boltBREAKING NEWS
  •   दिन भर की वीडियो न्यूज़ देखने के लिए भीलवाड़ा हलचल यूट्यूब चैनल लाइक और सब्सक्राइब करें।
  •  भीलवाड़ा हलचल न्यूज़ पोर्टल डाउनलोड करें भीलवाड़ा हलचल न्यूज APP पर विज्ञापन के लिए सम्पर्क करे विजय गढवाल  6377364129 advt. [email protected] समाचार  प्रेम कुमार गढ़वाल  [email protected] व्हाट्सएप 7737741455 मेल [email protected]   8 लाख+ पाठक आज की हर खबर bhilwarahalchal.com  

उदयपुर में चार, करौली, जयपुर और धौलपुर में एक-एक कोरोना का मरीज मिला

उदयपुर में चार, करौली, जयपुर और धौलपुर में एक-एक कोरोना का मरीज मिला

जयपुर। प्रदेश में एक बार फिर कोरोना के केस बढ़ने लगे हैं। बदलते मौसम के बीच कोरोना का डर बढ़ने लगा है। पिछले दिनों कोरोना के मामले घटे थे। लेकिन अब एक बार फिर कोरोना के मरीज बढ़ने लगे हैं। प्रदेश में कोरोना के मरीजों की संख्या का आंकड़ा 50 पार कर गया है। सबसे ज्यादा कोरोना के मरीज उदयपुर में सामने आ रहे हैं। इसके बाद राजधानी जयपुर में कोरोना के मरीज सामने आ रहे हैं।

चिकित्सा विभाग के अनुसार प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या 55 है। प्रदेश में रविवार को 734 मरीज के सैंपल लिए गए थे। जिसमें कोरोना के सात मरीज मिले हैं। रिपोर्ट के अनुसार उदयपुर में चार , करौली में एक, जयपुर में एक और धौलपुर में एक कोरोना का मरीज मिला है। इसके अलावा एक मरीज को डिस्चार्ज किया गया है।

जिलों की बात करें तो सबसे ज्यादा कोरोना के मरीज उदयपुर में आ रहे हैं। उदयपुर में कोरोना मरीजों की संख्या 30 है। दूसरे नंबर पर राजधानी जयपुर में कोरोना के सबसे ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। जयपुर में कोरोना के 18 मरीज है। इसके अलावा बीकानेर में एक, धौलपुर में एक, गंगानगर में एक, जोधपुर में एक, करौली में एक और टोंक में कोरोना के दो मरीज है।

बता दें की बदलते मौसम के बीच लोगों में खांसी—जुकाम, बुखार की समस्या बढ़ रही है। अस्पतालों में मरीजों की कतारें लगी हुई है। एसएमएस अस्पताल में हर दिन 700 से ज्यादा खांसी—जुकाम के मरीज सामने आ रहे हैं। डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना को लेकर लोगों को डरने की आवश्यकता नहीं है। लेकिन कोरोना को लेकर सतर्कता बरतने की जरूरत है।

बता दें कि पिछले दिनों कोरोनावायरस को लेकर सभी अस्पतालों में मॉक ड्रिल की गई थी। सभी अस्पताल अधीक्षकों, सीएमएचओ व अन्य चिकित्सा अधिकारियों की ओर से अस्पतालों में व्यवस्थाओं को देखा गया था। इसके अलावा अब भी एसीएस मेडिकल और चिकित्सा शिक्षा आयुक्त व अन्य अधिकारियों की ओर से लगातार अस्पतालों के दौरे किए जा रहे हैं । अस्पतालों में बेड, दवाइयों की उपलब्धता आदि व्यवस्थाओं को देखा जा रहा है ‌। ताकि मरीजों को किसी प्रकार से कोई भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़े।