boltBREAKING NEWS

संस्कृत विद्यालय, पंडेर के लिए 3 कक्षा कमरों तथा 2 टॉयलेट की स्वीकृति जारी करने के निर्देश

संस्कृत विद्यालय, पंडेर के लिए 3 कक्षा कमरों तथा 2 टॉयलेट की स्वीकृति जारी करने के निर्देश

 भीलवाड़ा, । आमजन को अपनी समस्याओं के समाधान के लिए बार बार चक्कर ना लगाने पड़े, इसके लिए राज्य सरकार द्वारा आमजन की समस्याओं का स्थानीय स्तर पर निराकरण करने के लिए त्रिस्तरीय जनसुनवाई का आयोजन किया जा रहा है। यह बात जिला कलक्टर श्री आशीष मोदी ने गुरुवार को पंडेर में ग्राम पंचायत स्तरीय जनसुनवाई के दौरान कही।

पंडेर ग्राम पंचायत स्तरीय जनसुनवाई के दौरान जिला कलक्टर ने कुल 28 प्रकरण पर सुनवाई की और संबंधित अधिकारियों को उनके निस्तारण के लिए निर्देश दिए।
इस दौरान भगवानपुरा ग्राम में चारागाह भूमि में अतिक्रमण संबंधी परिवाद पर जिला कलक्टर ने ग्राम पंचायत द्वारा अतिक्रमण हटाने संबंधित नोटिस जारी करने के निर्देश दिए और कहा कि इसके पश्चात भी अगर अतिक्रमी द्वारा अतिक्रमण नहीं हटाया जाता तो एसडीएम द्वारा आगे की कार्रवाई की जाएगी। इसके अतिरिक्त ग्रामवासियों की सुरक्षा की दृष्टि से घरों व अस्पताल के ऊपर से गुजरने वाली विद्युत लाइनों को स्थानांतरित करने के लिए डिस्कॉम के अधीक्षण अभियंता को निर्देशित किया।

बच्चों से संस्कृत में किये सवाल, अध्ययन और रुचियों के संबंध ली जानकारी

जन सुनवाई के पश्चात जिला कलक्टर ने राजकीय प्रवेशिका संस्कृत विद्यालय, पंडेर का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान श्री मोदी ने देखा कि कुछ बच्चें बरामदे में ही पढ़ रहे थे। जिला कलक्टर ने तुरंत विद्यालय के लिए तीन नवीन कक्षा कमरों तथा बालक और बालिकाओं के लिए पृथक से दो टॉयलेट की स्वीकृति जारी करने के निर्देश दिए।

निरीक्षण के दौरान उन्होंने मौजूद विद्यालय के बच्चों से उनके अध्ययन और रुचियों के संबंध में बातचीत की। उन्होंने बच्चों से संस्कृत में उनका परिचय पूछा। साथ ही संस्कृत श्लोक, गायत्री मंत्र, संधि सूत्र, गद्य पद्य में अंतर तथा पाणिनि के परिचय आदि प्रश्न उत्तर बच्चों से किए। उन्होंने बच्चों को क्लेट, एनडीए, सीडीएस तथा अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के बारे में जानकारी दी और बच्चों के करियर संबंधी सवालों के जवाब भी दिए।

बच्चों के विकास में शिक्षकों और अभिभावकों की भूमिका महत्वपूर्ण

जिला कलक्टर ने कहा कि बच्चे कच्ची मिट्टी के तरह होते हैं, जिसे किसी भी आकार में गढ़ा जा सकता है। इसलिए बच्चों के विकास में शिक्षकों और उनके अभिभावकों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। साथ ही उन्होंने बच्चों को सलाह दी कि वह जो भी पढ़ते हैं उसे समझ कर पढ़ें। हमेशा मन में नई चीजों की जानकारी प्राप्त करने के लिए जिज्ञासा रखे, साथ ही प्रश्न करें और उनका उत्तर ढूंढने का प्रयास करे। उन्होंने बच्चों से कहा कि अगर वह किसी चीज को समझ कर पढ़ेंगे तो उन्हें जिंदगी भर याद रहेगा, कभी रटने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।



बिहाड़ा में ग्राम पंचायत स्तरीय जनसुनवाई

इसके पश्चात उन्होंने बिहाड़ा ग्राम पंचायत स्तरीय जनसुनवाई में सड़क निर्माण, रास्ता खुलवाने, शौचालय निर्माण, अवैध निर्माण, अतिक्रमण, पेयजल से संबंधित प्रस्तुत परिवाद में संबंधित विभागीय अधिकारियों से चर्चा करते हुए समस्याओं के त्वरित निस्तारण के निर्देश दिये।

जिले के बड़े अस्पतालों में चिरंजीवी योजना के तहत मिल रहा निःशुल्क ईलाज

उन्होंने जनसुनवाई में मौजूद लोगों को जानकारी देते हुए बताया कि जिले के लगभग सभी बड़े अस्पतालों में मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा प्रति परिवार सालाना 10 लाख रूपये तक का इलाज मुफ्त दिया जा रहा है। साथ ही दुर्घटना हो जाने पर परिवार को संबल देने के लिए मुख्यमंत्री चिरंजीवी दुर्घटना बीमा योजना के अन्तर्गत बीमित परिवार को 5 लाख रूपये तक का दुर्घटना बीमा कवर भी दिया जा रहा है। उन्होंने स्थानीय सरपंच को पंचायत कार्यालय में चिरंजीवी योजना से जुड़े जिले के अस्पतालों की सूची लगाने के भी निर्देश दिए।

  मोदी ने जनसुनवाई में मौजूद अधिकारियों को कहा कि वे नियमित रूप से जनसुनवाई में तथा कार्यालय पर आमजन की समस्याओं का निराकरण करें। उन्होंने सख्त निर्देश देते हुए कहा कि आमजन को उनकी समस्याओं के समाधान के लिए बार-बार कार्यालयों के चक्कर नहीं लगाने पड़े।

इस दौरान उपखंड अधिकारी  दामोदर सिंह, सीएमएचओ डॉ मुश्ताक खान, तहसीलदार  इंद्रजीत सिंह एवं अन्य जिला स्तरीय व ब्लॉक स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।