boltBREAKING NEWS
  • जयपुर : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने की प्रदेश के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील, कहा- दोषियों को बख्शेंगे नहीं
  • भीलवाड़ा : जिला कलेक्टर आशीष मोदी ने लोगों से की शांति की अपील, बोले- अफवाहों पर न दें ध्यान  
  • भीलवाड़ा : एसपी आदर्श सिधू ने की लोगों से शांति बनाए रखने की अपील, कहा- पुलिस का सहयोग करें और कानून व्यवस्था बनाए रखें 
  •  

हाईवे पर जिंदा जले ड्राइवर-हेल्पर

हाईवे पर जिंदा जले ड्राइवर-हेल्पर

टोंक

 कोटा-जयपुर हाईवे पर सोमवार तड़के करीब 3 बजे ट्रेलर के ड्राइवर और हेल्पर जिंदा जल गए। हाईवे पर एक ट्रेलर किसी दूसरी गाड़ी से टकराया था। इस दौरान पीछे से आया बजरी से भरा तेज रफ्तार ट्रेलर उसी ट्रेलर से टकरा गया। इसके बाद इसमें आग लग गई। तेजी से भड़की आग ने हेल्पर और ड्राइवर को निकलने का मौका नहीं दिया। घटना के करीब एक घंटे बाद फायर ब्रिगेड की गाड़ी मौके पर पहुंची और आग पर काबू पाया। तब तक ट्रेलर पूरी तरह जल चुका था। करीब डेढ़ घंटे हाईवे पर ट्रैफिक रुका रहा। हादसा टोंक के घाड़ इलाके में हुआ है।आग इतनी भीषण थी कि ट्रेलर के ड्राइवर और हेल्पर को बाहर निकलने का मौका ही नहीं मिला। करीब एक घंटे पर मौके पर पहुंची दमकल की गाड़ी ने आग पर काबू पाया।

देवली DSP सुरेश कुमार मेघवाल ने बताया कि सोमवार सुबह करीब 3 बजे बनास से दो बजरी से भरे ट्रेलर जयपुर की ओर जा रहे थे। इस दौरान नेशनल हाईवे-52 पर सरोली से करीब 2 किमी दूर जूनिया कट पर एक ट्रेलर अज्ञात वाहन से टकरा गया। इस दौरान पीछे से आ रहा बजरी से भरा तेज रफ्तार ट्रेलर उससे टकरा गया और उसमें आग लग गई। ड्राइवर और हेल्पर जिंदा जल गए, जबकि आगे दुर्घटनाग्रस्त ट्रेलर का ड्राइवर घायल हो गया। लपटें देख जूनिया गांव के लोग दौड़कर मौके पर पहुंचे और घायल ड्राइवर दिनेश (42) पुत्र मेवाराम निवासी जालौन (उत्तर प्रदेश) को टोंक अस्पताल पहुंचाया।

आग लगने के बाद ट्रेलर की स्थिति कुछ ऐसी हो गई है। पुलिस ने सुबह क्रेन की मदद से दुर्घटनाग्रस्त ट्रेलर को साइड में करवाया।

डीएसपी ने बताया कि मृतकों की पहचान ट्रेलर ड्राइवर सरदार सिंह (45) और हेल्पर नागर मल जाट (25) (दोनों निवासी नीमकी तन बासड़ी थाना खंडेला, सीकर) के रूप में हुई। जूनिया निवासी दीपेंद्र गुर्जर ने बताया कि उसका गांव हाईवे के पास ही है। आग की लपटें देखकर वह और कुछ लोग दौड़कर आए। आग इतनी तेज थी कि वो ट्रेलर में बैठे ड्राइवर और हेल्पर को बाहर नहीं निकाल पाए।

 हादसे की सूचना मिलने पर घाड़ पुलिस मौके पर पहुंची। टोंक से फायर ब्रिगेड बुलाई। करीब 1 घंटा बाद फायर ब्रिगेड की गाड़ी मौके पर पहुंची और आग पर काबू पाया। इस दौरान करीब डेढ़ घंटे तक हाईवे पर ट्रैफिक रुका रहा। पुलिस ने ट्रेलर में जले ड्राइवर और हेल्पर के शवों को बाहर निकलवाकर दूनी अस्पताल की मोर्च्यूरी में रखवाया।