boltBREAKING NEWS
  • रहें हर खबर से अपडेट भीलवाड़ा हलचल के साथ
  • भीलवाड़ा हलचल पर समाचार या जानकारी भेजे [email protected]
  • सबसे ज्यादा पाठकों तक पहुँच और सबसे सस्ता विज्ञापन सम्पर्क करें  6377 364 129
  •  

पौराणिक ज्ञान की दृष्टि से मठ भारत की सांस्कृतिक विरासत: प्रो. अमेरिका सिंह

पौराणिक ज्ञान की दृष्टि से मठ भारत की सांस्कृतिक विरासत: प्रो. अमेरिका सिंह

निम्बाहेडा। मोहनलाल सुखाडिया विश्वविद्यालय के प्रो. अमेरिका सिंह ने कहा कि वैदिक एवं पौराणिक ज्ञान की दृष्टि से हमारे प्राचीनतम मठ भारत की सांस्कृतिक विरासत है। प्रो. सिंह श्री कल्लाजी वैदिक विश्वविद्यालय एवं भारतीय दर्शन अनुसंधान परिषद शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार के संयुक्त तत्वाधान में वैदिक विश्वविद्यालय के सभागार में भारतीय दर्शन के लिए हिन्दु मठों के योगदान विषयक राष्ट्रीय संगोष्ठी के समापन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने भारत में मठों और मंदिरों को धार्मिक केन्द्र की बजाय आध्यात्मिक उर्जा के स्त्रोत एवं आत्मीय उर्जा के पर्याय बताते हुए कहा कि यदि भारत में मठ और मंदिर नहीं होते तो भारत की पहचान अथवा भारत का अस्तित्व भी नहीं होता। उन्होंने प्रदेश के एक मात्र वैदिक विश्वविद्यालय की परिकल्पना को अनूठा बताते हुए प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों के उपकुलपतियों एवं विद्वानों का आव्हान किया कि वे लुप्त होती वैदिक संस्कृति को जीवंत बनाने और वेदों में निहित विज्ञान को शोध के माध्यम से प्रकट कर भारत को एक बार फिर विश्वगुरू बनाने की ओर अग्रसर इस विश्वविद्यालय को हरसंभव योगदान कर पल्लवित एवं पुष्पित करने में कोई कोर कसर नहीं रखे। उन्होंने विश्वास दिलाया कि वे इस विश्वविद्यालय को वैदिक ज्ञान का उर्जा केन्द्र बनाने में अपनी ओर से हरसंभव प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि इस विश्वविद्यालय अधिष्ठाता ठाकुर श्री कल्लाजी की वैदिक शिक्षा की यह  परिकल्पना सभी के सहयोग से शीघ्र ही साकार होकर वैदिक मानचित्र पर अपनी छाप छोडेगी।

ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम

cu