boltBREAKING NEWS
  • जालोर।खड़े ट्रक में पीछे से कार ने मारी टक्कर,5 की मौत*

2 साल का हो जाए बच्चा तो सामने न उतारें कपड़े, जानें किन बातों का पड़ता है गलत असर

2 साल का हो जाए बच्चा तो सामने न उतारें कपड़े, जानें किन बातों का पड़ता है गलत असर

 

कहा जाता है, बच्चे कच्ची मिट्टी जैसे होते हैं। उन्हें आप जिस सांचे में ढालेंगे वे ढल जाएंगे। बच्चे जब छोटे होते हैं तो बहुत ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत होती है। कई बार मां-बाप सोचते हैं कि बच्चा नासमझ है। उसके सामने कई बार ऐसी चीजें कर जाते हैं जिससे उस पर गलत असर पड़ता है। छोटे बच्चे हर चीज देख-सुनकर सीख रहे होते हैं। आपकी लापरवाही या गलत व्यवहार उनके सबकॉन्शस माइंड में हमेशा एक याद बनकर फीड हो सकता है। यह याद अच्छी या बुरी हो सकती है और वे इसे अपने व्यवहार में ला सकते हैं। यहां कुछ बाते हैं जिन्हें आपको ध्यान रखना चाहिए।

साथ न नहाएं

आप कितनी भी जल्दबाजी में हों बच्चों के सामने कपड़े न बदलें। खासकर मांएं। अक्सर मांओं को लगता है कि बच्चा छोटा है वह समझ नहीं पाएगा। जब आपका बच्चा 2 साल का हो जाए तो उसके सामने कपड़े बदलना और साथ में नहाना बिल्कुल छोड़ दें।


बच्चों के सामने झगड़ा

बच्चों के सामने आपस में झगड़ा न करें। आप समझ भी नहीं पाते और वह गुस्सा उनके दिलोदिमाग में घर करता जाता है। यहां तक कि चिल्लाने का भी बच्चों के दिमाग पर बुरा असर पड़ता है। वे आपके व्यवहार को कॉपी करते हैं और अग्रेसिव हो जाते हैं। बचपन की ये नेगेटिव यादें उनके दिमाग पर गलत असर डालती हैं और बच्चे झगड़ना और पलटकर जवाब देना सीखते हैं। कभी आपके पार्टनर से झगड़ा हो तो बच्चे को प्यार से कमरे से बाहर भेज दें या झगड़ा मच्योरिटी से निपटाएं।

गालियां देना

भले ही आप प्यार से ऐसा कर रहे हों लेकिन बच्चे के सामने गालियां न दें। छोटे बच्चे सुनते वक्त शांत रहते हैं पर उनकी कैचिंग पावर तेज होती है। वे गुस्से में आपकी तरह गालियां देंगे या बाहरवालों के सामने ऐसा करेंगे तो आपको शर्मिंदा होना पड़ेगा।


शराब पीना

कई स्टडीज में यह बात सामने आ चुकी है कि जो पेरेंट्स बच्चों के सामने ड्रिंक करते हैं, उनके बच्चे इसे गलत नहीं समझते। दूसरे बच्चों की अपेक्षा  उनमें शराब की लत लगने के चांस दोगुने होते हैं। शराब पीकर अगर आप हिंसक होते हैं तो आपके बच्चों में इनसिक्योरिटी आने का डर रहता है। वे खुद को सुरक्षित महसूस नहीं करते और बड़े होकर उनके कॉन्फिडेंस और पर्सनैलिटी पर असर पड़ता है।