boltBREAKING NEWS
  •  
  •  
  • भीलवाड़ा राजसमन्द व चित्तौड़गढ़ जिले में कोई भी घटना -दुर्घटना की भीलवाड़ा हलचल को तत्काल जानकारी 9829041455 9413376078 पर भेजे
  • रहें हर खबर से अपडेट भीलवाड़ा हलचल के साथ
  • भीलवाड़ा हलचल पर समाचार या जानकारी भेजे [email protected]
  • सबसे ज्यादा पाठकों तक पहुँच और सबसे सस्ता विज्ञापन सम्पर्क करें  6377 364 129
  •  

 ब्यावर नगर परिषद सभापति का कथित पीए और दलाल ढाई लाख की रिश्वत लेते गिरफ्तार 

 ब्यावर नगर परिषद सभापति का कथित पीए और दलाल ढाई लाख की रिश्वत लेते गिरफ्तार 

   ब्यावर  । जौधपुर एसीबी टीम ने गुरुवार को ब्यावर में कार्रवाई करते हुये नगर परिषद सभापति के कथित निजी सचिव और एक दलाल को 2 लाख 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। वहीं एक पार्षद कार्रवाई की भनक लगने से भाग छूटा। आरोपितों ने रिश्वत की यह राशि अवैध निर्माण के मामले को लेकर जारी किये गए नोटिस पर कार्रवाई नहीं करने और मामले को रफा-दफा करने के बदले ली।  
एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भोपालसिंह लखावत ने कहा कि ब्यावर के रहने वाले परिवादी ने एसीबी को शिकायत दी कि ब्यावर में शाहपुरा मौहल्ला शीतला माता के मन्दिर के पास  मकान के ग्राउंड फ्लोर पर बने हॉल का करीब एक वर्ष पहले रैनोवेशन करवाकर मिठाई की दुकान बनवाई थी। इस दुकान को लेकर नगरपरिषद में  बिना अनुमति दुकान निर्माण की शिकायत हुई। इस पर परिवादी को नगरपरिषद ब्यावर ने 22 अप्रैल को दुकान निर्माण को अवैध बताते हुए 3 दिवस में भू स्वामित्व के कागजात पेश करने अन्यथा दुकान निर्माण हटाने का अल्टीमेटम नोटिस दिया था। 
परिवादी ने शिकायत में कहा कि नगरपरिषद का नोटिस मिलने के  करीब 22 दिन के बाद ब्यावर सभापति के कथित पीए् भरत मंगल ने फोन कर  कहा कि अगर  दुकान के नोटिस के मामले में आप निपटारा करवाना चाहते हो तो ब्यावर नगरपरिषद के तीन पार्षदों को 3 लाख रुपये देने होंगे। इस पर परिवादी ने कथित पीए भरत मंगल को तीनों पार्षदों के साथ मीटिंग करवाने के लिए कहा।  
आज गुरुवार को पार्षद कुलदीप बोहरा व सभापति का कथित पीए् भरत मंगल परिवादी की दूकान पर पहुंचा और मामले को सुलटाने के लिए दस मिनिट बाद उनके द्वारा भेजे जाने वाले दो युवको योगेश और सुनील को ढाई लाख रुपए सौंप देने की बात कही और चले गए। थोड़ी ही देर बाद सुनील लखारा दूकान पर पहुंचा, जिन्हें दुकानदार से इशारा मिलते ही एसीबी  की टीम ने रंगे हाथ पकड़ लिया। पूछताछ में सुनील ने पार्षद कुलदीप बोहरा व सभापति के कथित पीए भरत मंगल द्वारा रुपये लेने भेजने की बात बताई। दोनों युवको की निशानदेही पर एसीबी की टीम ने ब्यावर स्थित जय मंदिर में पार्षद कुलदीप बोहरा व सभापति के कथित पीए भरत मंगल को पकडऩे के लिए दबिश दी, लेकिन पार्षद बोहरा को भनक लग जाने से वह मौके से फरार हो गया पर सभापति के कथित पीए भरत मंगल को पीछा कर पकड़ लिया गया।
इधर ब्यावर सभापति नरेश कनौजिया ने  कहा कि पकड़ा गया  भरत मंगल उनका पीए नहीं है, वो तो पार्टी का एक कार्यकर्ता है।