boltBREAKING NEWS

इन 3 बातों का हमेशा रखें ख्याल, वरना सस्ते के चक्कर लगेगी बड़ी चपत

इन 3 बातों का हमेशा रखें ख्याल, वरना सस्ते के चक्कर लगेगी बड़ी चपत

 टेक डेस्क। देश में पेट्रोल और डीजल की कीमत में लगातार इजाफा दर्ज किया जा रहा है, जिसकी वजह से सीएनजी कार की डिमांड बढ़ रही है। लेकिन अगर आप नई सीएनजी कार खरीदने का प्लान बना रहे हैं, तो आपको सीएनजी कार की खास बातों का ख्याल रखना चाहिए वरना सस्ते के चक्कर में आपको बड़ा झटका लग सकता है। दरअसल भारत में गर्मी अपने चरम पर है। ऐसे में सीएनजी कार में आग लगने की घटनाएं बढ़ जाती है. आइए जानते हैं कि कैसे इन घटनाओं को रोक सकते हैं।

समय पर कराएं जांच

सीएनजी सिलेंडर की हर तीन साल में अनिवार्य जांच करानी होती है। लेकिन कई बार लोग बिना जांच के सीएनजी सिलेंडर में फुल कराते रहते हैं, जिससे सिलेंडर में कार्बन बढ़ने की वजह से सिलेंडर की क्षमता कम हो जाती है। इससे सीएनजी सिलेंडर में कम सीएनजी फिल होती है। साथ ही सिलेंडर में लीके की वजह से कार में आग लगने की घटनाएं बढ़ जाती है।

अथॉराइज्ड जगह से लगवाएं सिलेंडर

कई बार लोग कार खरीद लेते हैं, फिर उसमें सीएनजी फिट कराते हैं जो कि खतरनाक हो सकता है। बेहतर होगा कि कंपनी फिट सीएनजी कार खरीदें। अगर संभव नहीं है, तो बेहतर होगा कि अथॉराइज्ड सर्विस सेंटर से ही कार में सीएनजी किट लगवाएं, क्योंकि जब आप अथॉराइज्ड सर्विस सेंटर से कार में सीएनजी किट लगवाते हैं, तो आपको कंपनी एक सर्टिफिकेट जारी किया जाता है, जिससे आप देशभर में किसी भी राज्य में सीएनजी कार लेकर जा सकते हैं।

चेक करें एक्सपाइयरी डेट

सीएनजी सिलेंडर की अपनी एक लाइफ होती है। जिसका हमेशा ख्याल रखना चाहिए। दरअसल सरकार की ओर से एक सीएनजी सिलेंडर की औसत लाइफ 15 साल निर्धारित की गई है। आमतौर पर इतनी ही लाइफ एक कार की मानी जाती है। लेकिन अगर आप लंबे वक्त तक कार चलाते हैं, तो सीएनजी कार के सिलेंडर को जरूर रिप्लेस करवा लें, वरना आपको नुकसान उठा सकते हैं।