य महाश्रमण का लंबे समय से भक्त हूं। जब वे युवाचार्य थे तब २००४ में आसींद में आचार्य महाप्रज्ञ का कार्यक्रम हुआ था। उस समय मैं भीलवाड़ा जिले से जनप्रतिनिधि था।प्रवचन के बाद पंजाव के राज्य पाल वीपीसिंह बदनोर ने आचार्य महाश्रमण से उनके कक्ष में १० मिनट तक चर्चा की।

आचार्य महाश्रमण द्वारा डेमोक्रेसी, रिस्पॉन्सबिलिटी और ड्यूटी पर दिया उपदेश वास्तव में हम लोगों को अपने जीवन में उतारना चाहिए राज्यपाल वीपी सिंह