boltBREAKING NEWS
  •   दिन भर की वीडियो न्यूज़ देखने के लिए भीलवाड़ा हलचल यूट्यूब चैनल लाइक और सब्सक्राइब करें।
  •  भीलवाड़ा हलचल न्यूज़ पोर्टल डाउनलोड करें भीलवाड़ा हलचल न्यूज APP पर विज्ञापन के लिए सम्पर्क करे विजय गढवाल  6377364129 advt. [email protected] समाचार  प्रेम कुमार गढ़वाल  [email protected] व्हाट्सएप 7737741455 मेल [email protected]   8 लाख+ पाठक आज की हर खबर bhilwarahalchal.com  

नगर परिषद सभापति और आयुक्त के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म का आरोप, 23 महिलाओं के साथ की हैवानियत

नगर परिषद सभापति और आयुक्त के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म का  आरोप, 23 महिलाओं के साथ की हैवानियत

सिरोही ।कोतवाली में नगरपरिषद सभापति महेंद्र मेवाड़ा एवं आयुक्त महेंद्र चौधरी पर 23 महिलाओं के साथ गैंगरेप का मामला दर्ज किया गया है। इस मामले में पाली निवासी महिला द्वारा पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करवाई गई है। अब पुलिस उप अधीक्षक पारसाराम इस मामले की जांच करेंगे।

क्या है मामला
बता दें कि पीड़िता की ओर से दर्ज रिपोर्ट में आरोप लगाया कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनाने के नाम पर सभापति महेंद्र मेवाड़ा एवं आयुक्त महेंद्र चौधरी ने उसे व उसके साथ पंद्रह-बीस महिलाओं को झांसा देकर बुलाया तथा गैंगरेप किया। इसके बाद वीडियो बनाकर महिलाओं को ब्लैकमेल करने का भी आरोप है। रिपोर्ट के अनुसार दो-तीन माह पहले आंगनबाड़ी में काम के लिए वह अपनी साथी महिलाओं के साथ सिरोही आई थी। इस दौरान वे सभापति महेंद्र मेवाडा एवं आयुक्त महेंद्र चौधरी से मिली थी। इन दोनों ने उन सभी को उनके परिचित के घर रूकवाया तथा खाने- पीने की व्यवस्था की थी। इस दौरान खाने में नशीला पदार्थ खिलाकर इन दोनों ने अपने साथियों के साथ महिलाओं से दुष्कर्म किया।पीड़िता ने यह भी बताया कि जब सभी महिलाओं को होश आया तो उनके सिरदर्द हो रहा था। परस्पर बातचीत के बाद सभापति व आयुक्त से पूछा तो मामले का पता चला। वे दोनों व उन दस-पंद्रह साथी हंसते हुए बोले कि हम लोगों ने इस काम के लिए ही तुम लोगों ने धोखे से यहां बुलाया था। वे सभी लोग नशे की हालत में थे। रिपोर्ट में आरोपियों के उनके वीडियो बनाने एवं ब्लैकमेल करने का भी आरोप लगाया गया है।


आरोपों का नहीं है कोई आधार
इधर, इस मामले में सिरोही नगर परिषद सभापति महेंद्र मेवाडा का कहना है इन आरोपों का कोई आधार नहीं है। इस तरह का कोई घटनाक्रम नही है। यह केवल उनकी उनकी राजनीतिक छवि खराब करने के लिए किसी का षड्यंत्र है। पूर्व में भी ऐसा प्रयास किया गया था जो बाद में झूठा पाया गया था। जांच के बाद सारी वास्तविकता सामने आ जाएगी।