boltBREAKING NEWS
  • समाज की हलचल  e पेपर निशुल्क पढ़ने के लिए भीलवाड़ा हलचल न्यूज़ पोर्टल डाउनलोड करें भीलवाड़ा हलचल न्यूज APP पर विज्ञापन के लिए सम्पर्क करे विजय गढवाल  6377364129 advt. [email protected] समाचार  प्रेम कुमार गढ़वाल  [email protected] व्हाट्सएप 7737741455 मेल [email protected]   8 लाख+ पाठक आज की हर खबर bhilwarahalchal.com  

अस्ताचलगामी सूर्य को दिया अघ्र्य,सोनवार को सूर्योदय पर पूजा के साथ छठ पर्व का होगा समापन

अस्ताचलगामी सूर्य को दिया अघ्र्य,सोनवार को सूर्योदय पर पूजा के साथ छठ पर्व का होगा समापन

भीलवाड़ा में पूर्वांचल वासियों ने सबसे अधिक धार्मिक, आस्था, पवित्रता और शुद्धता के प्रतीक छठ महा पर्व पर रविवार शाम अस्ताचलगामी सूर्य को अघ्र्य दिया और परिवार में सुख समृद्धि की कामना की और छठ मैया के गीत गूंजे, आतिशबाजी की। सोमवार तडक़े उगते भास्कर को अघ्र्य देने के साथ ही चार दिवसीय पर्व का समापन हो जाएगा। 
रविवार को इस महापर्व के तीसरे दिन पुर रोड स्थित वाटर वक्र्स, मानसरोवर झील, धांधोलाई तालाब पर सांझ ढलने से पहले ही पूर्वांचलन के लागों का जमावड़ा शुरू हो गया। लोग सिर पर प्रसाद की टोकरी लिए पहुंचते नजर आए तो महिलाएं गीत गाते हुए पहुंची। जमकर आतिशबाजी की गई और महिलाओं ने अस्ताचल गामी सूर्य को पहला अघ्र्य अर्पित किया। व्रतधारियों ने मिष्ठान, फल, गन्ना, तकुआ, दूध, घी, धूप व दीप से पहला अघ्र्य अर्पित किया है। बीजेपी प्रत्याशी विठ्ठल शंकर अवस्थी व कांग्रेस प्रत्याशी ओमप्रकाश नाराणीवाल भी समर्थकों के साथ बिहार और उत्तर प्रदेश के लोगों को इस महापर्व की बधाई देने पहुंचे। वहीं सोमवार को उगते सूर्य को दूसरा अघ्र्य अर्पित करेंगे। इसी के साथ चार दिवसीय महापर्व संपन्न होगा। सोमवार को अघ्र्य के बाद एक-दूसरे को बधाई देने और दीपावली पर रामा-श्यामा की तर्ज पर प्रसाद खिलाने का दौर चलेगा। 
वहीं कल रात्रि स्वच्छता एवं जल संरक्षण का सामाजिक संदेश देते महापर्व छठ पर पूर्वांचल जन चेतना समिति चैरिटेबल ट्रस्ट, एलएनजे ग्रुप, पूर्वांचल जन चेतना सेवा समिति, छठ पूजा समिति वाटरवक्र्स, छठ सेवा समिति पटेल नगर द्वारा संगीतमय भक्ति, सांस्कृतिक संध्या आयोजित की गई। रजनीश वर्मा ने बताया कि सांस्कृतिक कार्यक्रम श्रम कल्याण केंद्र लेबर कॉलोनी मैदान में आयोजित किया गया। प्रसिद्ध कलाकार राजेश पांडे द्वारा विरह संगीत, मेथली गीत, भोजपुरी संगीत तथा राजस्थानी गीत की एक से बढकऱ एक प्रस्तुतियां दी।