boltBREAKING NEWS
  • भीलवाड़ा हलचल app के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करे या 7737741455 पर जानकारी दे, तथाकथित लोगो से सावधान रहें । 
  •  
  •  
  •  

किसान तिलहन बीजोत्पादन द्वारा बढ़ायें आमदनी - डाॅ. यादव

किसान तिलहन बीजोत्पादन द्वारा बढ़ायें आमदनी - डाॅ. यादव

भीलवाड़ा (हलचल) । कृषि विज्ञान केन्द्र भीलवाड़ा द्वारा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के अन्तर्गत एक दिवसीय तिलहन बीजोत्पादन प्रशिक्षण एवं आदान वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डाॅ. सी. एम. यादव ने किसानों को परम्परागत कृषि प्रणाली एवं वर्तमान कृषि प्रणाली के भेद को स्पष्ट करते हुए बताया कि कृषक मृदा की जाँच करवाकर मृदा स्वास्थ्य कार्ड कि सिफारिशों के अनुसार कृषि कार्य करें तथा बीजोपचार कर बीज बोयें। 
डाॅ. यादव ने समन्वित कृषि प्रणाली पर जोर देते हुए बताया कि किसान खेती के साथ-साथ पशुपालन, बागवानी, तिलहन एवं नकदी फसलों की बुवाई कर अपनी आमदनी में इजाफा करें। 
नोडल ऑफि‍सर डाॅ. के. सी. नागर ने केन्द्र की गतिविधियों की जानकारी देते हुए तिलहन फसलोत्पादन हेतु उन्नत किस्म के बीज, बीजोपचार, रोग एवं कीट नियन्त्रण, कटाई एवं गहाई तथा सुरक्षित भण्ड़ारण की तकनीक से अवगत कराते हुए फसल चक्र की जानकारी दी।
कृषि महाविद्यालय भीलवाड़ा के मृदा वैज्ञानिक डाॅ. रविकान्त शर्मा ने किसानों को आह्वान किया कि फसल बुवाई से पूर्व मिट्टी एवं पानी की जाँच करवाकर मृदा स्वास्थ्य कार्ड की सिफारिसों के अनुसार बीज बुवाई करें। डाॅ. शर्मा ने मिट्टी के नमूने लेने का तरीका भी बताया। पशुपालन वैज्ञानिक डाॅ. हीरा लाल बुगालिया ने सरसों में मोयला नियन्त्रण की तकनीक से अवगत करवाते हुए इस वर्ष सरसों के क्षेत्रफल में इजाफा होने की उम्मीद जताई।  
प्रशिक्षण में 50 कृषक एवं कृषक महिलाओं ने भाग लिया जिन्हें सरसों (गिरिराज) का बीज एवं जैव उर्वरक, कीटनाशक एवं बेन्टोनाईट सल्फर वितरित किये गये।