boltBREAKING NEWS

चित्तौड़गढ़ के सिपाही ने की साढ़े 12 लाख की धोखाधड़ी

चित्तौड़गढ़ के सिपाही ने की साढ़े 12 लाख की धोखाधड़ी

अजमेर. हार्डकोर बंदियों की तारीख पेशी पर अजमेर में लगाए गए चित्तौड़गढ़ के सिपाही पर साथी सिपाही से साढ़े 12 लाख रुपए की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। पीडि़त सिपाही की शिकायत पर क्रिश्चियनगंज थाना पुलिस ने धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया है

लोहागल रोड मीरा आईटीआई के सामने न्यू भारत नगर निवासी जितेन्द्र कुमार जाटव ने रिपोर्ट दी कि वह पुलिस लाइन में सिपाही पद पर 2013 से तैनात है। चित्तौड़गढ़ जिले के सिपाही नेनाराम गोदारा मार्च 22 से हार्डकोर बंदियों की पेशी ड्यूटी के लिए तैनात था। इस दौरान उससे पहचान हो गई। इसके बाद दोनों साथ में रहने लगे। उसने साथ रहने के दौरान निजी आवश्यकता के लिए 5 लाख रूपए मांगे। उसने इन्कार किया तो नेनाराम ने उसे पांच लाख रूपए देने या किसी से दिलाने का दबाव बनाया। कुछ दिन बाद में लौटाने की बात कही। साथ रहने के कारण विश्वास करते हुए 23 अप्रेल 2022 को 50 हजार रूपए फोन-पे से ट्रांसफर कर दिए। फिर 3 मई को 50 हजार, 4 मई को 40 हजार और 5 हजार रूपए गूगल पे से ट्रांसफर कर दिए। उसने नेनाराम को एक लाख 45 हजार रुपए फोन-पे व गूगल-पे से ट्रांसफर किए। फिर 6 मई को बैंक के चेक से 4 लाख रूपए नेनाराम के चित्तौड़गढ़ के खाते में ट्रांसफर किए।

डॉलर में भी लिया भुगतान
उसने बताया कि नेनाराम ने एक माह बाद रकम लौटाने के बजाए और मांग करने लगा। वह गुमराह करता रहा कि जीजा फूसाराम के पास रकम आते ही वह पैसा वापस लौटाने देगा। उसने 7 जून को फोन-पे से 90 हजार और 2 दिन बाद लोहागल रोड एसबीआई शाखा से 5 लाख रूपए और 1430(डॉलर) यानि एक लाख 21 हजार 550 रूपए दिए। आरोपी की शुरू से रकम हड़पने की मंशा थी। उसने 12 लाख 56550 रूपए लौटाने के लिए कहा तो टालमटोल करता रहा है।