boltBREAKING NEWS

गणपति पूजन एवं देवस्थापना के साथ कार्यक्रमों का शुभारंभ

गणपति पूजन एवं देवस्थापना के साथ कार्यक्रमों का शुभारंभ

भीलवाड़ा  । भीलवाड़ा शहर के कोटा रोड़ स्थित ईरास के पास देवछाया विहार कॉलोनी में बने जिले के पहले सरस्वती मंदिर यूनेस्को टेम्पल का पांच दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा समारोह का शुभारंभ गणपति पूजन एवं देवस्थापना के साथ ही पुष्पाधिवास से शुरू हुआ।
स्टेट फेडरेशन ऑफ यूनेस्को एसोसिएशन इन राजस्थान के स्टेट कॉर्डिनेटर गोपाल लाल माली ने अधिक जानकारी देते हुए बताया कि पांच दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा समारोह के प्रथम दिन गणपति पूजन एवं देवस्थापना के साथ ही मांगलिक कार्यक्रमों का शुभारंभ आचार्य पुखराज शर्मा व अन्य पण्डितों द्वारा किया गया। इससे पूर्व मां सरस्वती व राधा-कृष्ण तथा बजरंगबली की मकराना मार्बल से बनी मूर्तियां भीलवाड़ा स्थित यूनेस्को टेम्पल में पहुंची जहां पर विध्वान पण्डितवर्य द्वारा मंत्रोच्चारण द्वारा मंदिर परिसर में उतारी गई। तत्पश्चात् पांच दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा समारोह का आगाज हुआ। इस अवसर पर विध्वान पण्डितवर्य के साथ-साथ कई जोड़ों ने मंत्रोच्चारण व मांगलिक कार्यक्रमों में भाग लिया। इस अवसर पर शंभु बुलिवाल, दुर्गा देवी, मुकेश माली, कीर्ति सैनी, जिला यूनेस्को के अध्यक्ष ज्ञानेन्द्र सिंह चौधरी, सचिव जगदीश चन्द्र मून्दड़ा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष चेतन मानसिंहका, उपाध्यक्ष लता अग्रवाल, संगठन सचिव ओम उज्ज्वल, रामचन्द्र मून्दड़ा, निदेशक कमलेश जाजू, विशाल विजयवर्गीय, हरनारायण माली, यूनेस्को यूथ क्लब के सचिव सजय शर्मा, अरविन्द अग्रवाल, शंकर लाल गोयल सहित यूनेस्को से जुड़े कई पदाधिकारी व सदस्य तथा कॉलोनीवासी उपस्थित रहे।