boltBREAKING NEWS

बिरला हॉस्पिटल द्वारा स्वास्थ परिचर्चा आयोजित

बिरला हॉस्पिटल द्वारा स्वास्थ परिचर्चा आयोजित

भीलवाड़ा, आज भीलवाड़ा में सुभाष नगर स्थित एक होटल में इंडियन फेडरेशन जनरल इंश्योरेंस एजेंट एसोसिएशन राजस्थान मेवाड़ संभाग के मेंबर्स के लिए एक स्वास्थ परिचर्चा का आयोजन किया गया जिसमें रुक्मणी बिरला हॉस्पिटल के वरिष्ठ मस्तिष्क एवं स्पाइन सर्जन डॉ. संजीव सिंह ने ब्रेन स्ट्रोक संबंधी समस्याओं के बारे में बताया ।

संगठन के सक्रिय सदस्य ओरिएंटल इंश्योरेंस के अभिकर्ता दीपक सरावगी ने बताया की आयोजित यह मीटिंग जयपुर के रुक्मणि बिड़ला हॉस्पिटल के द्वारा प्रायोजित की गई । भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, उदयपुर, विजयनगर, गुलाबपुरा, राजसमंद के लगभग 93 सरकारी और गैर सरकारी कंपनियों के अभिकर्ता आयोजन का हिस्सा बने ।

प्रायोजक हॉस्पिटल रूक्मणी बिरला के डॉक्टर संजीव सिंह ने बताया की भारत में मृत्यु के सबसे प्रमुख कारणों में से एक है स्ट्रोक ब्रेन स्ट्रोक भारत में रोगियों की मृत्यु का चौथा, व डिसेबिलिटी का पाँचवा सबसे बड़ा कारण है । लकवा ग्रस्त मरीज का समय पर ईलाज न होने पर ब्रेन की उम्र 35 से 40 साल तक बढ़ जाती है यानि जो दिक्कते मरीज को वृद्धावस्था में आनी चाहिए जैसे की याददाश्त एवं सोचने की क्षमता में कमी, बोलने में दिक्कत आदि वो लकवे के तुरंत बाद ही शुरू हो जाती है । समय रहते यदि इलाज शुरू कर दिया जाए तो स्ट्रोक पर काबू पाया जा सकता है । यह कहना था जयपुर के रुक्मणी बिरला हॉस्पिटल के वरिष्ठ मस्तिष्क एवं स्पाइन सर्जन डॉ. संजीव सिंह का । 

 इस अवसर पर फेडरेशन के अध्यक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़ और सचिव सुधीर गुप्ता बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए।

इस दौरान डॉ. संजीव सिंह ने कहा कि स्ट्रोक की पहचान में चेहरा टेढ़ा हो जाना, आवाज बदलना, शरीर के एक हिस्से में कमजोरी के साथ ताकत कम हो जाना प्रमुख है । लक्षणों को समझ कर बिना समय गंवायें डॉक्टर को दिखाना जरूरी है । उन्होंने बताया कि ब्रेन स्ट्रोक के दो प्रकार हैं, खून की नस के बंद होना या फिर खून की नस के फटना। खून की नस के फटने वाले स्ट्रोक में सर्जरी कर जान बचाई जा सकती है। हॉस्पिटल की ओर से शांतनु सिंह व दीपिका शर्मा ने बताया कि आम जन मे जागरूकता बढ़ाने के लिये इस तरह के प्रोग्राम का आयोजन अलग अलग शहरों में निरंतर रूप से किया जाता हैं।

कार्यक्रम के अंत में राजस्थान रीजन के मेवाड़ संभाग के लिए अध्यक्ष पद पर अंकेश भदौरिया, उपाध्यक्ष पद पर दीपक सरावगी को नियुक्त किया गया ।