boltBREAKING NEWS
  • भीलवाड़ा हलचल के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करें
  •  
  •  

सी एम के सपने लोकल नहीं अपने

सी एम के सपने लोकल नहीं अपने


भीलवाड़ा। विधायक चुनाव में अभी लगभग ढाई साल बाकी है। अभी कांग्रेस में ही मुख्यमंत्री को लेकर आए दिन हो रही खींचतान में सुलह का रास्ता नहीं मिल रहा मगर भाजपा अगले चुनाव में अपनी सत्ता तय मानते हुए अभी से मुख्यमंत्री के दावेदारों को लेकर चर्चा में हैं। रविवार को भीलवाड़ा में भाजपा कार्यालय में भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री कालू लाल गुर्जर ने *अगला मुख्यमंत्री* बनने की अपनी इच्छा पर *दोबारा मोहर लगा दी*। मौका था भाजपा जिला कार्यालय में बुलाई गई प्रेस वार्ता का। फॉरमैलिटी के रूप में चल रही प्रेस वार्ता में मौजूद पूर्व मंत्री कालू लाल गुर्जर से सवाल किया गया कि हाल ही में उन्होंने एक बयान देकर भाजपा का अगला मुख्यमंत्री बनने की इच्छा जाहिर की है ? तो इस बयान से पहले उन्होंने स्थानीय सांसद सुभाष बहेड़िया, भाजपा जिलाध्यक्ष लादू लाल तेली, विधायक विठ्ठल शंकर अवस्थी ओर नगर परिषद सभापति राकेश पाठक से चर्चा कर सहमति ली है क्या? तो कालू लाल ने साफ मना कर दिया कि किसी भी *लोकल नेताओं* से न तो इस संबध में बात की है न ही सहमति ली ही। यह जवाब सुनते ही सभी नेता बगले झांकते दिखाई दिए। आनन फानन में प्रेस वार्ता की इतिश्री करदी गयी। अब सवाल यह है कि पार्टी की प्रेस कॉन्फ्रेंस में जब जवाबदार नेता अगला मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को बता रहे हो। उसी मंच पर मुख्यमंत्री के सपने देख रहा पार्टी का ही वरिष्ठ नेता भी मौजूद रहकर अपने  द्वारा देखे जा रहे *हसीन सपने* की बात करें और वो भी बिना किसी लोकल नेता की सहमति के। ऐसे में भाजपा की राजनिति में  उबाल तो आना ही था ओर आ गया। अब पार्टी में बहस इस बात को लेकर चल पड़ी है कि एक तरफ तो अधिकतर स्थानीय नेता *वसुंधरा खेमे* के है इधर कालू लाल गुर्जर अभी से ही सपने देखने लगे हों तो पार्टी का इस मामले में आगे क्या रुख रहेगा यह देखने, समझने और देख लेने की बात होने वाली है।
  इससे पूर्व गुर्जर ने राज्य सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि केन्द्र सरकार पूरी वैक्सीन उपलब्ध करवा रही हैं।लेकिन राज्य सरकार कमी बताकर केंद्र सरकार को बदनाम कर रही हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत केंद्र सरकार की तारीफ कर रहे वहीं चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा केन्द्र सरकार को कोस रहे हैं। दोनों में ही तालमेल नहीं हैं। उन्होंने वैक्सीन को कचरे में फैंकने का भी आरोप लगाया। राज्य सरकार कोरोना की गति धीमी होने के बाद आक्सीजन कंसटेटर खरीद रही हैं वो भी 32 हजार की बजाय 50 हजार में खरीद रही हैं। बेरोजगारी बढ़ रही हैं। युवाओं को नौकरी देने का वादा थोथा साबित हो रहा हैं। सांसद बहेडिया ने कहा इस महामारी में दोनों दल एक दूसरे को कोसने की बजाय मिलकर काम करें। जनता का भला होगा । इस मौके पर सांसद प्रतिनिधि राज कुमार आंचलिया, पूर्व महामंत्री प्रशांत मेवाड़ा, मीडिया प्रभारी महावीर समदानी, प्रवक्ता कैलाश सोनी मौजूद थे।
      -