boltBREAKING NEWS
  • भीलवाड़ा हलचल के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करें
  •  
  •  

बॉडी को हेल्दी रखते हैं गुड बैक्टीरिया, जानिए किन फूड्स से मिलते हैं ये जीवाणु

 बॉडी को हेल्दी रखते हैं गुड बैक्टीरिया, जानिए किन फूड्स से मिलते हैं ये जीवाणु

 लाइफस्टाइल डेस्क। माना जाता है कि हमारे शरीर में एक ट्रिलियन यानी एक हजार अरब बैक्टीरिया पाए जाते हैं, जिनमें से ज्यादातर बैक्टीरिया शरीर को कई तरह से सुरक्षा प्रदान करते हैं। जो बैक्टीरिया शरीर की सुरक्षा करते हैं, उन्हें गुड बैक्टीरिया कहते हैं। मनुष्य की आंत में अगर गुड बैक्टीरिया नहीं हो तो भोजन आसानी से पचता नहीं है। आंत में पाए जाने वाले असंख्य बैक्टीरिया Fermentation के माध्यम से भोजन को तरल पोषक तत्व में बदल देते हैं। ये बैक्टीरिया रासायनिक प्रतिक्रिया कर शरीर में कई तरह के विटामिन, फॉलिक एसिड, नियासिन और अन्य पोषक तत्व बनाते हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि ये कई बीमारियों से भी हमारे शरीर की सुरक्षा करते हैं।

शरीर में गुड बैक्टीरिया की ज्यादा संख्या होने से न्यूमोनिया, मैनिनजाइटिस, स्टेप थ्रॉट, फूड प्वाइजनिंग, डायरिया आदि बीमारी नहीं पनपती। इसके अलावा कई तरह की मेंटल कडीशन भी सामने नहीं आती। गुड बैक्टीरिया के कारण हार्ट भी हेल्दी रहता, साथ ही एलर्जी, एग्जिमा भी शरीर में नहीं पनपता। शरीर में गुड बैक्टीरिया की संख्या बढ़ाने के लिए कई तरह के आहार और पेय पदार्थ मौजूद हैं जिनसे गुड बैक्टीरिया की संख्या में इज़ाफा होता हैं। आइए जानते हैं किन चीज़ों से बॉ़डी में गुड बैक्टीरिया बढ़ाएं।

  • योगर्ट
  • बटर मिल्क
  • चीज विद लाइव एक्टिव कल्चर यानी कच्चा चीज
  • इडली
  • ये fermented फूड भी प्रोबायोटिक है
  • बियर
  • मिजो
  • चॉकलट
  • किमची
  • खमीर वाले ब्रेड
  • इसके अलावा कई तरह के प्रोबायोटिक बाजार में भी उपलब्ध हैं।
  • आचार से भी गुड बैक्टीरिया की संख्या में इजाफा होता है

हेल्दी लाइफ के लिए गुड बैक्टीरिया हैं जरूरी:

जिस तरह हमारी सेहत जरूरी है, उसी तरह शरीर में गुड बैक्टीरिया भी जरूरी है। ऐसे में गुड बैक्टीरिया की संख्या कम न हो, इसके लिए आवश्यक कदम उठाने की दरकार है। क्योंकि बैक्टीरिया की कमी होने से हमें कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। शरीर में कई वजहों से गुड बैक्टीरिया की कमी हो जाती है। आजकल एंटीबायोटिक दवाइयों का इस्तेमाल धड़ल्ले से होने लगा है, लेकिन इसे जरूरत से ज्यादा लेने और बिना डॉक्टर की सलाह के लेने से गुड बैक्टीरिया मरने लगते हैं।