boltBREAKING NEWS

अगर आज हारी केकेआर तो बांधना पड़ेगा बोरिया बिस्तर, हैदराबाद का भी खेल हो सकता है खराब

अगर आज हारी केकेआर तो बांधना पड़ेगा बोरिया बिस्तर, हैदराबाद का भी खेल हो सकता है खराब

नई दिल्ली

आईपीएल 2022 (IPL) का 61वां मुकाबला श्रेयस अय्यर की अगुवाई वाली कोलकाता नाइट राइडर्स (Kolkata Knight Riders) और केन विलियमसन की सनराइजर्स हैदराबाद (Sunrisers Hyderabad) के बीच पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में खेला जाना है। दोनों ही टीमों के लिए यह मैच काफी अहम रहने वाला है। अगर दो बार की चैंपियन केकेआर आज हारती है तो वह प्लेऑफ की दौड़ से बाहर होने वाली मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स के बात तीसरी टीम बन जाएगी, वहीं अगर हैदराबाद को हार का सामना करना पड़ता है तो प्लेऑफ की रेस में वह भी काफी पिछड़ जाएगी।

कोलकाता नाइट राइडर्स की प्लेऑफ में पहुंचने की उम्मीदें कम

कोलकाता नाइट राइडर्स ने इस सीजन अभी तक 12 मुकाबले खेले हैं जिसमें टीम को 5 बार जीत मिली है तो वहीं 7 बार उन्हें हार का सामना करना पड़ा है। केकेआर 10 अंकों के साथ प्वाइंट्स टेबल में 8वें पायदान पर है। केकेआर के प्लेऑफ में पहुंचने के चांस काफी कम है, मगर टीम अपने बाकी बचे दो मुकाबले जीतती भी है तो वह 14 अंक तक ही पहुंच पाएगी, ऐसे में टीम का प्लेऑफ में पहुंचना बाकी टीमों के प्रदर्शन पर निर्भर करेगा। अगर कोलकाता को आज हार का सामना करना पड़ता है तो वह प्लेऑफ की दौड़ से बाहर हो जाएगी।

सनराइजर्स हैदराबाद पहुंच सकती है 16 अंक तक

केन विलियमसन की सनराइजर्स हैदराबाद पिछले चार मैच हारकर यहां पहुंची है। 11 में से 5 मुकाबले जीतकर यह टीम 10 प्वाइंट्स के साथ केकेआर से एक पायदान ऊपर यानि कि 7वें स्थान पर है। अगर हैदराबाद अपने बचे तीन मुकाबले जीतती है तो वह 16 अंकों तक पहुंचेगी और फिर मामला नेट रन रेट पर अटकेगा। वहीं अगर आज केकेआर उन्हें हराती है तो वह फिर 14 अंकों तक ही पहुंच पाएंगे।

केकेआर बनाम एसआरएच हेड टू हेड

कोलकाता नाइट राइडर्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच आईपीएल में अभी तक 22 मुकाबले खेले गए हैं जिसमें 14 मैच जीतकर केकेआर ने अपना दबदबा बनाया हुआ है। इन आंकोड़ों को देखकर लगता है कि आज कोलकाता हैदराबाद का खेल बिगाड़ सकती है। मगर इस सीजन जब इन दोनों टीमों के बीच पहली भिड़ंत हुई थी तो एसआरएच ने केकेआर को 7 विकेट से पटखनी दी थी। ऐसे में कोलकाता हैदराबाद को हलके में नहीं लेना चाहेगी।