boltBREAKING NEWS

किस उम्र में बच्चों को खिलाना चाहिए गाजर, जानें कैसे बच्चों के लिए हैं ये फायदेमंद

किस उम्र में बच्चों को खिलाना चाहिए गाजर, जानें कैसे बच्चों के लिए हैं ये फायदेमंद

गाजर  का हलवा, गाजर की सब्जी और जैसी तमाम चीज़ें घरों में पकाई जाती हैं. हमारे भारत के कई घरों में अलग अलग प्रकार से पका कर खाई जाने वाली गाजर को सभी लोग पसंद करते हैं. यह हेल्थ के लिए कई प्रकार से फायदेमंद तो है ही और स्वाद में भी लाजवाब है. वैसे पहले तो इसे ठंडियों के मौसम में खाया जाता था पर अब यह हर मौसम हर शहर में उपलब्ध है. आज हम आपको बच्चों के लिए गाजर के फायदों के बारे में बताएंगे साथ ही छोटे बच्चों को आप किस उम्र से इसे खिला सकते हैं इसके बारे में भी जानकारी देंगे. आइए जानते हैं फिर बच्चों को किस उम्र में गाजर खिलाना चाहिए और इसके सेवन से आप उन्हें कैसे चश्मा से दूर रख सकते हैं.

इस उम्र में बच्चों को दे सकते हैं गाजर
छोटे बच्चों को आप 8 महीने की उम्र से गाजर दे सकते हैं. जी हां, यह सही उम्र हैं उन्हें गाजर के फायदों से परीचित कराने के लिए. बेबी फूड के रूप में आप इसे उबालकर प्यूरी के रूप में उनकी डाइट में शामिल कर सकते हैं. 

गाजर से मिलने वाले बेबी को फायदें
दरअसल गाजर में ऐसे गुण पाए जाते हैं जिससे कि चोट या घाव लगने पर उस हिस्से को भरने में मदद मिलती है.

इम्यूनिटी को बढ़ाने में करता है मदद
बच्चों की मौसम बदलते ही बहुत जल्दी जल्दी तबीयत खराब हो जाती है. ऐसे में आप गाजरर की मदद से उनकी इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग कर सकते हैं. गाजर में इम्यून सिस्टम को ठीक रखने के लिए ब्लड प्लेटलेट्स और लिम्फोसाइट्स अहम होती है. 

आंखों की रोशनी के लिए है अच्छी
गाजर में विटामिन ए और बीटर कैरोटीन होता है. और ये दोनों ही तत्व आंखों की रीशनी के लिए जरूरी है. यह रेटिना की ग्रोथ में मदद करते हैं. बच्चों की आंखे कमजोर हो या उनकी रोशनी बढ़ानी हो तो आप बच्चों की डाइट में गाजर को किसी ना किसी रूप में जरूर शामिल करें.