boltBREAKING NEWS
  • रहें हर खबर से अपडेट भीलवाड़ा हलचल के साथ
  • भीलवाड़ा हलचल पर समाचार या जानकारी भेजे [email protected]
  • सबसे ज्यादा पाठकों तक पहुँच और सबसे सस्ता विज्ञापन सम्पर्क करें  6377 364 129
  •  

दो दिन भटकने के बाद भी नहीं मिला फिल्म निर्माता लाड को अस्पताल, मौत

दो दिन भटकने के बाद भी नहीं मिला फिल्म निर्माता लाड को अस्पताल, मौत

इंदौर ।वीर दुर्गादास, संगीत संम्राट तानसेन, बहू बेगम, कहानी फूलवती की, महाशिवरात्रि, बेडरूम स्टोरी सहित कई फिल्मों के निर्माण में कभी सहयोगी, कभी निर्माता और कभी फिल्मकार के रूप में अहम योगदान देने वाले शीलचंद्र गोकुलदास लाड़ का गुरुवार को निधन हो गया। 92 वर्षीय श्री लाड को कोरोना संक्रमण हो गया था। शुरुआती छह दिनों तक तो उनका उपचार घर पर ही चला और घर में ही आक्सीजन लगाया गया पर जब स्थिति बिगड़ी तो अस्पताल में भर्ती करने का भरसक प्रयास किया गया।

इंदौर में रह रहे उनके परिवार के अलावा, मुंबई और विदेश में बैठे स्वजनों ने भी बहुत कोशिश की। जब बात नहीं बनी तो यहां के प्रशासनिक अधिकारियों से भी मदद की गुहार लगाई गई। दो दिन तक अस्पतालों के चक्कर काटने के बाद भी उन्हें भर्ती नहीं किया जा सका और गुरुवार को श्री लाड का निधन हो गया।

श्री लाड के भतीजे हर्षवर्धन लाड ने बताया कि 1945 में फिल्मी जगत में करियर बनाने के लिए इंदौर से मुंबई गए शीलचंद्र लाड़ ने रणजीत स्टूडियो में बतौर ट्रालीमेन के रूप में अपने करियर की शुरुआत की थी। पहले असिस्टेंड कैमरामेन और बाद में फिल्मकार व फिल्म निर्माता के रूप में खुद की पहचान बनाई। इंदौर में वीर दुर्गादास, संगीत संम्राट तानसेन, बहू बेगम, कहानी फूलवती की, महाशिवरात्रि, बेडरूम स्टोरी फिल्म की शूटिंग कराने का श्रेय तो श्री लाड़ को है ही साथ ही इन्होंने बहू बेगम फिल्म के निर्माण के लिए निसार अख्तर को इंदौर के प्रोड्यूसर से मिलवाया और इंदौर में इस फिल्म की शूटिंग हुई। इंदौर के अलावा इन फिल्मों की शूटिंग महेश्वर, उज्जैन व मांडू में हुई थी। श्री लाड का उनके बेटे दुर्गेश ने अंतिम संस्कार किया।