boltBREAKING NEWS
  • रहें हर खबर से अपडेट भीलवाड़ा हलचल के साथ
  • भीलवाड़ा हलचल पर समाचार या जानकारी भेजे [email protected]
  • सबसे ज्यादा पाठकों तक पहुँच और सबसे सस्ता विज्ञापन सम्पर्क करें  6377 364 129
  •  

जेसीबी से काम हुआ तो बीडीओ सहित सभी जिम्मेदारों पर होगा मुकदमा

जेसीबी से काम हुआ तो बीडीओ सहित सभी जिम्मेदारों पर होगा मुकदमा

भीलवाड़ा। महानरेगा आयुक्त व ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के शासन सचिव श्री पी.सी. किशन ने चेतावनी देते हुये कहा कि महानरेगा कार्यों में जीसीबी से कार्य होता पाया गया तो संबंधित विकास अधिकारी एवं अधीनस्थ कार्मिकों के विरूद्ध पुलिस में प्राथमिकी दर्ज की जायेगी। शनिवार को जिला कलेक्ट्रेट सभागार में अधिकारियों की बैठक लेते हुये उन्होंने यह बात कही। बैठक में जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम. नकाते, जिला परिषद सीईओ श्री रामचंद्र बैरवा, एसीईओ श्री एन.के. राजौरा, माण्डल उपखण्ड अधिकारी श्री महीपाल सिंह स्वच्छ भारत मिशन के जिला समन्वयक श्री दिनेश चैधरी सहित जिलेभर के विकास अधिकारी उपस्थित रहें।
श्री किशन ने पूरा काम-पूरा दाम पर जोर देते हुये कहा कि कार्यों की गुणवत्ता के साथ किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जायेगा। श्रमिकों के स्थान पर जेसीबी से कार्य कराना अपराध की श्रेणी में मानते हुये संबंधित कार्मिकों के साथ ही उस ब्लाॅक के विकास अधिकारी की जिम्मेदारी भी तय की जायेगी। इन सभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराकर कड़ी कारवाई की जायेगी। उन्होंने अन्य विभागों के साथ कन्वर्जेंस पर जोर देते हुये कहा कि योजना के तहत कार्योें का दायरा बढ़ाया जाये। 260 प्रकार के अनुमत कार्यों में से अधिकतम कार्य करवाना सुनिश्चित किया जाये। कोरोना काल में महानरेगा को ग्रामीण परिवारों के लिये बहुत बड़ा सहारा बताते हुये उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक मानव दिवस सृजित कर स्थानीय स्तर पर लोगो को रोजगार उपलब्ध कराया जाये। 70 प्रतिशत से अधिक महिला श्रमिक होने पर अनिवार्य रूप से महिला मेट की नियुक्ति की जाये। वाटरशेड के प्रमुख सिद्धांतो की जानकारी देने के लिये एक कार्यशाला आयोजित किये जाने के निर्देश भी उन्होंने दिये। समय पर भुगतान, 100 दिन के रोजगार की प्रगति कार्यपूर्णता, रिजेक्टेड ट्रांक्जेक्शन, सेंसिटिविटी इंडेक्स, जियो टैगिंग आदि बिन्दुओं पर विस्तार से चर्चा करते हुये उन्होंने जिले में योजना की समीक्षा की। साथ ही पंचायती राज व ग्रामीण विकास की विभिन्न योजनाओं की प्रगति की जानकारी भी ली।
फील्ड विजिट कर कार्यों का किया निरीक्षणः
महानरेगा आयुक्त ने बैठक के बाद सीधे फील्ड का रूख किया। वे बदनौर क्षेत्र के मोगर पहुँचे और यहां पर नया तालाब पर चल रहे मिट्टी खुदाई के कार्य का अवलोकन किया। डाबिया तालाब पर मिट्टी व फेसवाॅल के कार्य का निरीक्षण किया। यहाँ पर उन्होंने ग्रामीणों से चर्चा के दौरान 100 दिन के रोजगार और भुगतान के संबंध में चर्चा की।
देशभर में राजस्थान है अव्वलः
सर्किट हाऊस में मीडियाकर्मियों से चर्चा के दौरान श्री पी.सी. किशन ने बताया कि लगभग 40 करोड़ मानव दिवस का सृजन कर राजस्थान देशभर में अव्वल है। ‘‘एक गाँव-चार काम’’ का लक्ष्य लेकर प्रदेश के 43 हजार गाँवों में चरागाह विकास, माॅडल तालाब, खेल मैदान एवं श्मशान विकास के कार्य किये जा रहंे है। कोरोना काल के पश्चात विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार के अवसरों में आई कमी को देखते हुये नरेगा में अधिकाधिक संख्या में लोगो को रोजगार देने के प्रयास किये जा रहे हैं।

ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम

cu