boltBREAKING NEWS

चित्तौड़गढ़ जिले में गोवंश में लम्पी संक्रमण नियंत्रण में- पशुपालन विभाग

चित्तौड़गढ़ जिले में गोवंश में लम्पी संक्रमण नियंत्रण में- पशुपालन विभाग

 

चित्तौड़गढ़ गोवंश में लम्पी स्किन डिजिज का प्रभाव चित्तौडगढ़ जिले में भी हुआ है। पशुपालन  विभाग के अनुसार 14 अगस्त को ग्राम लाखा का खेडा तहसील चित्तौडगढ़ में पहली बार गौवंश में लम्पी पाया गया था। अब तक 17 हजार 150 केस सामने आए हैं।

गौशाला में शत-प्रतिशत टीकाकरण

     संयुक्त निदेश्क पशुपालन विभाग डाॅ. नेत्रपाल सिंह ने बताया कि जिले के समस्त गौशालाओं में दिनांक 15 अगस्त के पूर्व ही शत-प्रतिशत टीकाकरण होने के फलस्वरूप गौशाला में यह बीमारी लगभग न्यून है। समस्त तहसील क्षेत्रो में भी अब तक 97025 पशुओं में टीकाकरण होने के कारण अन्य जिले की तुलना में चित्तौडगढ़ के हालात बेहतर है।  जिले में वर्तमान में मोर्टेलिटि रेट 3.92 प्रतिशत है, तथा रिकवरी रेट 24.25 प्रतिशत है।  

युद्ध स्तर पर प्रयास, गौसेवकों का मिल रहा है पूरा साथ

 डाॅ. सिंह ने बताया कि जिला कलक्टर अरविंद कुमार पोसवाल के निर्देशानुसार युद्धस्तर पर बीमारी के नियंत्रण हेतु प्रयास किये जा रहे है।   जिले के समस्त अधिकारी/पशु चिकित्साकर्मी व कार्यालय स्तर के अधिकारी भी सम्पूर्ण निष्ठा से प्रयास कर रहे है। जिले के समस्त गोसेवक, सामाजिक संस्था और संगठन भी देशी दवाईयां वितरित कर सहायता कर रहे हैं। अनुमान है कि 10-15 दिनों में गौवंश में लम्पी वायरस के केस आना कम हो जाएंगे।