boltBREAKING NEWS
  •   दिन भर की वीडियो न्यूज़ देखने के लिए भीलवाड़ा हलचल यूट्यूब चैनल लाइक और सब्सक्राइब करें।
  •  भीलवाड़ा हलचल न्यूज़ पोर्टल डाउनलोड करें भीलवाड़ा हलचल न्यूज APP पर विज्ञापन के लिए सम्पर्क करे विजय गढवाल  6377364129 advt. [email protected] समाचार  प्रेम कुमार गढ़वाल  [email protected] व्हाट्सएप 7737741455 मेल [email protected]   8 लाख+ पाठक आज की हर खबर bhilwarahalchal.com  

गुड़ को गोबर करने में इनकी मास्टरी, राज्यसभा में UPA के कार्यकाल पर बोलीं वित्त मंत्री सीतारमण

गुड़ को गोबर करने में इनकी मास्टरी, राज्यसभा में UPA के कार्यकाल पर बोलीं वित्त मंत्री सीतारमण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यूपीए के कार्यकाल के दौरान अर्थव्यवस्था को लेकर कांग्रेस को जमकर घेरा। उन्होंने कहा कि इनके कार्यकाल में अर्थव्यवस्था नीचे जा रही थी, लेकिन मोदी सरकार में अर्थव्यवस्था बढ़ रही है। यूपीए सरकार के 10 साल के कार्यकाल पर पेश किए गए श्वेत पत्र पर राज्यसभा में निर्मला सीतारमण ने कहा कि आज जो हम श्वेत पत्र लाएं हैं, उसका मकसद यूपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान अर्थव्यवस्था में कुप्रबंधन को बताना है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार अर्थव्यवस्था को फिर से ठीक करने में सफल रही हैं। हम अर्थव्यवस्था को एक निश्चित स्तर पर ले आएं हैं। उन्होंने पीएम मोदी के उस बयान का भी जिक्र किया जिसमें प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार के तीसरे कार्यकाल में भारत की अर्थव्यवस्था तीसरे नंबर पर पहुंच जाएगी।  


मोदी सराकर ने पूर्वोत्तर पर विशेष ध्यान दिया- सीतारमण
कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए निर्मला सीतारमण ने कहा कि मोदी सरकार ने पूर्वोत्तर में दूसरा रेलवे स्टेशन खोला। पहले की सरकारों ने पूर्वोत्तर के लोगों को नजरअंदाज किया था। उन्होंने कहा कि ये हाल तब थे जब देश के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह खुद असम से सांसद थे। 

गुड को गोबर करने में माहिर यूपीए- सीतारमण
यूपीए सरकार के दौरान अर्थव्यवस्था की बुरे हाल होने के बाद भी आज वर्तमान में विपक्षी दल हमारे सामने आंकड़े उछालते हैं। मुद्रास्फीति यह है, मुद्रास्फीति वह है। निर्मला सीतारमण ने कहा कि मैं सिर्फ यह बताना चाहती हूं कि अटल बिहारी वाजपेयी की एनडीए सरकार के आखिरी वर्ष में मुद्रास्फीति चार प्रतिशत से नीचे थी। उन्होंने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि गुड़ को गोबर करने में इनकी मास्टरी रही है। 20024 में जब तत्कालीन प्रधानमंत्री वाजपेयी की एनडीए सरकार ने आपको चार प्रतिशत से नीच मुद्रास्फीती के साथ अर्थव्यवस्था सौंपी थी, लेकिन सब जानते हैं उन्होंने इसके साथ क्या हाल किया। राजकोषीय नीति, सब्सिडी कि दिशा ही विपरीत थी। इन्होंने देश के खजानों से फिजूलखर्ची अपने राजनीतिक लाभ के लिए किया था।