boltBREAKING NEWS
  • रहें हर खबर से अपडेट भीलवाड़ा हलचल के साथ
  • भीलवाड़ा हलचल पर समाचार या जानकारी भेजे [email protected]
  • सबसे ज्यादा पाठकों तक पहुँच और सबसे सस्ता विज्ञापन सम्पर्क करें  6377 364 129
  •  

क्राइम पेट्रोल और CID देखकर बना ठग, CM योगी का OSD बनकर अफसरों को ठगा

क्राइम पेट्रोल और CID देखकर बना ठग, CM योगी का OSD बनकर अफसरों को ठगा

 कौशांबी, 
उत्तर प्रदेश के कौशांबी से एक ठगी का मामला सामने आया है. जहां पर एक शातिर बदमाश मुख्यमंत्री का ओएसडी बनकर यूपी समेत दूसरे प्रदेश के डीएम, एसपी, सीएमओ समेत कई अधिकारियों से राम मंदिर के नाम पर लाखों रुपये की सहयोग राशि की वसूली कर चुका है.   
 
कौशांबी जनपद के जिला आबकारी अधिकारी राजेंद्र प्रसाद शर्मा के मोबाइल पर कुछ दिनों पहले एक फोन आया. फोन करने वाले ने अपना नाम पंकज सिंह उर्फ अरविंद कुमार मिश्र ओएसडी मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश बताया और जिला आबकारी अधिकारी से राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा मांगा.  
ओएसडी द्वारा मांगे गए चंदे को लेकर जिला आबकारी अधिकारी को कुछ शक हुआ और उन्होंने मंझनपुर कोतवाली में शिकायत दर्ज कराई. मुकदमा दर्ज होने के बाद साइबर व सर्विलांस टीम जांच पड़ताल में जुटी तो एक के बाद एक कई सनसनीखेज खुलासे हुए. पता चला कि मुख्यमंत्री का ओएसडी बताने वाला पंकज सिंह उर्फ अरविंद कुमार मिश्र ने कौशांबी के सीएमओ, एआईजी स्टांप व कुछ डॉक्टरों से भी धनराशि मांगी है. 
 
पुलिस ने पंकज सिंह उर्फ अरविंद कुमार मिश्र के नंबर को सर्विलांस पर लगाया. उसकी लोकेशन पश्चिम बंगाल और झारखंड मिली. चूंकी यह मामला मुख्यमंत्री की छवि को खराब करने से जुड़ा था इसलिए पुलिस ने जांच को तेज किया और पुलिस की एक टीम पश्चिम बंगाल और झारखंड पहुंची. पश्चिम बंगाल गई टीम ने वहां के एक बैंक से सीसीटीवी फुटेज और कुछ डिटेल निकाले.  
पुलिस को पंकज सिंह के पास से तीन मोबाइल फोन, अलग-अलग बैंक की दो चेक बुक, दो डायरी बरामद हुई, जिसमें कई महत्वपूर्ण दस्तावेज दर्ज हैं, वह सब बरामद हुआ. पुलिस ने पंकज सिंह से सख्ती के पूछताछ की तो उसने अपना अपराध स्वीकार करते हुए बताया कि उसने यूपी के सीएम का ओएसडी बनकर अब तक प्रदेश समेत कई अन्य राज्यों के डीएम, एसपी, सीएमओ, आबकारी अधिकारी जिनकी संख्या लगभग 40 है, उनसे राम मंदिर के नाम पर चंदा मांगकर ठगी कर चुका है. वह यह रकम ऑनलाइन एक बैंक खाते में ट्रांसफर करवाता था. अब तक उसने लगभग पांच लाख रुपये अलग-अलग अधिकारियों से अपने खाते में ट्रांसफर करा चुका है.  
पुलिस अधीक्षक अभिनंदन ने यह पूरी जानकारी देते हुए बताया कि गिरफ्तार किए गए पंकज सिंह उर्फ अरविंद कुमार मिश्रा ने पूर्व में लगभग तीन साल तक लखनऊ सचिवालय के बाहर चाय की दुकान भी चलाई थी. उसने यह अपराध क्राइम पेट्रोल और सीआईडी जैसे टीवी सीरियल देख कर करना शुरू किया था. कोर्ट में पेश करने के बाद उसे अब जेल भेजा जा रहा है. 

ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम

cu