boltBREAKING NEWS
  • भीलवाड़ा हलचल app के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करे या 7737741455 पर जानकारी दे, तथाकथित लोगो से सावधान रहें । 
  •  
  •  
  •  

हर व्यक्ति का हेल्थ ID-एक प्लेटफॉर्म पर सभी सुविधाएं

हर व्यक्ति का हेल्थ ID-एक प्लेटफॉर्म पर सभी सुविधाएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने 27 सितंबर को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (Ayushman Bharat Digital Mission) का शुभारंभ किया है। आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की पायलट परियोजना का ऐलान पीएम मोदी ने 15 अगस्त, 2020 को अपने स्वतंत्रता दिवस के भाषण में किया था।  इस समय आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन 6 केंद्र शासित प्रदेशों में पायलट प्रोजेक्ट के तौर  लागू किया गया है। Ayushman Bharat Digital Mission से आम आदमी को कैसे फायदा मिलेगा...?

Ayushman Bharat Digital Mission,  Like Aadhar every citizen will have a health card, know details

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का उद्देश्य

मोदी सरकार देश के हर नागरिक का यूनिक हेल्थ कार्ड बनाने का प्लान कर  रही है। आधार कार्ड की तरह ये एक  डिजिटल कार्ड होगा। इस कार्ड पर हर नागरिक को एक यूनिक नंबर दिया जाएगा। इस डिजीटल नंबर के जरिए हर व्यक्ति की पूरी हेल्थ इंफर्मेशन डिजीटल रजिस्टर में दर्ज होगी। 

Ayushman Bharat Digital Mission,  Like Aadhar every citizen will have a health card, know details

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन

देश के प्रत्येक नागरिक का बनेगा हेल्थ कार्ड
देश के हर नागरिक, बच्चे से लेकर वृद्ध तक को इसमें रजिस्टर किया जायेगा।  Ayushman Bharat Digital Mission में देश के निवासी का एक हेल्थ आईडी बनाया जाएगा। ये एक हेल्थ डिजीटल अकाउंट होगा। इसमें पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड को मोबाइल एप्लिकेशन की सहायता से ऐड किया जाएगा । इसमें हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स रजिस्ट्री (HPR) और हेल्थकेयर फैसिलिटीज रजिस्ट्रियां (HFR), Modern और Traditional medical systems को कवर करेगा । ये सिस्टम सभी डॉक्टरों, हेल्थ आर्गेनाइजेशन का डेटा कलेक्ट करके रखेगा।  

Ayushman Bharat Digital Mission,  Like Aadhar every citizen will have a health card, know details

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन

Ayushman Bharat Digital Mission कैसे करेगा काम 
देश में Ayushman Bharat Digital Mission के तहत नेशनल डिजिटल हेल्थ इकोसिस्टम बनाए जाने की योजना है। इसके लिए सरकार को हितग्राहियों से लेकर उपलब्ध संसाधनों सहित  डेटा फीड करना होगा । दरअसल डिजीटलीकरण के लिए जन धन, आधार और मोबाइल (जेएएम) ट्रिनिटी और सरकार की अन्य डिजिटल पहलों के रूप में तैयार बेसिक स्ट्रक्चर के आधार पर, पीएम-डीएचएम हेल्थ से संबंधित निजी जानकारी की सुरक्षा, गोपनीयता और प्रायवेसी को सुनिश्चित करते हुए एक बड़ी सीरीज  के प्रावधान के माध्यम से डेटा, इंफर्मेशन का एक सरल  ऑनलाइन प्लेटफॉर्म तैयार किया जाएगा।  इस मिशन के तहत लोगों की सहमति से स्वास्थ्य रिकॉर्ड तक पहुंच और आदान-प्रदान को सक्षम बनाया जा सकेगा। 

Ayushman Bharat Digital Mission,  Like Aadhar every citizen will have a health card, know details

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की प्रोसेस 
आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का ही एक पार्ट  आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन सैंडबॉक्स (Ayushman Bharat Digital Mission Sandbox) है, जो टेक्नोलॉजी और प्रोडक्ट टेस्टिंग के लिए एक आधारभूत सेवा के रूप में संचालित होगा । ये सिस्टम प्रायवेट सेक्टर  की भी हेल्प करेगा, जो नेशनल डिजिटल हेल्थ इकोसिस्टम का पार्ट बनना चाहते हैं। 

Ayushman Bharat Digital Mission,  Like Aadhar every citizen will have a health card, know details

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन

मरीज को होगा बड़ा लाभ 
जिस व्यक्ति के यूनिक हेल्थ कार्ड होगा उसे अपनी मेडीकल हिस्ट्री हर जगह ले जाने की जरुरत नहीं होगी। इस मरीज का यूनिक नंबर फीड करते ही उसका  हेल्थ रिकॉर्ड सामने होगा। देश के किसी भी हॉस्पिटल में डॉक्युमेंट ले जाने की जरुरत नहीं होगी। मरीज को दस्तावेज गुमने या नष्ट हो जाने का भी डर नही होगा। वहीं डॉक्टरों को इससे सबसे ज्यादा लाभ होगा। उन्हें मरीज के असल बीमारी का तत्काल पता चल जायेगा। ये कार्ड मरीज की योग्यता भी बता देगा। ये कार्ड ये भी बताएगा कि अमुक व्यक्ति को किन-किन सरकारी योजनाओं का लाभ मिलता है। मरीज को आयुष्मान भारत के तहत इलाज की सुविधाओं का लाभ मिलता है या नहीं, इस यूनिक कार्ड के जरिए पता चल सकेगा। 

Ayushman Bharat Digital Mission,  Like Aadhar every citizen will have a health card, know details

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन

यूनिक हेल्थ आईडी में डिटेल होगी रजिस्टर 
यूनिक हेल्थ आईडी में  मोबाइल नंबर और आधार नंबर फी़ड किया जायेगा। इससे ही यूनिक हेल्थ कार्ड बनाया जाएगा। केंद्र सरकार  इसके लिए सरकार एक हेल्थ अथॉरिटी बनाने जा रही है। ये संस्थान देश के हर नागरिक का एक-एक डेटा जुटाएगी। जिसकी हेल्थ आईडी क्रिएट करनी है, उसके हेल्थ रिकॉर्ड संचित करने के हेल्थ अथॉरिटी अनुमति देगी।  

 

Ayushman Bharat Digital Mission,  Like Aadhar every citizen will have a health card, know details

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन

हेल्थ आईडी बनवाने के लिए यहां संपर्क करें
सरकारी जिला अस्पताल, कम्युनिटी हेल्थ सेंटर, हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर या वैसा हेल्थकेयर प्रोवाइडर जो नेशनल हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर रजिस्ट्री से जुड़ा हो, ऐसे संस्थान जिसे किसी व्यक्ति की हेल्थ आईडी बना सकता है।

Ayushman Bharat Digital Mission,  Like Aadhar every citizen will have a health card, know details

हेल्थ कार्ड

Health ID ऐसे बनवाएं
 सरकार के स्कीम का ऐलान करते ही गूगल प्ले स्टोर पर एनडीएचएम हेल्थ रिकॉर्ड शो होने लगेगा, जिसके जरिए रजिस्ट्रेशन होगा, यूनीक आईडी 14 अंकों की होगी। यदि किसी के पास मोबाइल नहीं है, वे रजिस्टर्डड  सरकारी-प्राइवेट, हॉस्पिटल कम्युनिटी हेल्थ सेंटर, प्राइमरी हेल्थ सेंटर, वेलनेस सेंटर और कॉमन सर्विस सेंटर पर कार्ड बनवा सकते हैं। यहां चाही गई जानकारी देने के कार्ड बना दिया जाएगा।

 

Ayushman Bharat Digital Mission,  Like Aadhar every citizen will have a health card, know details

हेल्थ कार्ड

हेल्थ कार्ड में दी गई जानकारी केवल आप ही देख पाएंगे 
हेल्थ कार्ड में मेडिकल रिकॉर्ड और डॉक्टर द्वारा लिखी गई सभी दवाइयों की जानकारी होगी। आपके अलावा कोई भी इस डिटेल को नहीं देख सकता है। जब तक आप अपना यूनिक आईडी नंबर नहीं बताएंगें, कोई इसे खोल नहीं पाएगा। इसका डेटा रीड करने के लिए आपके रजिस्टर्डड नंबर पर ओटीपी आएगा। आप जब यह ओटीपी कोड  बताएंगे, तभी इसे देखा जा सकेगा। ये हेल्थ कार्ड बनवाना कंपलसरी नहीं होगा। 

 

संबंधित खबरें