boltBREAKING NEWS
  • भीलवाड़ा हलचल के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करें
  •  
  •  

सऊदी अरब में मात्र 60 हजार लोग पूरी करेंगे हज के रस्म की अदायगी, किसी विदेशी यात्रियों को नहीं मिली अनुमति

सऊदी अरब में मात्र 60 हजार लोग पूरी करेंगे हज के रस्म की अदायगी, किसी विदेशी यात्रियों को नहीं मिली अनुमति

नयी दिल्ली : सऊदी अरब में रविवार से हज यात्रा शुरू हो गया. कोरोना महामारी के कारण हज यात्रा में शामिल होनेवाले यात्रियों की संख्या सीमित कर दी गयी है. 'डेली पाकिस्तान डॉट कॉम' के मुताबिक, मक्का में इस साल मात्र 60 हजार लोग ही हज की रस्म अदा करेंगे.खबर के मुताबिक, वार्षिक हज यात्रा में शामिल होने के लिए 60 हजार हज यात्री सऊदी अरब की मीना घाटी में एकत्रित हुए. कोरोना महामारी के मद्देनजर किसी भी विदेशी हज यात्री को लगातार दूसरे वर्ष हज करने की अनुमति नहीं दी गयी है. वहीं, सऊदी नागरिकों की संख्या को भी कोरोना महामारी के प्रसार को रोकने को लेकर प्रतिबंधित कर दिया गया है.सऊदी अरब के केवल उन्हीं लोगों को हज यात्रा में शामिल होने की अनुमति दी गयी है, जिन्होंने कोरोना वैक्सीन की खुराक ले ली है. पांच दिन के हज यात्रा की शुरुआत में लोगों ने मिना में रात बितायी. इसके बाद वे अब अराफात में हज की नमाज की रस्म के लिए जुटे हैं. इसके बाद जायरीन निमरा मस्जिद में खुत्बा सुनेंगे. जायरीन कुर्बानी और शैतान को पत्थर मारने की रस्म के लिए फिर मिना लौट आयेंगे.

सऊदी अरब के हज और उमराह मंत्रालय ने हज की रस्मों को निभाते हुए डिजिटल सेवाओं को बढ़ाने के लिए हज स्मार्ट कार्ड लॉन्च किया है. इस स्मार्ट कार्ड के जरिये परिवहन का उपयोग, शिविरों में प्रवेश, होटलों में प्रवेश मिलेगा. साथ ही भुगतान भी एटीएम के जरिये करना होगा. यह पहल मक्का के गवर्नर सह हज कमेटी के अध्यक्ष खालिद अल फैसल ने की है. सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करने के लिए वाहनों के लेन की संख्या बढ़ा कर छह से 16 कर दी गयी है.

मालूम हो कि कोरोना महामारी से पहले साल 2019 में करीब 25 लाख हज यात्री पहुंचे थे. इनमें भारत से करीब दो लाख हज यात्री शामिल हुए थे. वहीं, पिछले साल कोरोना महामारी के कारण मात्र 10 हजार लोग ही हज यात्रा में शामिल हुए थे. अब इस साल 60 हजार लोगों को हज यात्रा की अनुमति दी गयी है