boltBREAKING NEWS

महंगाई की आग में डीजल-पेट्रोल से महंगी हुई CNG, जानें क्या-क्या हुआ महंगा

महंगाई की आग में डीजल-पेट्रोल से महंगी हुई CNG, जानें क्या-क्या हुआ महंगा

सीएनजी के दाम बढ़ने के कारण ऑटो संचालकों ने किराया दोगुना कर दिया है.रोडवेज और प्राइवेट बस वाले किराया बढ़ाने की तैयारी में है, जबकि टैक्सी वाले भी किराया बढ़ा चुके हैं. केंद्र सरकार ने 18 जुलाई को खाद पदार्थों पर जीएसटी लगाई थी.

 विधानसभा से लेकर लोकसभा और राज्यसभा तक महंगाई को लेकर हंगामा मच रहा है. मगर, इसके बाद भी महंगाई में कमी नहीं आ रही है.आम आदमी की खाने की थाली पहले से ही महंगी थी, लेकिन 18 जुलाई को खाद्य पदार्थो पर लगी जीएसटी ने मंहगाई में घी डालने का काम किया है. मगर, अब खाने के साथ ही सफर भी मंहगा हो गया है.इससे आम आदमी काफी दुखी है. सीएनजी के दाम 93 से बढ़कर 98 हो गए हैं. यह पेट्रोल और डीजल से भी आगे निकल गए हैं. इसमें उम्मीद है कि, जल्द सीएनजी दामों के मामले में शतक लगा देगी.

सीएनजी के दाम बढ़ने के कारण ऑटो संचालकों ने किराया दोगुना कर दिया है.रोडवेज और प्राइवेट बस वाले किराया बढ़ाने की तैयारी में है, जबकि टैक्सी वाले भी किराया बढ़ा चुके हैं. केंद्र सरकार ने 18 जुलाई को खाद पदार्थों पर जीएसटी लगाई थी. इससे महंगाई में पांच से सात फीसद का और इजाफा हुआ है. बरेली में ऑटो संचालकों ने न्यूनतम किराया पांच के बजाय 10 रूपये कर दिया है. इसके साथ ही अन्य स्थानों का भी किराया बढ़ाने की तैयारी है.

गुरुवार को भी बढ़े पेट्रोल -डीजल के दाम

पेट्रोल की कीमत में गुरुवार सुबह 77 पैसे का इजाफा हुआ है. जिसके चलते पेट्रोल की कीमत 97.03 रूपये प्रति लीटर हो गई है.इसी तरह डीजल पर 75 पैसे बढ़ने से डीजल की कीमत 90.20 रूपये प्रति लीटर हो गई है. बरेली में सीएनजी के दाम 93.36 रूपये लीटर से बढ़कर 98 रूपये लीटर तक पहुंच गई है, जबकि पीएनजी के दाम 52 से बढ़कर 56 रूपये प्रति लीटर तक हो गए हैं.मगर, सीएनजी के बढ़ते दामों ने सबको हैरत में डाल दिया है. बरेली में सीएनजी के दाम डीजल पेट्रोल से भी ऊपर निकल गए हैं.

एलपीजी सिलेंडर पर 3 वर्ष में बढ़ें 400 रूपये

घरेलू एलपीजी सिलेंडर 14.02 किलोग्राम की कीमत तीन वर्ष पूर्व 677 रूपये थी.मगर, गुरुवार को 14.02 किलो के एलपीजी सिलेंडर की कीमत 1071 रुपए है, जो अक्टूबर 2021 में 918 रूपये का था.वर्ष 2016 में सिर्फ 519 रूपये का था.इससे आम आदमी एलपीजी से घरेलू चूल्हे पर खाना बनाने को मजबूर है.

खाद्य पदार्थों के यह बढ़े दाम

18 जुलाई को खाद्य पदार्थों पर जीएसटी लगने के बाद दामों में इजाफा हुआ है.450 ग्राम दूध का पैकेट फुलक्रीम 28 से बढ़कर 30 रूपये का हो गया है. 450 ग्राम दूध का पैकेट डीटीएम 20 से 22 रूपये, 300 ग्राम छाछ पैक 12 से 14 रूपये, 180 ग्राम दही का पैकेट 22 से 25 रूपये, 5 किलो दही का डिब्बा 225 से बढ़ाकर 250 रूपये का हो गया है.

सरसों और रिफाइंड के भी बढ़े दाम

जीएसटी लगने के बाद सरसों और रिफाइंड के दाम में 5 से 10 रूपये का इजाफा हुआ है. बाजार में फार्च्यून रिफाइंड 141 से 146 रूपये किलो, मुहल्लों की दुकानों पर 170 से 180 रूपये किलो, सरसों का तेल 166 से 172 रूपये किलोग्राम हो गया है. सरसों का तेल 157 से 170 तक बिक रहा है.

दाल- चावल भी खाना मुश्किल

जीएसटी लगने के बाद दाल चावल खाना भी मुश्किल हो गया है. उड़द की दाल 90 से 96 और 100 रूपये तक के बीच आ गई है, जबकि मसूर, चना और अन्य दालों में 5 से 10 रूपये प्रति किलो की वृद्धि हुई है. बासमती चावल 80 से 100 हो गया है. शरबती चावल 50 से 60 तक पहुंच गया. इसी तरह से 1 किलो राजमा 180, चने की दाल 1 किलो 180, मूंग की दाल 180, उरद की दाल 180 रूपये किलो है.ब्रेड का प्लेन 400 ग्राम 55 रूपये, 1 किलो मिक्स आचार 155 रूपये हो गया है.