boltBREAKING NEWS
  • भीलवाड़ा हलचल app के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करे या 7737741455 पर जानकारी दे, तथाकथित लोगो से सावधान रहें । 
  •  
  •  
  •  

विद्यालय भवन निर्माण की मांग, ग्रामीणों ने लगाया जाम, बाजार कराए बन्द, तीन हिरासत मे

विद्यालय भवन निर्माण की मांग, ग्रामीणों ने लगाया जाम, बाजार कराए बन्द, तीन हिरासत मे

भीलवाड़ा । जिले के फूलियाकलां कस्बे में विद्यार्थियों व ग्रामीणों ने विद्यालय भवन निर्माण को लेकर कक्षाओं का बहिष्कार कर विरोध प्रदर्शन कर कस्बे का बाजार बंद करवा दिया और बस स्टैण्ड पर चक्का जाम कर दिया। मामले की जानकारी मिलने पर फूलियाकलां थाना पुलिस मौके पर पहुंची और तीन ग्रामीणों को हिरासत में लेकर जाम खुलवाया। जानकारी के अनुसार फूलियाकलां उपखण्ड क्षेत्र के सबसे बड़े विद्यालय राजकीय उ'च माध्यमिक विद्यालय फूलियाकलां में करीब 700 विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। जबकि विद्यार्थियों के बैठने के लिए कक्षा कक्ष उपलब्‍ध नहीं हैं। विद्यार्थियों को नजदीक स्थित अन्य विद्यालय राजकीय उच्‍च प्राथमिक विद्यालय के भवन बैठने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था कर दी गई। परन्तु वहां भी कक्षा कक्ष उपलध नहीं हैं। जिसको लेकर विद्यालय भवन निर्माण करने की मांग को लेकर कई बार विद्यार्थियों एवं ग्रामीणों ने उपखंड अधिकारी एवं शिक्षा विभाग के अधिकारियों को ज्ञापन सौंपे।

इसके बावजूद भी प्रशासन द्वारा कोई उचित कदम नहीं उठाए जाने से खफाहोकर मंगलवार को विद्यार्थियों ने कक्षाओं का बहिष्कार कर कस्बे के बाजार बंद करवा दिए। इसके पश्चात बसस्टैण्ड पर पहुंच चक्का जाम लगा दिया।पुलिस ने मौके पर पहुंच समझाइस का प्रयास किया। इसके पश्चात पुलिस ने कस्बे के जसवंत राव, लालाराम रेगर एवं शिवराज आचार्य को हिरासत में लेकर भीड़ को तीतर-बितर किया। गौरतलब है कि राजकीय उ'च माध्यमिक विद्यालय का प्राचीन भवन जर्जर होने से जिला शिक्षा अधिकारी एवं जिलास्तरीय निष्पादक समिति भीलवाड़ा के अध्यक्ष ने 4 सितंबर 2020 को भवन गिराने का आदेश जारी किया। जिसके बाद 31 दिसंबर 2020 को विद्यालय भवन के 14 कमरों एवं बरामदे को जमीदोंज कर दिया गया। विद्यालय भवन निर्माण को लेकर कई बार ग्रामीणों ने उपखण्ड अधिकारी एवं शिक्षा विभाग के अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों से गुहार लगाई। परन्तु इन सबके बाद भी स्थिति जस की तस बनी हुई हैं। विद्यालय में बोर्ड परीक्षा सेंटर होने के साथ ही विज्ञान, वाणिÓय, कला एवं कृषि संकाय संचालित हैं। जिनमें कस्बे के साथ ही आसपड़ौस के गांवों के विद्यार्थी अध्ययनरत हैं।