boltBREAKING NEWS
  •  
  • भीलवाड़ा हलचल app के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करे या 7737741455 पर जानकारी दे, तथाकथित लोगो से सावधान रहें । 
  •  
  •  
  •  

बीकानेर-गुवाहाटी ट्रेन हादसा : पहले लगा गिट्टी टकरा रहा है, फिर पलट गयी बोगी, लोगों ने बतायी आपबीती

बीकानेर-गुवाहाटी ट्रेन हादसा : पहले लगा गिट्टी टकरा रहा है, फिर पलट गयी बोगी, लोगों ने बतायी आपबीती

भइया...ए भइया...ये इतना जोर-जोर से गिट्टी टकरा रहा है क्या? मैंने इतना ही कहा था कि बोगी पलट गयी और हम लोग तीन से चार पलटनिया खा गये. हमलोगों को समझ में नहीं आ रहा था कि आखिर हुआ क्या? मैं अपने परिवार को खोजने लगा. सभी एक दूसरे पर गिरे थे. चारों तरफ चीख पुकार मचा था.

भइया अब भी मैं कांप रहा हूं. भगवान ने मुझे और परिवार को बचा लिया. यह कहना है गुवाहाटी के रहने वाले बिनोद का. वे अपने भाई परशुराम, पत्नी सुनिता देवी, दो बेटे आलोक व सचिन के साथ पटना से गुवाहाटी के लिए निकले थे. छपरा के राजापट्टी में अपने एक भाई के काम-क्रिया में आये हुए थे. इस हादसे में उनके भाई परशुराम गुप्ता को हाथ और पैर में चोट आयी है.

बिनोद ने बताया कि ऐसा हादसा मैंने टीवी और अखबार में देखा और पढ़ा था, आज मैं खुद इस हादसे में बाल-बाल बचा हूं. मुझे तो अब किसी भी गाड़ी में बैठने में डर लग रहा है. घटनास्थल से दो किलोमीटर पैदल चलकर मुख्य सड़क पर आये और वहां इनोवा कार पांच हजार रुपये में रिजर्व किया है. बिनोद हाथी पोखर स्थित ससुर के गांव जा रहे थे.

एकाएक ट्रेन कांपने लगी और आंखों से ओझल गया परिवार

पटना से ट्रेन का टिकट कटवा गुवाहाटी के लिए रवाना हुए राजू ने बताते हैं कि घटना के वक्त उनकी बेटी नंदनी और ज्योति पत्नी सोयी हुई थी. वे मोबाइल चला रहे थे. अचानक ट्रेन कांपने लगी. देखते ही देखते बेटी और पत्नी आंखों से ओझल गयीं. चारों तरफ लोग अपने-अपने परिवार को खोज रहे थे. मैं भी अपनी बेटी और पत्नी को खोजने लगा.

बेटी का हाल ही में ऑपरेशन हुआ है. वह दर्द से चिल्ला रही थी, देखा कि उसके ऊपर एक बड़ा सुटकेश गिरा हुआ है और पत्नी उसे उठाने की कोशिश कर रही है. यह हादसा जीवन भर याद रहेगा भइया...ऐसा किसी के परिवार के साथ न हो.

पटना से चढ़े बांदा के लल्लू की हो गयी मौत

पटना से गुवाहाटी जानेवाले सैयद राकेश अली ने बताया कि ट्रेन काफी रफ्तार से जा रही थी. अचानक तेज झटका लगा और ट्रेन रुक गयी. झटके के साथ वे सीट के नीचे गिर पड़े. अल्लाह का शुक्र है कि सिर्फ चोट लगी. जान बच गयी. हमलोग एस-6 में तीन लोग सफर कर रहे थे. न्यू जलपाइगुड़ी से आगे बढ़ने पर यह हादसा हुआ.

बाहर निकलने पर देखा कि एस-5 बोगी एस-6 पर चढ़ी हुई है. राकेश गुवाहाटी के रहनेवाले हैं. इसी बोगी में पटना से चढ़े सचिन कुमार ने कहा कि शाम का वक्त था. हमलोग आपस में गपशप कर रहे थे कि अचानक ट्रेन रुक गयी. तभी समझ गया कि इमरजेंसी ब्रेक लगी है. अचानक ट्रेन रुकने से नीचे की वे लोग फर्श पर गिर पड़े.

इसी बोगी में पटना से चढ़े लल्लू की इस हादसा में मौत हो गयी.उनकी सीट बाथरूम के पास थी. वे यूपी के बांदा के रहनेवाले थे. उनके मित्र शशांक तिवारी ने बताया कि हमलोग तीन दोस्त पटना से चढ़े थे. कानपुर से टिकट नहीं मिलने के कारण पटना से टिकट कटाये थे.

संबंधित खबरें

welded aluminum boat manufacturers