boltBREAKING NEWS

  पहले भतीजे को अगवा कर मारपीट की, अब  काका को पीटा, आरोपी बोले, आसींद पुलिस ने गाड़ी रुकवाई,फिर भी छोड़ दिया हमें

  पहले भतीजे को अगवा कर मारपीट की, अब  काका को पीटा, आरोपी बोले, आसींद पुलिस ने गाड़ी रुकवाई,फिर भी छोड़ दिया हमें

 भीलवाड़ा बीएचएन। बैंगलुरु से लौटे भतीजे को स्टेशन से गांव जाने के दौरान रास्ते से अगवा कर मारपीट  करने व सोने की चेन लूटने के मामले में मांडल पुलिस की जांच भी शुरु नहीं हो पाई कि आरोपितों ने अब अपर्हृत युवक के काका को पीट दिया और धमकी दी कि अब मुकदमा लगाया तो पूरे परिवार को गांव से जाना पड़ेगा।  इस घटना को लेकर अब आसींद पुलिस ने केस दर्ज किया है। 
आसींद पुलिस के अनुसार जौधा का खेड़ा निवासी 36 वर्षीय भैंरूलाल पुत्र पेमाराम गुर्जर ने थाने में रिपोर्ट दी कि वह 21 नवंबर को अपने खेत पर बैठा था। आरोप है कि इस दौरान रेनॉल्ट कंपनी की डस्टर गाड़ी वहां आकर रुकी। उसमें से धर्मीचंद गुर्जर, रामदेव , सांवर , पप्पू सिंह रावत, शंभु गुर्जर गाड़ी से उतरे, जबकि युधिष्ठर, जेठु गुर्जर बाइक से आये। अचानक इन लोगों ने भैंरूलाल पर हमला कर दिया। गाली-गलौच की। लात-घूंसों से मारपीट करने लगे। धर्मीचंद्र गाड़ी से सरिया निकाल कर लाया और हमला कर दिया। भैंरूलाल दौड़कर खेत पर बने कमरे में चला गया, आरोपित भी वहां आ धमके और भैंरू को मारने लग गये। आरोपित, भैंरू से बोल रहे थे कि तेरे भतीजे ने माण्डल थाने में मुकदमा दर्ज क्यूं करवाया । उसको तो उस दिन जान से मारना था, लेकिन बच गया । अब तुने अगर थाने में मुकदमा लगाया तो पुरे परिवार को गांव से जाना पड़ेगा ।  मैं, सरपंच हुं । मेरी पहुंच बहुत बड़े राजनेताओं से है । तुम लोग हमारा कुछ नही बिगाड़ सकते । हमारी थाने में सब सेटिग है । तेरे भतीजे का जीवलीया मे इलाज किया और हमारी गाड़ी को आसीन्द थाने में रुकवाया । फिर भी हमको छोड़ दिया ।  इसलिए ध्यान रखना हम जब सामने आये तो नजरें नीचे झुका दिया करो । ऐसा कह कर ये सभी लोग वहां से चले गये । परिवादी भैंय ने रिपोर्ट में बताया कि पूर्व में भी मेरे, भतीजे के साथ लूट पाट व मारपीट की रास्ता रोका।  जिसका 18 नवंबर को माण्डल थाने में मुकदमा दर्ज है । भैंरू का कहना है कि इन लोगो से परिवादी व  परिवार को जान का खतरा है । पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी।